समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर स्वास्थ्य

Zombie Virus: कोरोना से भी बड़ी महामारी के संकेत! वैज्ञानिकों ने जिंदा किया 48,500 साल पुराना जॉम्बी वायरस

image source : social media

Zombie Virus: रूस के साइबेरिया के अधिकतर क्षेत्र जहां12 महीने बर्फ जमी रहती है।जिसे  परमाफ्रॉस्ट कहा जाता है। लेकिन ग्लोबल वार्मिंग (Global warming)के कारण अब यह बर्फ पिघलने (permafrost thawing) लगी है। इसी बर्फ के नीचे से 13 वायरस मिले हैं। जिसमें से एक 48,500 साल पुराना है और जिसे पैंडोरावायरस येडोमा (Pandoravirus yedoma) नाम दिया गया है।

48,500 साल पुराने जॉम्बी वायरस को जिंदा किया 

इस वायरस के मिलने से अब सम्भावना व्यक्त की जा रही है कि कोरोना से बड़ी महामारी इस धरती पर आ सकती है. दरअसल फ्रांस के वैज्ञानिकों ने रूस में जमी हुई झील के नीचे दबे 48,500 साल पुराने जॉम्बी वायरस (Zombie Virus) को जिंदा कर दिया है. रिपोर्ट के मुताबिक, फ्रांस के वैज्ञानिकों के इस जॉम्बी वायरस (Zombie Virus) को फिर से जिंदा करने के बाद कोरोना जैसी एक और महामारी की आशंका की जा रही है. रिपोर्ट में कहा गया है कि इस जॉम्बी वायरस (Zombie Virus) के जिंदा होने के कारण पौधों, पशु और इंसानों में और अधिक विनाशकारी स्थिति पैदा हो सकती है.

ग्लेशियर के पिघलने से बढ़ा खतरा

प्रारंभिक रिपोर्ट के अनुसार, ग्लोबल वॉर्मिंग से स्थायी रूप से जमी हुई बर्फ पिघल रही है, जो कि उत्तरी गोलार्ध के एक चौथाई हिस्से को कवर करती है. इससे दस लाख वर्षों तक जमे हुए कार्बनिक पदार्थों को अस्थिर प्रभाव पड़ा है, जिसमें घातक रोगाणु शामिल है. रिसर्च में बताया गया कि इस कार्बनिक पदार्थ के हिस्से में पुनर्जीवित सेलुलर रोगाणुओं (प्रोकैरियोट्स, एककोशिकीय यूकेरियोट्स) के साथ-साथ वायरस भी शामिल हैं जो प्रागैतिहासिक काल से निष्क्रिय रहे हैं.वैज्ञानिकों ने शायद अजीब तरह से जिंदा हुए क्रिटर्स की जांच करने के लिए साइबेरियाई परमाफ्रॉस्ट (Siberian permafrost) से इनमें से कुछ कथित जॉम्बी वायरस (zombie viruses) को जिंदा किया है.

image source : social media
image source : social media

पुराना वायरस पैंडोरावायरस येडोमा मिला 

इन वायरस में रिकॉर्ड सबसे पुराना वायरस पैंडोरावायरस येडोमा (Pandoravirus yedoma) मिला है, जो कि 48,500 साल पुराना था. यह एक जमे हुए वायरस के वापस उस फॉर्म में जहां वह अन्य प्राणियों को संक्रमित कर सकता है, आने का रिकॉर्ड है. इससे पहले इन्हीं वैज्ञानिकों को साइबेरिया में 30,000 साल पुराना वायरस मिला था.

रिसर्च में 13 वायरस का जिक्र

साइंस अलर्ट (Science Alert) की रिपोर्ट के अनुसार, रिसर्च में 13 वायरस का जिक्र है, जिनमें से प्रत्येक का अपना ही जीनोम है. Pandoravirus को येकुची अलास, याकुटिया, रूस में एक झील के तल पर खोजा गया था, जबकि बाकी वायरस को मैमथ फर से लेकर साइबेरियाई भेड़िये की आंतों तक में पाया गया.

स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है

bioRxiv पर छपी रिसर्च में वैज्ञानिकों ने बताया कि यह अमीबा वायरस पौधों, जानवरों और मनुष्यों में खतरनाक बीमारी पैदा कर सकता है. इन वायरस का जमीन से दोबारा निकलना लोगों के लिए काफी खतरनाक हो सकता है. हालांकि, इसके खतरनाक परिणामों को जानने के लिए अभी काफी शोध करना बाकी है. वैज्ञानिकों ने बताया कि ये सभी जॉम्बी वायरस (zombie viruses) में संक्रामक होने की क्षमता है और इसके रिसर्च के बाद कहा जा सकता है कि यह स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा साबित हो सकता है उनका मानना है कि भविष्य में Covid 19 के जैसी महामारी और आम हो जाएगी.

ये भी पढ़ें : Huma Qureshi का ‘मोनिका ओ माय डार्लिंग’ की सक्सेस पार्टी में दिखा जलवा, हॉट लुक पर मच गया बवाल

 

Related posts

PM के भाई प्रह्लाद मोदी की कार का बेंगलुरु के पास हुआ एक्सीडेंट, पूरा परिवार घायल

Pramod Kumar

Covid-19: दुनियाभर में कोरोना महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 50 लाख पार, भारत में सुधर रहे हालात

Pramod Kumar

Jharkhand: दुनिया का सबसे लंबा रिवर Cruise Ganga Vilas पहुंचा साहिबगंज, झारखंड के पर्यटन को भी करेगा बूम

Pramod Kumar