समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

World Ozone day 2022: आज के दिन हर साल क्यों मनाया जाता है ‘वर्ल्ड ओजोन डे’? जानें इस दिन का महत्व

World Ozone day 2022

World Ozone Day 2022 : ओजोन के बारे में हम सभी ने स्कूल में जरूर पढ़ा था, लेकिन इसके संरक्षण के लिए शायद ही कुछ किया हो. लेकिन, जब हम पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ते जाते हैं तो हमारा फर्ज बनता है कि अपने बच्चों को भी ओजोन का महत्व बताएं और उन्हें वो गलतियां करने से रोकें जो हम करते रहे हैं. ओजोन लेयर (Ozone Layer) के संरक्षण और लोगों को इस विषय में जागरुक करने के लिए ही 1994 में सयुंक्त राष्ट्रसंघ (UN) की जनरल असेंबली ने 16 सितंबर के दिन को अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस (International Day For Preservation Of Ozone) घोषित किया और तभी से हर साल इसे मनाया जाने लगा.

पूरी दुनिया भले ही देश, भाषाओं, रंग रूप, संस्कृति और सभ्यताओं में बंटी हुई है, लेकिन सभी एक भी पर्यावरण में रहते हैं. पर्यावरण की रक्षा और सही प्रकार देखभाल करना हर किसी की जिम्मेदारी है. बीते कुछ सालों में आपने ओजोन परत (Ozone Layer) के बारे में आपने काफी कुछ सुना होगा. यूनाइटेड नेशन एनवायरमेंट प्रोग्राम (UNEP) के मुताबिक समय के साथ गुड ओजोन यानी स्ट्रैटोस्फेरिक ओजोन डैमेज हो रही है. यह परत पृथ्वी पर पड़ने वाली सूरज की हानिकारक अल्ट्रावायलेट किरणों से सभी का बचाव करती है. ओजोन परत के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 16 सितंबर को वर्ल्ड ओजोन डे मनाया जाता है. इस दिन के महत्व और इतिहास के बारे में जानते हैं.

क्या है वर्ल्ड ओजोन डे का इतिहास?
वर्ल्ड ओजोन डे मनाने के पीछे का आइडिया केवल लोगों को ओजोन परत के बारे में जानकारी देना और डैमेज हो रही ओजोन परत के प्रति जागरूक करना है. अगर लोग प्रदूषण को कम कर दें तो ओजोन परत को डैमेज से बचाया जा सकता है. 19 दिसंबर 1964 में यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली ने ओजोन परत के संरक्षण के लिए 16 सितंबर को वर्ल्ड ओजोन डे के तौर पर मनाए जाने की घोषणा की थी. 1964 के बाद से वर्ल्ड ओजोन डे हर वर्ष मनाया जाता है.

ये भी पढ़ें – स्थानीय नीति का मास्टर स्ट्रोक? हेमंत सोरेन के फैसलों को पहले ही असंवैधानिक बता चुका है कोर्ट

World Ozone day 2022

Related posts

ED ने अधिवक्ता राजीव कुमार को 8 दिनों की रिमांड में लिया, अभी कोलकाता की जेल में बंद हैं राजीव

Sumeet Roy

Jharkhand: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रामगढ़-रांची एनएच पर हुई सड़क दुर्घटना पर जताया शोक

Pramod Kumar

INDIGO ने रांची में दिव्यांग को फ्लाइट पर चढ़ने से रोका, केंद्रीय मंत्री ने ट्वीट कर जमकर लगाई फटकार

Sumeet Roy