समाचार प्लस
Breaking खेल झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

झारखंड क्रिकेट जगत का अनमोल सितारा सितारों में विलीन, नहीं रहे झारखंड क्रिकेट की आन-बान-शान अमिताभ चौधरी

The priceless star of Jharkhand cricket world merges with the stars

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

झारखंड क्रिकेट को सुरक्षित और बड़े मुकाम तक पहुंचा कर अमिताभ चौधरी चिर निद्रा में लीन हो गये हैं। झारखंड राज्य क्रिकेट संघ के अध्यक्ष, बीसीसीआई के उपाध्यक्ष और सचिव के साथ झारखंड लोकसेवा आयोग के अध्यक्ष रह चुके आईपीएस अधिकारी अमिताभ अब इस दुनिया में नहीं रहे। मंगलवार सुबह अपने घर पर फिसलकर गिरने के बाद उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उन्हें रांची के सेंटेविटा अस्पताल ले जाया गया, जहां पर डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

6 जुलाई, 1960 को जन्मे अमिताभ चौधरी किसी पहचान के मुहताज नहीं हैं। इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स रहे अमिताभ का आईपीएस बनने से लेकर जेएससीए और बीसीसीआई तक का शानदार सफर रहा है। अमिताभ चौधरी के जीवन में राजनीति में थोड़ी असफलता जरूर आयी, लेकिन उनकी तमाम उपलब्धियां इतनी बड़ी हैं कि उनके आगे यह नाकामी बिल्कुल ही नगण्य है। अमिताभ चौधरी के जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि रांची के धुर्वा स्थित जेएससीए अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम का अस्तित्व में आना है। इस स्टेडियम को खड़ा करने में न सिर्फ अमिताभ चौधरी का बड़ा हाथ है, बल्कि रांची के क्रिकेट प्रेमियों ने आज तक इतने सारे अंतरराष्ट्रीय और आईपीएल मैचों का आनंद लिया, यह भी उनमें भी उनका बहुत बड़ा योगदान है।

जीवन में सफलता-दर-सफलता
  • अमिताभ चौधरी ने 1984 में आइआइटी खड़गपुर से बीटेक की डिग्री हासिल की
  • 1985 में आईपीएस बने। आईपीएस श्रेणी में पूरे भारत में द्वितीय स्थान प्राप्त किया था इन्हें बिहार कैडर मिला
  • झारखंड बंटवारे के बाद अमिताभ चौधरी को झारखंड कैडर मिला। चौधरी 1997 में रांची के एसएसपी बनाये गये।
  • अमिताभ चौधरी की छवि कठोर और अनुशासनप्रिय पुलिस अधिकारी की रही है। जनता के बीच से अपराधियों का खौफ खत्मा किया।
  • अमिताभ चौधरी का जमशेदपुर में 2000 में एसपी रह रहे।
  • कुख्यात अपराधी सुरेंद्र बंगाली और अनिल शर्मा की गिरफ्तार किया।
  • गृह विभाग में विशेष सचिव (एडीजी रैंक) के पद से वीआरएस लिया।
  • 2002 में वह बीसीसीआई के सदस्य बने।
  • 2005 में राज्य के तत्कालीन डिप्टी चीफ मिनिस्टर सुदेश कुमार महतो को हरा कर वह जेएससीए के अध्यक्ष बने।
  • 2005 से 2009 तक क्रिकेट टीम इंडिया के मैनेजर रहे।
  • 2013 में उन्होंने आईपीएस की नौकरी से वीआरएस ले ली।
  • अमिताभ चौधरी को राजनीति रास नहीं आयी। 2014 में जेवीएम के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ा, लेकिन जीतने में सफल नहीं हुए।
  • 2020 में झारखंड लोकसेवा आयोग (जेपीएससी) का अध्यक्ष बनाया था। इनका कार्यकाल जुलाई 2022 को पूरा हुआ था।

यह भी पढ़ें:  Bihar Cabinet Expansion: बिहार में बंटे विभाग, नीतीश ने अपने पास रखा गृह, जानिए किसे मिला कौन सा मंत्रालय

Related posts

Gandhi Jayanti: फुटबॉल के साथ रंगभेद के खिलाफ महात्मा गांधी का ‘सत्य का प्रयोग’

Pramod Kumar

Nagpur Rape: 17 साल के लड़के ने किया 23 साल की लड़की का किया रेप, पुलिस ने किया चौकाने वाला खुलासा

Sumeet Roy

गोस्सनर कॉलेज के स्वर्ण जयंती समारोह में मुख्य अतिथि बने सीएम, दिल खोलकर की सराहना

Pramod Kumar