समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Zombie Drug: इस दवा के असर से जॉम्बी बन रहे लोग! लोगों में फैली दहशत

image source : social media

Zombie Drug: अमेरिका में जाइलाजाइन (Xylazine) नामक दवा का इस्तेमाल बढ़ रहा है. आमतौर पर इस दवा का इस्तेमाल जानवरों पर किया जाता है, जिससे जानवरों को बेहोश करने में मदद मिलती है. लेकिन अमेरिका के कई शहरों में युवा भी इस दवा (Zombie Drug) को बतौर ड्रग इस्तेमाल कर रहे हैं और इससे उन्हें भी बेहोशी जैसी नींद आना, सांसे धीमी हो जाने की समस्या हो रही है. बार-बार इस ड्रग का इस्तेमाल करने वाले या फिर ज्यादा डोज लेने वाले लोगों की मौत भी हो रही है. साथ ही इस ड्रग के इस्तेमाल से लोगों की त्वचा सड़ रही है और वह जॉम्बी जैसे दिख रहे हैं.

image source : social media
image source : social media

दवा ने कहर मचा दिया 

अमेरिका (US) में इस दवा के सेवन के बाद होने वाले साइड इफेक्ट से प्रभावित शख्स किसी जॉम्बी (Zombie) जैसा दिखता है. इस दवा ने US में कहर मचा दिया है. भुक्तभोगियों को देखने वाले लोगों का कहना है कि यह नई दवा इंसानों को जॉम्बी में बदल रही है. इस दवा को ट्रैंक या ट्रैंक डोप (Tranq Dope) और जॉम्बी ड्रग (Zombie Drugs) जैसे नामों से जाना जाता है, इसका इस्तेमाल करने वाले शख्स की त्वचा सड़ने लगती है.

image source : social media
image source : social media

नशे के लिए हो रहा इस्तेमाल 

अमेरिका के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन ने जानवरों पर जिस Xylazine (Zombie Drug) के इस्तेमाल की मंजूरी दी थी, लेकिन यही दवा अब जानलेवा हो गई है. कहा जा रहा है कि कुछ लोग इसका इस्तेमाल नशे के लिए कर रहे हैं. जिसका इंसानों के ऊपर बहुत बुरा असर पड़ रहा है. इस ड्रग्स के असर की बात करें, इसका रूप और गुण धर्म किसी बेहोशी वाली दवा के जैसा है. इसे लेने वाले शख्स को तुरंत नींद आने लगती है, उसकी सांसें धीमी हो जाती हैं. वहीं इसके साथ स्किन सड़ने की वजह से त्वचा में जख्म उभरने लगते हैं, जो इस ड्रग्स के बार-बार इस्तेमाल से लगातार बढ़ते जाते हैं. कुछ मामलों में तो एक वक्त ऐसा आता है कि इंसान की त्वचा इस तरह सड़ जाती है कि आखिर में मरीज की जान बचाने के लिए शरीर के उस अंग को काटना पड़ जाता है.

image source : social media
image source : social media

लोगों में दहशत

‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ में एक प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक Xylazine का इस्तेमाल पशुओं को बेहोश करने के लिए किया जाता है. लेकिन बहुत से लोग अब इसका इस्तेमाल हेरोइन जैसे ड्रग्स के लिए सिंथेटिक कटिंग एजेंट के रूप में कर रहे हैं. यह ड्रग्स पहले फिलाडेल्फिया में पकड़ी गई, जिसके बाद सैन फ्रांसिस्को समेत अमेरिका के कई शहरों में इस दवा की खपत तेजी से बढ़ी है. जिसके बाद कोई शारीरिक रूप से बीमार हुआ है तो कोई मानसिक तौर पर बीमार हो रहा है. ऐसे में देश का स्वास्थ्य विभाग चौकन्ना होकर इस ड्रग्स से प्रभावित लोगों की देखरेख और इलाज करवा रहा है.

 ये भी पढ़ें : होली से पहले PM मोदी ने किया लोकल फॉर वोकल का आह्वान, देशवासियों से कही ये बात

 

Related posts

Simdega Gang Rape: सिमडेगा में शौच करने गई नाबालिग के साथ गैंगरेप, मनचलों ने की हैवानियत की हद पार

Manoj Singh

Dhanbad: रामनवमी पर राममय हुआ कोयलांचल, हर तरफ गूंज रहा जय श्रीराम का उद्घोष

Manoj Singh

ICC Ranking: बाबर को पछाड़ ये खिलाड़ी बना दुनिया का नंबर 1 बल्लेबाज, चौथे स्थान पर खिसके सूर्यकुमार

Manoj Singh