समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

आमने-सामने थी दो ट्रेनें, रेलमंत्री भी थे सवार ‘Kavach’ ने रोक दी टक्कर, देखें VIDEO

Kavach

स्वदेश निर्मित ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली ‘कवच’ का परीक्षण 4 मार्च को सिकंदराबाद में किया गया, जिसमें दो ट्रेन पूरी गति के साथ विपरीत दिशा से एक दूसरे की तरफ बढ़ीं. रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने ट्वीट करके इस परीक्षण के सफल होने की जानकारी दी. जिस ट्रेन में रेलमंत्री सवार थे वह सामने से आ रही ट्रेन से 380 मीटर पहले ही रुक गई. यह सब ‘कवच’ तकनीक की वजह सेे हुआ. रेलमंत्री ने इससे जुड़ा वीडियो भी शेयर किया.

‘कवच’ के कारण ये दोनों ट्रेन टकराई नहीं 

इससे पहले रेलवे के अधिकारियों ने यह जानकारी देते हुए बताया था कि एक ट्रेन में रेल मंत्री सवार होंगे, तो दूसरी ट्रेन में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन मौजूद रहेंगे, लेकिन ‘कवच’ के कारण ये दोनों ट्रेन टकराएंगी नहीं.

दुनिया की सबसे सस्ती स्वचालित ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली

‘कवच'(Kavach)को रेलवे द्वारा दुनिया की सबसे सस्ती स्वचालित ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली के रूप में प्रचारित किया जा रहा है. ‘शून्य दुर्घटना’ के लक्ष्य को प्राप्त करने में रेलवे की मदद के लिए स्वदेशी रूप से विकसित स्वचालित ट्रेन सुरक्षा (एटीपी) प्रणाली का निर्माण किया गया. कवच को इस तरह से बनाया गया है कि यह उस स्थिति में एक ट्रेन को स्वचालित रूप से रोक देगा, जब उसे निर्धारित दूरी के भीतर उसी लाइन पर दूसरी ट्रेन के होने की जानकारी मिलेगी.

 

ट्रेन स्वत: रुक जायेगी

वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि इस डिजिटल प्रणाली के कारण मानवीय त्रुटियों जैसे कि लाल सिग्नल को नजरअंदाज करने या किसी अन्य खराबी पर ट्रेन स्वत: रुक जायेगी. अधिकारियों ने कहा कि कवच के लगने पर संचालन खर्च 50 लाख रुपये प्रति किलोमीटर आएगा, जबकि वैश्विक स्तर पर इस तरह की सुरक्षा प्रणाली का खर्च प्रति किलोमीटर करीब दो करोड़ रुपये है.

160 किलोमीटर प्रति घंटे तक की गति के लिए अनुमोदित

‘कवच’ प्रणाली में उच्च आवृत्ति के रेडियो संचार का उपयोग किया जाता है. अधिकारियों के मुताबिक- कवच एसआईएल -4 (सुरक्षा मानक स्तर चार) के अनुरूप है जो किसी सुरक्षा प्रणाली का उच्चतम स्तर है. एक बार इस प्रणाली का शुभारंभ हो जाने पर पांच किलोमीटर की सीमा के भीतर की सभी ट्रेन बगल की पटरियों पर खड़ी ट्रेन की सुरक्षा के मद्देनजर रुक जाएगी. कवच को 160 किलोमीटर प्रति घंटे तक की गति के लिए अनुमोदित किया गया है.

ये भी पढ़ें : MS Dhoni बने रजनीकांत स्टाइल में ड्राइवर, IPL सुपर ओवर के लिए बीच सड़क पर बस रोकी

 

Related posts

उत्तर प्रदेश को PM मोदी की बड़ी सौगात: पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का करेंगे उद्घाटन, क्या सड़क से सधेंगे सियासी हित?

Manoj Singh

‘जेवर’ हवाई अड्डे से भाजपा भरेगी 2022 चुनाव की उड़ान, कल शिलान्यास के साथ पीएम मोदी बनायेंगे चुनावी हवा

Pramod Kumar

Jharkhand: शादी का बुलावा भी हुआ 1932 का खतियानी, बंट रहे रोचक स्लोगन वाले निमंत्रण-कार्ड

Pramod Kumar