समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

कांग्रेस का बॉस होगा कौन? शशि थरूर, अशोक गहलोत या कोई और… या फिर बेताल बैठेगा डाल पर?

Who will be the boss of Congress? Shashi Tharoor, Ashok Gehlot or anyone else...

अलग-अलग क्यो हैं सोनिया और राहुल के बयान?

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

23 सितम्बर को कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी होने वाली है। 24 सितम्बर से अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने वाले पर्चे दाखिल कर सकेंगे। 17 अक्टूबर को नये अध्यक्ष को चुने जाने के लिए मतगणना होनी है और 19 अक्टूबर को पता चल जायेगा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी का गांधी परिवार से अलग अध्यक्ष कौन बना है। यह तो कांग्रेस के द्वारा घोषित अध्यक्ष पद के चुनाव के कार्यक्रम के अनुसार है। लेकिन अभी तक यह पता नहीं चला है कि क्या वाकई कांग्रेस में कोई परिवर्तन होने वाला है या यह सिर्फ छलावा मात्र है। कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व किस दिशा में जा रहा है यह भी पता नहीं चल रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी अगर सीधे-साधे शब्दों में कह रही हैं कि कांग्रेस का अध्यक्ष कोई भी बन सकता है, वहीं राहुल गांधी गोल-गोल बातें सुनकर सुनने वाला गोल-गोल घूमने लगता है।

बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर को अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने की सोनिया गांधी की ओर से इजाजत मिल चुकी है। शशि थरूर सोमवार को सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे। इस मुलाकात में सोनिया गांधी ने उनके अध्यक्ष पद पर चुनाव लड़ने की सहमति दे दी। इसके बाद शशि थरूर और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इस चुनावी समर में उतरने की अटकलें लगने लगीं है। लेकिन इसी दिन यानी सोमवार को ही राहुल गांधी ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के बीच समय निकाल कर नौक विहार करने निकल पड़े। इस दौरान उन्होंने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर किया जिसमें गोल-मोल बातें कर उन्होंने संशय पैदा कर दिया।केरल में नौका दौड़ की फोटो लगाकर फेसबुक पोस्ट में राहुल ने लिखा, ‘जब नाव बीच मंझधार में फंस जाए, तब पतवार अपने हाथ में लेनी ही पड़ती है। ना रुकेंगे, ना झुकेंगे, भारत जोड़ेंगे।’

आखिर राहुल गांधी कहना चाहते हैं? राहुल गांधी के इस पोस्ट में नाव क्या है और पतवार क्या है, यह तो पता नहीं, लेकिन उनका यह बयान ‘भारत जोड़ो यात्रा’ से तो कतई मैच नहीं कर रहा है। वैसे भी जबसे गांधी परिवार से इतर कांग्रेस अध्यक्ष की बात चल रही है कई बातें होती रही हैं जिससे यह पता नहीं चल रहा कि वाकई गांधी परिवार चाह क्या रहा है? अध्यक्ष पद चुनाव को लेकर कांग्रेस दो धड़ों में बंटा हुआ जरूर है। एक धड़ा तो अब भी यही चाहता है कि राहुल गांधी ही कांग्रेस की कमान सम्भालें। 7 राज्यों की कांग्रेस कमेटियां राहुल गांधी को ही फिर से पार्टी अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव भी पास कर चुकी हैं। कांग्रेस अध्यक्ष की रेस में भले ही राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत का नाम आगे चल रहा है, लेकिन राहुल गांधी को ही फिर से अध्यक्ष बनाने के लिए सबसे ज्यादा मुखर आवाज उन्हीं की है। इन सब बातों ये तो यही लगता है कि सारा कुछ दिखावे के लिए हो रहा है? और पहले से तय है कि राहुल गांधी को ही एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष चुन लिया जाये? अगर वाकई में ऐसा होता है तो कांग्रेस में नाराज नेताओं की एक नई भीड़ फिर से दिखेगी? वैसे कांग्रेस का अध्यक्ष कोई भी बने, उस पर प्रभाव तो गांधी परिवार का ही रहेगा।

यह भी पढ़ें: झारखंड भाजपा के प्रदेश प्रभारी लक्ष्मीकांत वाजपेयी का झारखण्ड आगमन, देवघर में करेंगे बैठक, बाबूलाल मरांडी भी होंगे शामिल

Related posts

Ananya ने कर्वी फिगर फ्लॉन्ट करते हुए शेयर की फोटो, गर्मी में और बढ़ा डाला इंटरनेट का पारा

Manoj Singh

झारखंड की छुटनी महतो होंगी पद्मश्री से सम्मानित, लेकिन छुटनी नहीं जा सकती दिल्ली, जानिए वजह

Sumeet Roy

पाकिस्तान के पेशावर में जुम्मे की नमाज के दौरान मस्जिद में धमाका, अब तक 46 लोगों की मौत, 50 से ज्यादा घायल

Pramod Kumar