समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand कब कम करेगा ईंधन पर वैट का ‘वेट’, ‘आधे-अधूरे वैट सिस्टम’ पर पीठ न थपथपाये सरकार

When will Jharkhand reduce VAT on fuel?

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

माना कि झारखंड सरकार अपनी राजनीतिक उलझनों में उलझी हुई है। सरकार को चिंता समझी जा सकती है, लेकिन राज्य का अभिभावक होने के कारण सरकार को जनता की चिंता भी समझनी होगी, वह भी अति शीघ्र। केन्द्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम करके देश की जनता को बड़ी राहत दे चुकी है, अब बारी सरकारों की है। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों की एक बैठक में उनसे अपील की थी कि वे पेट्रोल-डीजल पर अपने हिस्से के वैट में कमी कर जनता को राहत दें। उस समय कई राज्यों, खासकर गैर भाजपाई राज्यों ने यह दलील देते हुए कि पहले केन्द्र एक्साइज ड्यूटी घटाए तब वे वैट कम करने पर विचार करेंगे। अब तो केन्द्र ने एक्साइज घटाने की अपनी ‘ड्यूटी’ पूरी कर दी है। इसके बाद कुछ राज्यों ने अपने यहां वैट भी कम किये हैं। राजस्थान, केरल और महाराष्ट्र ने वैट से अपने राज्य के नागरिकों को राहत दे दी। ये तीनों गैर भाजपा शासित राज्य हैं। अब झारखंड की बारी है।

वैट की आधी-अधूरी योजना से ही सरकार खुश

पेट्रोल डीजल पर राज्य सरकार अपनी जनता को राहत देने के मूड में नहीं है। झारखंड सरकार सीमित लोगों को ही सब्सिडी देकर मान रही है कि उसने अपनी पूरी जनता को सब्सिडी दे दी है। वित्तमंत्री रामेश्वर उरांव के ही शब्दों में- ‘झारखंड में पहले से ही पेट्रोल सब्सिडी योजना प्रभावी है। इसके तहत दोपहिया वाहन रखने वाले राशन कार्डधारियों को 25 रुपये प्रति लीटर की सब्सिडी दी जा रही है।‘ बात राज्य की पूरी जनता को राहत दिलाने की हो रही है। राजस्थान, केरल और महाराष्ट्र ने वैट में जो कमी की है, वह पूरे राज्य के लिए है, विशेष वर्ग के लिए नहीं। झारखंड में जो सरकार काबिज है, वह सिर्फ राशन कार्डधारियों के वोट से सत्ता में नहीं है। सबने मिलकर सरकार को सत्ता थमाई है। इसलिए राज्य में जब भी कोई योजना बने, पूरे राज्य की पूरी जनता के लिए बने।

राजस्थान, केरल और महाराष्ट्र ने घटाये वैट

बता दें, महाराष्ट्र सरकार ने रविवार को पेट्रोल पर 2.08 रु. प्रति लीटर और डीजल पर 1.44 रु. प्रति लीटर कम कर किये हैं। महाराष्ट्र सरकार वैट में यह कटौती को तत्काल प्रभाव से लागू की है। इससे पहले राजस्थान सरकार ने पेट्रोल पर वैट 2.48 रु. प्रति लीटर और डीजल पर 1.16 रु. प्रति लीटर घटाने का ऐलान किया है। जबकि केरल सरकार ने भी पेट्रोल पर 2.41 रुपए और डीजल पर 1.36 रुपए के स्टेट टैक्स की कटौती की है।

यह भी पढ़ें: पूर्णिया जिले के NH-57 पर मजदूरों को ले जा रहा ट्रक पलटा, आठ की दर्दनाक मौत

Related posts

IPL 2022 CSK Vs KKR: धोनी का अर्धशतक भी नहीं आया काम, कोलकाता ने 6 विकेट से मैच जीता

Sumeet Roy

Jharkhand: उत्पाद विभाग को मई 2022 में रिकॉर्ड 188 करोड़ का मिला राजस्व – विनय चौबे

Pramod Kumar

क्या है CDS का मतलब? क्या होती है Chief of Defence Staff की चुनौतियां, भूमिका और जिम्मेदारी

Sumeet Roy