समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

World Diabetes Day: मधुमेह के खतरों को समझें, संतुलित जीवन शैली ही है एकमात्र उपाय

Diabetes Day

World Diabetes Day: यानी ‘विश्व मधुमेह दिवस’ प्रतिवर्ष 14 नवंबर को मनाया जाता है। यह दिवस मधुमेह से उपजे खतरों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। इसकी शुरुआत 1991 में अंतर्राष्ट्रीय मधुमेह संघ (आईडीएफ) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा की गयी थी। 160 से अधिक देशों में विश्व के सबसे बड़े मधुमेह जागरूकता अभियान की शुरुआत हुई थी।
आज हम कोरोना काल में जी रहे हैं। इस महामारी ने हमें संयमित जीवन जीने का पाठ पढ़ा दिया है। मधुमेह के साथ भी ऐसा ही है। जब किसी को मधुमेह रोग हो जात है तब उसकी पूरी जीवन शैली ही बदल जाती है। इसलिए यह दिवस मनाकर हम खुद को ही एक संदेश देते हैं कि अच्छी जीवन शैली के साथ हम जीवन पर्यन्त सुखी जीवन जी सकते हैं।
डायबिटीज एक जहर है लेकिन इसके परिणामों से बचा जा सकता है। एक समय था जब डायबिटीज की समस्या बुजुर्गों में ही आम मानी जाती थी, लेकिन अब इसके प्रभाव में युवा और बच्चे भी आने लगे हैं। साल दर साल इस बीमारी का दायरा बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि लोग इसके बारे में जागरूक रहें। डायबिटीज वह बीमारी है जिसे पूरी तरह ठीक नहीं किया जा सकता। लेकिन लाइफस्टाइल को बदल कर इस पर नियंत्रण अवश्य किया जा सकता है।

डायबिटीज क्या है?

डायबिटीज एक क्रोनिक रोग है, जिसमें व्यक्ति की रक्त शर्करा उच्च (हाइपरग्लेसीमिया) हो जाती है या शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाता हैं या शरीर इंसुलिन के प्रति ठीक से प्रतिक्रिया नहीं करता है। इंसुलिन अग्नाशय द्वारा उत्पादित हार्मोन है। यह ऊर्जा बनाने के लिए शरीर की कोशिकाओं द्वारा उपयोग किए जाने के लिए ग्लूकोज (कार्बोहाइड्रेट खाद्य पदार्थ को ग्लूकोज में विभाजित करता है) में मदद करता है। लंबी अवधि में हाइपरग्लेसेमिया शरीर की क्षति और विभिन्न अंगों एवं ऊतकों की विफलता के साथ जुड़ा है।

विश्व मधुमेह दिवस की शुरुआत?

सर फ्रेडरिक बैंटिंग (Sir Frederick Banting) के जन्मदिन को ही हर वर्ष 14 नवंबर के दिन वर्ल्ड डायबिटीज डे के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने 1921 में चार्ल्स बेस्ट (Charles Best) के साथ मिलकर इंसुलिन की खोज की थी।1991 से हर साल इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन (International Diabetes Federation) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) की ओर से मधुमेह के बढ़ते खतरे के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए यह दिवस मनाया जाता है। डॉक्टर्स की मानें तो इस बीमारी में लोगों को अपने खान-पान में हरी सब्जियों को विशेष रूप से शामिल करना चाहिए। शारीरिक व्यायाम इस बीमारी में काफी कारगर है। इन उपायों से इस बीमारी पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

2021 का थीम

आईडीएफ यानी International Diabetes Federation हर साल विश्व मधुमेह दिवस (World Diabetes Day) के मौके पर हर साल अलग थीम तय करता है। इस साल का थीम ‘डायबिटीज केयर तक पहुंच,अभी नहीं तो कब?’ (Access To Diabetes Care-If Not Now, When?) रखा गया है।

इन बातों का रखे खास ख्याल

अपने लाइफस्टाइल में बदलाव करें। हरी सब्जियों का मुख्य रूप से सेवन करें। रोजाना कम से कम आधा या एक घंटा सुबह और शाम जरूर टहलें। योग करना न भूले। योग को अपने जीवन शैली में जरूर रखें। शुगर बढ़ाने वाली चीजें, जैसे- चीनी,आलू, मिठाई ,इत्यादि से दूर रहें और सिर्फ शुगर फ्री चीज़ों का ही सेवन करें।
डायबिटीज क्यों है खतरनाक?
डायबिटीज के रोगी हर वर्ष बढ़ते जा रहे है। विश्व में चीन के बाद भारत में मधुमेह के रोगियों की संख्या सबसे अधिक है। डायबिटीज न सिर्फ हार्ट के लिए बेहद खतरनाक जहर है, बल्कि यह लिवर और आंखों को भी तकलीफ देता है।
यह भी पढ़ें: T20 WC: आस्ट्रेलिया या न्यूजीलैंड कौन मारेगा बाजी आज होगा फैसला, कीवियों को हल्के में नहीं लेंगे कंगारू

Related posts

Farm laws repeal: कैबिनेट ने तीनों कानून रद्द करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी, शीतकालीन सत्र में पेश होगा बिल

Manoj Singh

मोदी सरकार ने GST के 44,000 करोड़ रुपए की बकाया राशि निर्गत की, Jharkhand/ Bihar को भी मिला फायदा

Sumeet Roy

सुनंदा पुष्कर मौत मामले में शशि थरूर को बड़ी राहत, दिल्ली की कोर्ट ने किया आरोपों से मुक्त

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.