समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Yasin Malik: NIA कोर्ट ने यासीन मलिक को दिया दोषी करार, 25 मई को सजा पर होगा फैसला

Yasin Malik

पाकिस्‍तान के प्रायोजित आतंकवादी यासिन मलिक (Yasin MALIK) को आतंकी फंडिंग (Terror funding case) मामले में एनआईए (NIA) की अदालत में दोषी पाया गया है. कोर्ट ने यासिन मलिक को दोषी करार दिया है. यासिन मलिक की सजा पर अब 25 मई को फैसला होगा. कोर्ट ने तब तक NIA को यासिन मलिक की आर्थिक स्थिति पता करने को कहा है.

यासीन मलिक पर कई गंभीर आरोप

आपको बता दें कि यासीन मलिक पर आपराधिक साजिश रचने, देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने, अन्य गैरकानूनी गतिविधियों के साथ कश्मीर में शांति भंग करने का आरोप भी लगा है. यासीन मलिक को दिल्ली की एनआईए कोर्ट ने आतंकवाद और 2017 में कश्मीर घाटी में अलगाववादी गतिविधियों से संबंधित एक मामले में दोषी करार दिया था. उसे गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम का भी दोषी पाया गया है.

मलिक को कितनी सजा?

एनआईए की कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई करने के दौरान ये भी कहा था कि मलिक ने स्वतंत्रता आंदोलन के नाम पर जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आतंकवादी और अन्य गैरकानूनी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए दुनिया भर से फंडिग जुटाने के लिए तंत्र बनाया था. अब मलिक को इस मामले में कितनी सजा मिलेगी इसपर फैसला 25 मई को होगा.

आतंकवादी संगठनों के साथ अपने घनिष्ठ संबंधों का भी इस्तेमाल किया था

गौरतलब है कि 16 मार्च के आदेश में, एनआईए के विशेष न्यायाधीश प्रवीण सिंह ने कहा था कि गवाहों के बयान और सबूतों के विश्लेषण से पता चलता है कि आरोपी ने इस मामले में बाकी लोगों को एक सामान्य उद्देश्य से जोड़ा था. आरोपी मलिक ने पाकिस्तान से निर्देश लेते हुए अपनी गतिविधियों के लिए फंड जुटाने के साथ आतंकवादी संगठनों के साथ अपने घनिष्ठ संबंधों का भी इस्तेमाल किया था.

मलिक के गुनाहों की सूची 

यासीन मलिक के गुनाहों की सूची बहुत लंबी है. बताते चलें कि दोषी ने कोर्ट में कहा था कि वो यूएपीए (UAPA) की धारा 16 (आतंकवादी गतिविधि), 17 (आतंकवादी गतिवधि के लिए धन जुटाने), 18 (आतंकवादी कृत्य की साजिश रचने), व 20 (आतंकवादी समूह या संगठन का सदस्य होने) और भारतीय दंड संहिता की धारा 120-बी (आपराधिक साजिश) व 124-ए (देशद्रोह) के तहत खुद पर लगे आरोपों को चुनौती नहीं देना चाहता.

ये भी पढ़ें : Navjot Singh Sidhu को रोडरेज केस में जेल, सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

Related posts

Chhatisgarh: आखिर भूपेश बघेल क्यों डरे CBI-ED Raid से! यूपीए विधायकों को पनाह देने पर ये क्या बोले CG CM

Pramod Kumar

Jharkhand: नक्सलियों पर एक्शन में कारगर हैं ध्रुव हेलीकॉप्टर, पायलट बिना कैसे चले अभियान, डीजीपी ने गृह कारा को लिखा पत्र

Pramod Kumar

Jharkhand: हर किसान को सबल बनाने को प्रयासरत है सरकार, प्रोसेसिंग यूनिट में 3575 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार

Pramod Kumar