समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Weather Update: आसमान से बरस रही आग, इन राज्यों में अगले पांच दिनों तक पड़ेगी भीषण गर्मी, Orange Alert जारी

Weather Update

Weather Update: भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने देश के बड़े हिस्से में जारी लू के प्रकोप में अगले पांच दिनों में और बढ़ोतरी का अनुमान जताते हुए राजस्थान (Rajasthan), मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) और महाराष्ट्र (Maharashtra) के कुछ हिस्सों के लिए ‘ऑरेंज’ अलर्ट जारी किया है, जबकि उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में तापमान में दो डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी की बात कही है. गुरुवार को जारी आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार अगले पांच दिनों के दौरान उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में और अगले तीन दिनों के दौरान पूर्वी भारत में लू का प्रकोप बना रहेगा.

मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो दिनों के दौरान उत्तर पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम तापमान में लगभग दो डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी होने की आशंका है और उसके बाद कोई महत्वपूर्ण बदलाव नहीं होगा. राजस्थान, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के लिये अगले चार दिनों तक ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है. मौसम विशेषज्ञों के अनुसार उत्तर पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में पारा 47 डिग्री सेल्सियस के पार तक पहुंच सकता है.

MP से लेकर झारखंड तक गर्मी का कहर

मध्य प्रदेश में खजुराहो (45.6 डिग्री सेल्सियस), नौगॉन्ग (45.6 डिग्री सेल्सियस) और खरगोन (45.2 डिग्री सेल्सियस); महाराष्ट्र में अकोला (45.4 डिग्री सेल्सियस), ब्रम्हापुरी (45.2 डिग्री सेल्सियस) और जलगांव (45.6 डिग्री सेल्सियस) और झारखंड के डाल्टनगंज (45.8 डिग्री सेल्सियस) तापमान रहा. वहीं, हीटवेव के बीच भारत की बिजली की मांग गुरुवार को 204.65 गीगावॉट के उच्च स्तर को छू गई. पीटीआई के अनुसार, भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा है कि अगले पांच दिनों तक उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में और अगले तीन दिनों तक पूर्वी भारत में लू का प्रकोप बना रहेगा. मौसम विभाग के अनुसार, अगले दो दिनों के दौरान उत्तर पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम तापमान में लगभग दो डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होने की संभावना है.

इन लोगों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है गर्मी

स्वतंत्र मौसम विज्ञानी नवदीप दहिया ने कहा, “चुरू, बाड़मेर, बीकानेर और श्री गंगानगर जैसे स्थानों पर अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस सामान्य है, लेकिन उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में अप्रैल के अंत तक 45-46 डिग्री सेल्सियस काफी असामान्य है.” आईएमडी ने कहा कि लू प्रभावित क्षेत्रों में संवेदनशील लोगों, जैसे- शिशुओं, बुजुर्गों और पुरानी बीमारियों से ग्रस्त लोगों के लिए ‘मध्यम’ स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को जन्म दे सकती है.

गर्मी से बचने के लिए करें ये उपाय

मौसम विभाग ने कहा कि इसलिए इन क्षेत्रों के लोगों को गर्मी के संपर्क से बचना चाहिए, हल्के रंग के सूती कपड़े पहनने चाहिए और टोपी, छतरी आदि से सिर का बचाव करना चाहिए. उन लोगों में गर्मी की बीमारी के लक्षणों की संभावना बढ़ जाती है जो या तो लंबे समय तक धूप के संपर्क में रहते हैं या मेहनत वाला काम करते हैं. गौरतलब है कि मैदानी इलाकों में जब तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक और सामान्य से कम से कम 4.5 डिग्री सेल्सियस अधिक होता है, तब लू जैसे हालात की घोषणा की जाती है, मौसम विभाग के अनुसार भीषण लू की घोषणा तब की जाती है जब तापमान सामान्य से 6.4 डिग्री सेल्सियस ज्यादा हो.

 जानिए कब की जाती है भीषण लू की घोषणा

पूर्ण रिकॉर्ड किए गए तापमान के आधार पर लू तब घोषित की जाती है जब कोई क्षेत्र अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस दर्ज करता है. यदि तापमान 47 डिग्री के निशान को पार कर जाता है तो भीषण लू की घोषणा की जाती है. वहीं मौसम की चेतावनी के लिए आईएमडी चार रंग के संकेतकों का उपयोग करता है, जिसमें हरा (कोई कार्रवाई आवश्यक नहीं), पीला (देखें और जानकारी लेते रहें), नारंगी (तैयार रहें), और लाल (कार्रवाई करें) शामिल है.

ये भी पढ़ें – Power Crisis: कोयले की कमी से पूरे देश में संकट, अस्पतालों और अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सेवा हो सकती है ठप!

Weather Update Weather Update

Related posts

Republic Day पर नीरज चोपड़ा को मिलेगा विशिष्ट सेवा मेडल, राष्ट्रपति 384 की वीरता का करेंगे सम्मान

Pramod Kumar

बिहार शर्मसार : मुजफ्फरपुर के बाद बोधगया बालिका गृह कांड से मचा हड़कंप

Pramod Kumar

सड़क हादसे में मौके पर ही चली गई इस एक्ट्रेस की जान, 26 की उम्र में ही छोड़ गईं दुनिया

Manoj Singh