समाचार प्लस
Breaking फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

अब आठ घंटे से अधिक काम करवाया तो देनी होगी दोगुनी सैलरी, सप्ताह में 48 घंटे ही काम करेंगे कामगार

Working Hours in Bihar

Working Hours in Bihar: बिहार(Bihar) के कल-कारखानों में आठ घंटे से अधिक काम कराने पर कामगारों को दोगुना वेतन देना होगा। श्रम संसाधन विभाग ने इसके लिए नियमावली बना दी है। विभाग के इस निर्णय का लाभ राज्य के निबंधित आठ हजार से अधिक फैक्ट्री के दो लाख से अधिक कामगारों को होगा। विभाग ने कामगारों व नियोक्ताओं के बीच बेहतर संबंध बनाने के लिए नियमावली बनाई है।

विशेष परिस्थिति में एक दिन में अधिकतम 12 घंटे तक ही काम लिया जा सकेगा

इसके तहत तय किया गया है कि निबंधित कारखानों में काम करने वाले कामगारों से तय अवधि में ही काम लिया जाए । एक कामगार से अधिकतम आठ घंटे ही काम लिया जाएगा। इस तरह सप्ताह में एक साप्ताहिक अवकाश को मिलाकर कामगार से अधिकतम 48 घंटे ही काम लिया जा सकेगा। विशेष परिस्थिति में अगर कोई नियोक्ता चाहे तो वे कामगार से आठ घंटे से अधिक काम ले सकते हैं, लेकिन एक दिन में अधिकतम 12 घंटे तक ही काम लिया जा सकेगा।

तय समय से अधिक काम नहीं करा सकते 

अगर आपातकालीन स्थिति में कामगारों से एक दिन में 12 घंटे से अधिक काम लिए गए तो किसी वर्ष की एक तिमाही में 125 घंटे ही कामगारों से काम लिए जाएंगे। तय समय से अधिक काम कराने पर विभाग ने साफ कर दिया है कि अगर कोई कामगार आठ घंटे से अधिक काम करेगा तो उसे ओवरटाइम के तौर पर दोगुना वेतन देना होगा।

दो तरह के काम के लिए लेनी होगी सरकार से अनुमति

कामगारों को यह राशि दैनिक या मासिक के तौर पर दी जा सकेगी। कामगारों के काम की प्रवृत्ति एक तरह की होगी। अगर कोई कामगार दो तरह के काम करना चाहें तो राज्य सरकार से उसकी अनुमति लेनी होगी। विशेष परिस्थतियों के आधार पर ही कामगारों को एक से अधिक प्रवृत्ति के काम करने की अनुमति दी जाएगी।
ये भी पढ़ें :Tejashwi की चेतावनी, बिहार में जातिगत जनगणना के बिना कोई और जनगणना नहीं होने देंगे

 

Related posts

Jharkhand Corona Update: गिरफ्तार व्यक्तियों के लिए थानों में बना Isolation Ward, एसएसपी ने जारी की गाइडलाइन

Manoj Singh

टूट रही नक्सलियों की कमर, आत्मसमर्पण ही एकमात्र विकल्प : DGP Niraj Sinha

Sumeet Roy

जीवन-प्रत्याशा पर पॉपुलेशन एंड डेवलपमेंट रिव्यू जर्नल का चौंकाने वाला सर्वे:  दलितों, मुस्लिमों से ज्यादा जीते हैं सवर्ण

Pramod Kumar