समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

75th Anniversary: लाल किले से बोले पीएम- खेलों में टैलेंट, टेक्नोलॉजी और संसाधन बढ़ाने का काम होगा तेज

खेलों में टैलेंट, टेक्नोलॉजी और संसाधन बढ़ाने का काम होगा तेज

देश आज स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) की 75वीं वर्षगांठ (75th Anniversary) मना रहा है। देश यह वर्ष ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तौर पर मना रहा है। स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8वीं बार लाल किले के प्राचीर से राष्ट्रीय ध्वजारोहण किया। हर बार की तरह प्रधानमंत्री मोदी पहले राजघाट स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधि स्थल गये और उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किया। फिर लाल किले आकर ध्वजारोहण किया और देश को सम्बोधित किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वायुसेना के दो एमआई-17 1वी हेलीकॉप्टरों द्वारा कार्यक्रम स्थल पर की गयी फूलों की वर्षा के बीच ध्वजारोहण किया। जश्न-ए-आजादी के कार्यक्रम के दौरान ओलंपिक की भाला फेंक स्पर्धा के स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा समेत 32 खिलाड़ी लालकिले पर आमंत्रित थे। प्रधानमंत्री मोदी ने लालकिले से ओलंपिक में पदक विजेताओं के लिए तालियां बजवा कर उनका सम्मान किया। आजादी के इस खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को बधाई देते हुए उम्मीद जताई है कि यह साल देशवासियों में नई ऊर्जा और नवचेतना का संचार करेगा।

आह्वान
    • यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है… कुछ ऐसा नहीं जो कर ना सको, कुछ ऐसा नहीं जो पा ना सको, तुम उठ जाओ, तुम जुट जाओ, सामर्थ्य को अपने पहचानो, कर्तव्य को अपने सब जानो, भारत का ये अनमोल समय है, यही समय है, सही समय है।
    • यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है, असंख्य भुजाओं की शक्ति है, हर तरफ देश की भक्ति है, तुम उठो तिरंगा लहरा दो, भारत के भाग्य को फहरा दो।
    • 21वीं सदी में भारत के सपनों और आकांक्षाओं को पूरा करने से कोई भी बाधा रोक नहीं सकती, हमारी ताकत हमारी जीवटता है, हमारी ताकत हमारी एकजुटता है, हमारी प्राणशक्ति, राष्ट्र प्रथम, सदैव प्रथम की भावना है।
उत्साहवर्द्धन
    • मैं भविष्य़दृष्टा नहीं हूं, मैं कर्म के फल पर विश्वास रखता हूं, मेरा विश्वास देश के युवाओं पर है, मेरा विश्वास देश की बहनों-बेटियों, देश के किसानों, देश के प्रोफेशनल्स पर है, ये पीढ़ी हर लक्ष्य हासिल कर सकती है।
    • जिन संकल्पों का बीड़ा आज देश ने उठाया है, उन्हें पूरा करने के लिए देश के हर जन को उनसे जुड़ना होगा, हर देशवासी को इसे अपनाना होगा, देश ने जल संरक्षण का अभियान शुरू किया है, तो हमारा कर्तव्य है पानी बचाने को अपनी आदत से जोड़ना।
नमन
    • आज देश के महान विचारक ऑरबिंदो की जन्मजयंती भी है, साल 2022 में उनकी 150वां जन्मजयंती है।
चुनौतियां
    • आज दुनिया, भारत को एक नई दृष्टि से देख रही है और इस दृष्टि के दो महत्वपूर्ण पहलू हैं, एक आतंकवाद और दूसरा विस्तारवाद, भारत इन दोनों ही चुनौतियों से लड़ रहा है और सधे हुए तरीके से बड़े हिम्मत के साथ जवाब भी दे रहा है।
    • त्रिपुरा में दशकों बाद ब्रू रियांग समझौता होना हो, ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा देना हो, या फिर जम्मू-कश्मीर में आजादी के बाद पहली बार हुए बीडीसी और डीडीसी चुनाव, भारत अपनी संकल्पशक्ति लगातार सिद्ध कर रहा है।
    • आर्टिकल 370 को बदलने का ऐतिहासिक फैसला हो, देश को टैक्स के जाल से मुक्ति दिलाने वाली व्यवस्था- जीएसटी हो, हमारे फौजी साथियों के लिए वन रैंक वन पेंशन हो, या फिर रामजन्मभूमि केस का शांतिपूर्ण समाधान, ये सब हमने बीते कुछ वर्षों में सच होते देखा है।
    • 21वीं सदी का आज का भारत, बड़े लक्ष्य गढ़ने और उन्हें प्राप्त करने का सामर्थ्य रखता है, आज भारत उन विषयों को भी हल कर रहा है, जिनके सुलझने का दशकों से, सदियों से इंतजार था।
घोषणाएं
    • भारत आज जो भी कार्य कर रहा है, उसमें सबसे बड़ा लक्ष्य है, जो भारत को क्वांटम जंप देने वाला है- वो है ग्रीन हाइड्रोजन का क्षेत्र, मैं आज तिरंगे की साक्षी में नेशनल हाईड्रोजन मिशन की घोषणा कर रहा हूं।
संकल्प

भारत की प्रगति के लिए, आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए भारत का ऊर्जा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होना अनिवार्य है, इसलिए आज भारत को ये संकल्प लेना होगा कि हम आजादी के 100 साल होने से पहले भारत को एनर्जी इंडिपेंडेंट बनाएंगे।

योजनाएं
    • दो-ढाई साल पहले मिजोरम के सैनिक स्कूल में पहली बार बेटियों को प्रवेश देने का प्रयोग किया गया था, अब सरकार ने तय किया है कि देश के सभी सैनिक स्कूलों को देश की बेटियों के लिए भी खोल दिया जाएगा।
    • आज मैं एक खुशी देशवासियों से साझा कर रहा हूं, मुझे लाखों बेटियों के संदेश मिलते थे कि वे भी सैनिक स्कूल में पढ़ना चाहती हैं, उनके लिए भी सैनिक स्कूलों के दरवाजे खोले जाएं।
    • नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की एक और विशेष बात है, इसमें स्पोर्ट्स को एक्स्ट्राकैरीकुलर की जगह मेनस्ट्रीम पढ़ाई का हिस्सा बनाया गया है, जीवन को आगे बढ़ाने में जो भी प्रभावी माध्यम हैं, उनमें एक स्पोर्ट्स भी है।
    • जब गरीब की बेटी, गरीब का बेटा मातृभाषा में पढ़कर प्रोफेशनल्स बनेंगे तो उनके सामर्थ्य के साथ न्याय होगा, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को गरीबी के खिलाफ लड़ाई का मैं साधन मानता हूं।
सराहना
    • ये देश के लिए गौरव की बात है कि शिक्षा हो या खेल, बोर्ड्स के नतीजे हों या ओलपिंक का मेडल, हमारी बेटियां आज अभूतपूर्व प्रदर्शन कर रही हैं, आज भारत की बेटियां अपना स्पेस लेने के लिए आतुर हैं।

यह भी पढ़ें: Presidential Address: आजादी के वीर शहीदों के साथ ओलंपिक वीरों को राष्ट्रपति ने किया या

 

Related posts

Ranchi: अंजुमन इस्लामिया रांची का मतदान 21 से, चार दिन पड़ेंगे वोट, 24 नवंबर को परिणाम

Pramod Kumar

अमेरिका में लोकतंत्र पर चर्चा:  वर्चुअल समिट में भारत को मिला न्योता मगर चीन दरकिनार

Pramod Kumar

कौन बनेगा झारखंड यूथ कांग्रेस सिरमौर, अध्यक्ष कुमार गौरव फिर बनेंगे अध्यक्ष या अभिजीत को मिलेगा ताज!

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.