समाचार प्लस
Breaking देश

Sawan Somvar 2022: आज सावन की आखिरी सोमवारी, क्या आप जानते हैं इस महीने को क्यों कहा जाता है श्रावण?

Sawan Somvar 2022

Sawan Somvar 2022: श्रावण माह की आज आखिरी सोमवारी है। देशभर में प्रमुख शिवालयों के साथ हर छोटे-बड़े शिवालयों में भक्त श्रद्धा के साथ जलार्पण कर रहे हैं और अपने तथा स्वजनों के लिए मनोकामनाएं मांग रहे हैं। आज पुत्रदा एकादशी भी है। संतान सुख तथा भौतिक सुख प्राप्ति हेतु भगवान विष्णु की आराधना के लिए लोग एकादशी का व्रत कर रहे हैं। अर्थात आज का दिन भक्तों के लिए शिव की आराधना के साथ भगवान विष्णु की आराधना का खास दिन है।

पवित्र सावन का महीना अब अपने आखिरी चरण में है। पूर्णिमा को रक्षाबंधन के साथ श्रावण मास समाप्त हो जायेगा। 11 अगस्त, 2022 के रक्षाबंधन त्योहार है और 12 अगस्त, 2022 को सुबह स्नान-दान के साथ श्रावण पूर्णिमा समाप्त हो जायेगी। हम सभी जानते हैं कि हिंदू धर्म में श्रावण महीने विशेष महत्व है। सावन के पूरे महीने में भगवान शिव के भक्त उनकी भक्ति में रमे रहते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, साल के पांचवें महीने को श्रावण माह कहा जाता है। मान्यता है कि सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा-उपासना करने से वह प्रसन्न होकर अपने भक्तों की सभी परेशानियां दूर करते हैं।

लेकिन क्या आपको पता है कि इस महीने का नाम ‘श्रावण’ क्यों कहा जाता है? दरअसल, इस महीने पूर्णिमा पर चंद्रमा श्रवण नक्षत्र में होते हैं, वैदिक ज्योतिष के अनुसार श्रवण नक्षत्र का स्वामी बृहस्पति ग्रह है। श्रवण का अर्थ होता है सुनना। मान्यता है, इस माह में भगवान के स्वरूप के बारे में सुनने से मन के विकार दूर होते हैं। यही कारण है कि इस माह में धार्मिक ग्रंथों का श्रवण करने का विशेष महत्व बताया गया है।

शिव से जुड़ी पौराणिक कथाएं भी सावन के महीने को विशेष बना देती हैं। सावन में ही समुद्र मंथन हुआ था और इसमें से निकले विष को भगवान शिव ने ग्रहण किया, जिसके कारण भगवान शिव का नाम नीलकंठ पड़ा। विष का प्रभाव इतना था कि भोलेनाथ का कंठ जलने लगा। इसके बाद सभी देवी-देवताओं ने मिलकर उन्हें शीतल करने के लिए उनके ऊपर जल डाला। इसी कारण सावन के महीने में शिव अभिषेक का विशेष महत्व है। इसके साथ ही माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए सावन के महीने में ही कठोर तप किया, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया।

यह भी पढ़ें: बाटला हाउस से ISIS संदिग्ध आतंकी मोहसिन अरेस्ट, बिहार से है संबंध, जानें पूरी कुंडली

Sawan Somvar 2022

Related posts

Liquor Ban and Bihar: ‘पर्यटन के विकास में शराबबंदी सबसे बड़ी बाधा’… तो क्या ब‍िहार में हट जाएगी शराबबंदी?

Manoj Singh

VastuTips: घर में चाहिए सुख, समृद्धि तो करें ये 10 उपाय, आजमाकर देखें, भरपूर लाभ मिलेगा 

Manoj Singh

काम छोड़कर ये क्या कर रहीं Shama Sikander, तस्वीर देख लोग हो रहे बेकाबू!

Manoj Singh