समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

UP Election 2022: केजरीवाल की राजनीति ‘राम भरोसे’, समझ आ गयी सिर्फ सिद्धांतों पर नहीं चल सकती सियासत

UP Election 2022

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

आदर्शों के सहारे राजनीति का दम भरने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को समझ आने लगा है कि राजनीति की वैतरणी सिर्फ सिद्धांतों-आदर्शों पर नहीं चल सकती। तभी भाजपा के धार्मिक एजेंडों पर प्रहार करने वाले केजरीवाल आज अयोध्या में भगवान राम के आगे मत्था टेकने को विवश हैं। देश की राजनीति का सपना देखना है तो यूपी को गोद में उठाकर चलना ही होगा। और यूपी की राजनीति का रास्ता अयोध्या से होकर गुजरता है। वरना राम के नाम पर नाक-भौं सिकोड़ने वाले कांग्रेस, सपा, बसपा आज यूं ही राम को चरणों में नहीं लोट रहे हैं, फिर केजरीवाल क्या चीज हैं।

कार्यक्रम तो वैसे पहले से तय था, फिर भी आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल न सिर्फ अयोध्या के हनुमानगढ़ी पहुंचे, बल्कि रामलला के दर्शन भी किये और उसके बाद जिसके लिए आये था, वह (राजनीति) भी किया। रामलला के दर्शन के बाद केजरीवाल ने बड़ा ऐलान किया। उन्होंने कहा कि अगर यूपी में उनकी सरकार बनती है तो प्रदेश के सभी लोगों को अयोध्या में रामलला के मुफ्त में दर्शन कराएंगे।

अरविन्द केजरीवाल ने पहना धार्मिक चोला

अयोध्या आगमन पर केजरीवाल ने सोमवार को सरयू नदी के तट पर वैदिक मंत्रों और भजनों के बीच सरयू की आरती की। मां सरयू, भगवान श्रीराम तथा देवताओं से दिल्‍ली, उत्तर प्रदेश और पूरे देश के कल्याण की कामना की। देर से ही सही, पूरे देश से कोरोना महामारी को दूर करने के लिए मां सरयू और भगवान राम से प्रार्थना की कि पूरा देश कोरोना नाम की महामारी से पीड़ित है, अतः आप इस महामारी से हमें मुक्ति दिलायें।

दिल्ली के विकास के बहाने यूपी को सुधार देने की राजनीति

इस अवसर पर अरविंद केजरीवाल ने अपनी चुनावी गोटी भी सेट करने का प्रयास किया। उन्होंने यूपी वालों को यह समझाने का प्रयास किया कि कितने कम समय में उन्होंने अपने मुख्यमंत्रित्व काल में दिल्ली का ‘कल्याण’ कर दिया। अगर उत्तर प्रदेश उन्हें मौका देता है तो यूपी का भी कायाकल्प करने में कोई कोर कसर नहीं रख छोड़ेंगे। केजरीवाल की ही जुबानी- ‘मैंउम्र और अनुभव में छोटा हूं, लेकिन मेरा दिल्‍ली सरकार चलाने का जो पांच साल का अनुभव है, उससे लगता है कि अगर सब लोग मिलकर एक परिवार की तरह, एक टीम की तरह एक साथ काम करें, अपने बीच की दीवारों और भेदभाव को गिराकर एक साथ काम करें तो इस देश को दुनिया की शक्ति बनाने से कोई नहीं रोक सकता है। यह संभव है और दिल्ली के अंदर स्कूल, अस्पताल, पानी और सड़कों के लिए यह करके दिखाया है।‘

छोटा राज्य सम्भल नहीं रहा, चुनाव आया तो राम याद आये – योगी

अरविन्द केजरीवाल के अयोध्या दर्शन पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इशारों में ही निशाना साधा। बीजेपी के पिछड़ा वर्ग सम्मलेन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि केजरीवाल से कोरोना काल में एक छोटा-सा राज्य नहीं संभला और चुनावी मौसम में उन्हें राम की याद आयी है। कोरोना काल में यूपी-बिहार वालों के साथ दिल्ली सरकार के किये को याद दिलाने में योगी नहीं चूके। उन्होंने या दिलाया- ‘एक दिल्ली वाले हैं जो आज कह रहे हैं कि आज ये फ्री देंगे, वो फ्री देंगे। जब मौका मिला था तो यूपी-बिहार वालों को दिल्ली से भगा दिया। जब अवसर मिला तो जिम्मेदारी नहीं ली। पहले प्रभु श्रीराम को गाली देते थे। आज जब लग रहा है कि प्रभु श्रीराम के बिना नैया पार नहीं होगी तो मत्था टेकने आ गये। अच्छी बात है., राम के महत्व को, अस्तित्व को कम से कम स्वीकार तो किया। अन्यथा विपक्षी दलों का कोई ऐसा नेता नहीं, जिसने स्वर्गीय बाबूजी (कल्याण सिंह) को कटघरे में खड़ा न किया हो।‘

यह भी पढ़ें: झारखंड विधानसभा में बदला- बदला सा होगा नजारा, ‘छात्रों की संसद’ में सीएम, स्पीकर, मंत्री बनेंगे दर्शक

Related posts

Petrol Diesel Price: पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, जानें आज बढ़े दाम या मिली राहत?

Sumeet Roy

Ukraine Crisis: UNSC के निंदा प्रस्ताव पर रूस ने वीटो, लगाया, भारत-चीन रहे तटस्थ

Pramod Kumar

Gandhi Jayanti: आइये जानें, ‘क्या खाकर’ महात्मा गांधी ने लड़ी अंग्रेजों से लड़ाई?

Pramod Kumar