समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

Bihar में अब होगा बवाल, नीतीश सरकार मानती है कश्मीर अलग देश, 7वीं कक्षा के पेपर में पूछ दिया ऐसा सवाल

There will now be a ruckus in Bihar, Nitish government believes that Kashmir is a separate country

भाजपा हुई लाल, प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने किया सवाल

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

जदयू और राजद गठबंधन की सरकार पर हमला करने के लिए बिहार भाजपा के हाथ बड़ा मुद्दा लग गया है। अबकी बार ऐसा मामला सामने आया है जिसके बाद भाजपा नीतीश सरकार पर हमलावर हो गई हैं। बिहार के किशनगंज जिले में कक्षा 7 की अर्धवार्षिक परीक्षा ली गयी। प्रश्न पत्र बिहार शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा तैयार किया गया था जिसमें कश्मीर पर पूछे गये सवाल पर ही बवाल हो गया है। इसी को लेकर भाजपा ने बिहार की नीतीश सरकार सवालों के घेरे में ले लिया है। कक्षा सात की अर्धवार्षिक परीक्षा के जिस पेपर पर यह बवाल हो रहा है उसमें कश्मीर को अलग देश बताकर दिया गया है। इसके बाद बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष संजय जायसवाल ने नीतीश सरकार पर वार करते हुए कहा है कि बिहार सरकार कश्मीर को भारत के हिस्से के रूप में क्या नहीं देखती है?

बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए यहां तक कह दिया कि यह बिहार में जदयू और राजद का गठबंधन पीएफआई समर्थक जदयू में बैठे सरकारी पदाधिकारी और राजद के वोट बैंक में बैठे पीएफआई समर्थकों के नापाक गठजोड़ का नतीजा है।

पूरे सीमांचल क्षेत्र में हिंदी स्कूलों में शुक्रवार को बंद करना और अब बिहार शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा 7वीं कक्षा का यह प्रश्नपत्र है। यह पूछता है कि नेपाल, चाइना, इंग्लैंड , हिंदुस्तान और कश्मीर में रहने वाले को क्या कहते हैं। यह प्रश्न ही बताता है कि बिहार सरकार के सरकारी पदाधिकारी और बिहार सरकार कश्मीर को भारत का अंग नहीं मानते हैं।

बिहार सरकार के इन अफसरों का एक ही सपना है कि 2047 में बिहार के पूर्वांचल को कम से कम हम इस्लामिक राष्ट्र में बदल दें। इसका सबसे बड़ा सबूत सातवीं कक्षा का बिहार शिक्षा परियोजना परिषद का प्रश्न पत्र है जो बच्चों के दिमाग में यह डालने का काम कर रहा है कि जिस प्रकार चीन, इंग्लैंड, भारत ,नेपाल एक देश हैं वैसे ही कश्मीर भी एक राष्ट्र है।

रबर स्टैंप मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की यह हैसियत भी नहीं है कि इस सरकारी कर्मचारी पर कोई कार्रवाई कर सकें क्योंकि पीएफआई समर्थक सरकारी कर्मचारियों के बदौलत ही वह मुख्यमंत्री हैं।

यह भी पढ़ें: Jharkhand: सरकार आपके द्वारा अभियान में अब तक आये 10 लाख आवेदन, आज चतरा में लगेगी हेमंत की चौपाल

Related posts

घूस लेकर कानून से बचने के लिए सोरेन परिवार को चाहिए सांसद – विधायक का पद –Babulal Marandi

Manoj Singh

अपनी पहचान की तलाश में झारखंड के दो माननीय, पार्टी में भी रहकर बेगाने प्रदीप यादव और बंधु तिर्की

Pramod Kumar

यूक्रेनी महिला ने रूसी टैंक के अंदर जाकर कर दिया ऐसा काम, हैरत में डाल देगा आपको ये Video

Manoj Singh