समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

World Earth Day 2022: जानें क्या है ‘विश्व पृथ्वी दिवस’ का इतिहास और इस साल की थीम

World Earth Day 2022

World Earth Day 2022: वर्ल्ड अर्थ डे यानी विश्व पृथ्वी दिवस हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाता है. ये दिन एक मौका होता है जब करोड़ों लोग मिलकर पृथ्वी से जुड़ी पर्यावरण की चुनौतियों जैसे कि, क्लाइमेट चेंज. ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण और जैवविविधता संरक्षण के लिए प्रयास करने में और जागरुक हों और इसमें तेजी लाएं. इस दिन को इंटरनेशनल मदर अर्थ डे के रूप में भी जाना जाता है. इसे मनाने का मकसद यही है कि लोग पृथ्वी के महत्‍व को समझें और पर्यावरण को बेहतर बनाए रखने के प्रति जागरूक हों. यही वजह है कि इस दिन पर्यावरण संरक्षण और पृथ्वी को बचाने का संकल्प लिया जाता है.

विश्व पृथ्वी दिवस के दिन पेड़ लगाकर, सड़क के किनारे कचरा उठाकर, लोगों को टिकाऊ जीवन जीने के तरीके अपनाने के लिए प्रेरित करने जैसे विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करके सेलिब्रेट किया जाता है. इसके अलावा बच्चों में जागरूकता फैलाने के लिए इस दिन स्कूलों और विभिन्न समाजिक संस्थाओं द्वारा कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.

इस दिन का महत्व
साल 1970 से हर साल 22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस मनाया जाता है. इस दिन को जैव विविधता के नुकसान, बढ़ते प्रदूषण जैसे पर्यावरणीय मुद्दों को उजागर करने के लिए मनाया जाता है. इस दिन अर्थ डे ऑर्गेनाइजेशन (पूर्व में अर्थ डे नेटवर्क) द्वारा विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. इसमें 193 देशों के 1 बिलियन से अधिक लोग शामिल हैं.

क्या है साल 2022 की थीम
इस साल वर्ल्ड अर्थ डे की थीम है, ‘इन्वेस्ट इन आवर अर्थ’. मतलब ‘हमारी पृथ्वी में निवेश करें’. इसमें मुख्य बिंदू (की प्वाइंट) है साहसिक तरीके से काम करना, व्यापक रूप से इनोवेशन करना और न्यायसंगत तरीके से लागू करना है. इससे पहले साल 2021 में वर्ल्ड अर्थ डे की थीम ‘रिस्टोर अवर अर्थ’ और साल 2020 की थीम ‘क्लाइमेट एक्शन’ थी.

इतिहास
विश्व पृथ्वी दिवस ग्लोवल स्तर पर 192 देशों द्वारा मनाया जाता है. 60-70 के दशक में जंगलों और पेड़ों की अंधाधुन्ध कटाई को देखते हुए सितम्बर 1969 में सिएटल, वाशिंगटन में एक सम्मलेन में विस्कोंसिन के अमेरिकी सीनेटर जेराल्ड नेल्सन ने इसे मनाने की घोषणा की. इस राष्ट्रव्यापी जन आंदोलन में अमेरिका के स्कूल और कॉलेजों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. और इस सम्मेलन में 20 हजार से अधिक लोग इक्कट्ठा हुए. साल 1970 से लगातार ये दिवस मनाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें – Jammu Kashmir Terrorist Attack: PM Modi के जम्मू कश्मीर दौरे से पहले 2 आतंकी हमले, जवानों को ले जा रही बस पर अटैक में ASI शहीद

Related posts

UPSC की प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को एक लाख की एकमुश्त आर्थिक सहायता देगी झारखंड सरकार

Manoj Singh

Tokyo Paralympics: सुमित अंटिल ने जेवलिन थ्रो में वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ जीता गोल्ड

Pramod Kumar

RDBA के अध्यक्ष पद पर फिर से काबिज हुए शंभू प्रसाद अग्रवाल, विनॉय कुमार राय उपाध्यक्ष, संजय विद्रोही बने सचिव

Manoj Singh