समाचार प्लस
Breaking किशनगंज बिहार

बिहार की पहली चाय फैक्ट्री की मालकिन बनेंगी जीविका दीदी, मिलेगा रोजगार का सहारा

tea factory kishanganj

न्यूज़ डेस्क / समाचारप्लस (झारखंड/ बिहार)

किशनगंज जिले की जीविका से जुड़ी दीदियां अब बिहार की पहली चाय फैक्ट्री की मालकिन बनने जा रही है। दरअसल, किशनगंज जिले के पोठिया प्रखंड के केचकेचीपाड़ा गांव में स्थित सरकारी चाय फैक्ट्री राज्य की पहली फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी होगी।

जिसे भारत सरकार की मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स से बीते जून महीने में प्रमाण-पत्र मिल चुका है। यह चाय फैक्ट्री अब महानंदा जीविका महिला एग्रो प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के नाम से संचालित होगी। पोठिया प्रखंड की जीविका दीदियों को फैक्ट्री की चाभी जल्द ही सौंप दी जायेगी।

पोठिया के 9 चाय उत्पादक समूह से जुड़ी 350 जीविका दीदीयां यहां चाय उत्पादन के साथ पैकेजिंग एवं मार्केटिंग का काम करेंगी और आगे भी नये चाय उदपादक समूह बनाये जाने पर उन्हें भी क्रमबद्ध समय अंतराल पर जोड़ते रहेंगे। इससे जीविका दीदियों के आर्थिक स्थिति में बेहतर सुधार होगा।

हाल ही में ब्लॉक प्रोजेक्ट मैनेजर रंजीत कुमार शर्मा द्वारा जीविका दीदीयों को चाय की हरी पत्ती की कटाई एवं इसके उद्योग से जुड़े प्रशिक्षण भी दिए गए है। वर्तमान में दर्जनों जीविका दीदियां इस चाय फैक्ट्री में काम कर रही है और अपने चाय बागान की हरी पत्ती भी फैक्ट्री में निर्धारित मूल्य पर दे रही है।

इस चाय फैक्ट्री का निर्माण वर्ष 2003 में स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय और टी बोर्ड की मदद से किया गया था। फैक्ट्री निर्माण के बाद वर्ष 2015 में इसे 10 वर्षो के लिए बतौर लीज पर ग्रामीण विकास विभाग किशनगंज द्वारा पश्चिम बंगाल के सिल्लीगुड़ी की संचेती टी कंपनी को दिया गया है। जिसकी अवधि आगामी 2024 में पूर्ण होगी। जिसके बाद पूर्णतः इस फैक्ट्री की बागडोर जीविका दीदियों के हाथ मे आ जायेगा।

इसे भी पढ़ें : बदलने वाला है आपके टीवी सीरियल का पता, ZEE-SONY का होने जा रहा मर्जर

Related posts

Engineer’s Day 2021: जानिए,कौन था वो जिसने ट्रेन में बैठते ही बता दिया पटरी टूटी है

Manoj Singh

बिहार में म्यांमार का 2.86 करोड़ का सोना बरामद, Press लिखे कार के इंजन में छिपाकर रखे थे 35 बिस्किट

Manoj Singh

‘मुफ्त’ कोरोना वैक्सीन का पैसा महंगे पेट्रोल-डीजल से वसूल रही सरकार? जानें सच्चाई

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.