समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

World Meteorological Day 2022: जानें विश्व मौसम विज्ञान दिवस का महत्व और कब हुई थी इसकी शुरुआत

World Meteorological Day

World Meteorological Day : विश्वभर में 23 मार्च का दिन विश्व मौसम विज्ञान दिवस के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है. जिसका मकसद लोगों को मौसम विज्ञान के साथ इसमें हो रहे परिवर्तनों से रू-ब-रू और जागरूकता को फैलाना है. हर वर्ष इसके लिए एक थीम निर्धारित किया जाता है जिस पर पूरे साल भी किया जाता है.

कब हुई थी इसकी शुरूआत 

मौसम के मूड को भांपने और उसके पॉजिटिव-निगेटिव प्रभाव को जानने के मकसद से वर्ष 1950 में विश्व मौसम विज्ञान संगठन की स्थापना हुई थी. इसका मुख्यालय जिनेवा, स्विटजरलैंड में है. वर्ल्ड मेट्रोलॉजिकल आर्गेनाइजेशन में कुल 191 सदस्य देश एवं इलाके हैं. इस संगठन का उपयोग बाढ़, सूखा और भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं का अनुमान लगाने के लिए करते है. जिससे समय रहते इससे होने वाली हानि से बचा जा सके.

विश्व मौसम विज्ञान दिवस का इतिहास

सन् 1950 में आज से 71 साल पूर्व विश्व मौसम विज्ञान संगठन की स्थापना की गई थी. संस्था के अस्तित्व अथवा स्थापना के जश्न को मनाने के लिए प्रतिवर्ष 23 मार्च को विश्व मौसम विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाने लगा. विभिन्न देश विश्व मौसम विज्ञान संगठन के सदस्य हैं. सदस्य राष्ट्र प्रतिवर्ष अनिवार्य रूप से विश्व मौसम विज्ञान दिवस को एक विशेष विषय के साथ मनाते आ रहे हैं.

कैसे मनाया जाता है यह दिवस 

जैसा कि पहले ही कहा जा चुका है विश्वभर में 191 देश वर्ल्ड मेट्रोलॉजिकल आर्गेनाइजेशन के सदस्य हैं. इस दिन, विश्वभर में कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन भी होता है. लोगों को उन चीज़ों के प्रति जागरूक करने की कोशिश भी की जाती है जिससे मौसम का मिजाज़ बदलता है और प्राकृतिक आपदाएं आती हैं. विश्व मौसम विज्ञान दिवस के दिन स्कूल, कॉलेज, ऑफिसेज़ में कई प्रकार की डिबेट, आर्ट कॉम्पिटिशन को भी आयोजित किया जाता है . जिसमें बच्चों से लेकर वैज्ञानिक तक मिलकर अपने विचार एक-दूसरे के सामने रखते हैं.

ये भी पढ़ें – Hyderabad Fire News: हैदराबाद में कबाड़ गोदाम में लगी भीषण आग, 11 मजदूर जिंदा जले

World Meteorological Day

Related posts

Navratra: मां दुर्गा इस बार आ रहीं डोली पर, कितना शुभ है मां का यह आगमन?

Pramod Kumar

Indian Railways: रेल यात्रियों के लिए काम की खबर! 1 जनवरी से रेलवे कर रहा बड़ा बदलाव, सभी पर होगा असर

Manoj Singh

जिनोम सिक्वेंसिंग मशीन क्यों नहीं खरीदना चाहती झारखंड सरकार? हाईकोर्ट की लग चुकी है फटकार

Pramod Kumar