समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

बचाता तो भगवान ही है: तीन अस्पतालों ने जिसे घोषित किया मृत, पोस्टमार्टम से पहले चल पड़ीं सांसें

Muradabad

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

डॉक्टर को ‘धरती का भगवान’ कहा जाता है, लेकिन मुरादाबाद की घटना ने साबित कर दिया कि ‘बचाता तो भगवान ही है’, डॉक्टर तो यूं ही क्रेडिट खा जाते हैं। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में एक सड़क हादसे के बाद एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। परिजन तीन अस्पतालों के युवक को लेकर चक्कर काटते रहे। निजी अस्पताल दौड़े, फिर सरकारी अस्पताल पहुंचे। लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृत घोषित करने के करीब सात घंटे बाद उसके शव को मोर्चरी में पोस्टमॉर्टम के लिए रख दिया गया। पोस्टमास्टम की तैयारी चल ही रही थी कि युवक की सांसें चलने लगीं। यह खबर सुनकर स्वास्थ्य महकमे की ‘सांसें’ बंद होने लगीं। युवक को आनन-फानन में दोबारा अस्पताल में भर्ती कराया गया और डॉक्टरों ने उस व्यक्ति का इलाज फिर से शुरू किया गया। उसकी गंभीर हालत को देखते हुए बाद में मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया गया। यह खबर सुनकर उसके परिजनों को हुई तो परिजनों में छाया मातम खुशी में बदल गया। घटना संभल के हजरतनगर गढ़ी थाना इलाके के पोटा बराही गांव की है।

यह भी पढ़ें: कृषक-पुत्र कड़िया मुंडा कृषि कानूनों के वापस होने से आहत, देखिये वीडियो में कैसे व्यक्त की अपनी पीड़ा

Related posts

Nirbhay Cruise Missile: बालासोर में DRDO की स्वदेशी Cruise Missile का परीक्षण, चीन और पाकिस्तान की उड़ेगी नींद

Nidhi Sinha

सत्ता के लिए झारखंड कांग्रेस में झकझूमर, बगावत से ‘अंदरूनी आग’ बुझाने का प्रयास

Manoj Singh

Tokyo Olympics 2020 : भारत की 4 महिला कर्णधार, जिनके कंधों पर पदकों का भार

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.