समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

नक्सलियों पर नकेल: नक्सली गढ़ गढ़चिरौली की घटना नक्सलवाद पर बड़ा प्रहार

Naxalite

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

उग्रवादियों ने मणिपुर में घात लगाकर असम राइफल्स के कुछ जवानों समेत सात को मौत के घाट उतार दिया। रविवार को गया में नक्सलियों ने एक परिवार को मौत के घाट उतार डाला। ये घटनाएं भले ही यह कह रही हो कि नक्सलवाद खत्म नहीं हुआ है, लेकिन इस समस्या को जड़ से भी मिटाया जा सकता है। इसका शनिवार को महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में पुलिस के जांबाजों द्वारा की गयी बड़ी कार्रवाई से समझा जा सकता है। गढ़चिरौली की घटना, पूरे देश में जड़ जमाये नक्सलियों के लिए एक संदेश है। हो सकता है इसका बदला लेने के लिए, जो कि नक्सलियों की नीयत में शामिल है, कोई गलीज हरकत फिर करें, लेकिन हमारे जवानों के हाथ उन तक कभी भी पहुंच सकते हैं, यह उन्हें अपने जेहन में डाल लेना चाहिए।

सिर्फ गढ़चिरौली की ही घटना क्यों, छत्तीसगढ़ में अलग-अलग घटनाओं में ढेर किये गये नक्सलियों के साथ झारखंड समेत कई राज्यों में आतंक का पर्याय बन गये किशन दा को गिरफ्तार करना भी नक्सलियों की कमर पर एक जोरदार प्रहार है।

गढ़चिरौली में दुर्दांत नक्सली भी हुए ढेर

बता दें, शनिवार को महाराष्ट्र के गढ़चिरौली एनकाउंटर में पुलिस ने 26 नक्सलियों को ढेर किया था। इस एनकाउंटर में कई बड़े नक्सलियों के मारे जाने की खबरें अब आ  रही हैं। 50 लाख के इनामी नक्सली मिलिंद तेलतुम्बडे भी इसी एनकाउंटर में मार गिराया गया। मिलिंद तेलतुम्बडे भीमा कोरेगांव मामले में वांछित आरोपी था। मुंबई से करीब 900 किलोमीटर दूर पूर्वी महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में पुलिस के साथ मुठभेड़ में कम से कम 26 नक्सली मारे गए। यह मुठभेड़ करीब 12 घंटे तक चली थी। मारे गये नक्सलियों की अभी ठीक पहचान नहीं हो पायी है, समझा जा रहा है कि मारे गये इन नक्सलियों में कई बड़े और कुख्यात नक्सलियों के होने की भी सम्भावना है। शनिवार को गढ़चिरौली में हुए मुठभेड़ में कम से कम 26 नक्सली मारे गए, जिनमें 20 पुरुष और 6 महिलाएं शामिल हैं। मर्दिनटोला वन क्षेत्र के कोरची में जब सी-60 पुलिस कमांडो की एक टीम तलाशी अभियान चला रही थी तभी यह मुठभेड़ हुई है। मुठभेड़ में चार जवान भी घायल हुए हैं।

प्रशांत बोस उर्फ किशन दा की गिरफ्तारी बड़ी सफलता

झारखंड में समेत कई राज्यों में 100 से अधिक नक्सली वारदातों का मास्टरमाइंड प्रशांत बोस उर्फ किशन दा को पुलिस ने सरायकेला के कांड्रा व चांडिल के बीच एक घर से पत्नी सहित गिरफ्तार किया था। किशन दा झारखंड के अलावा बिहार, पश्चिम बंगाल, ओड़िशा, छत्तीसगढ़, आंध्रप्रदेश एवं महाराष्ट्र में 100 से अधिक नक्सली वारदातों का मास्टरमाइंड था। शुक्रवार को सरायकेला से उसकी गिरफ्तारी हुई है।

लाखों के इनामी समेत आठ नक्सली सुकमा में गिरफ्तार

दीपावली के अवसर पर सुरक्षा बल के जवानों ने सर्चिंग के दौरान 8 नक्सलियों को गिरफ्तार किया। इनमें एक 8 लाख व दूसरा 5 लाख रुपये का इनामी शामिल हैं। वहीं नक्सलियों के पास से विस्फोटक सामग्री बरामद की गई। इसके अलावा नक्सली समान भी बरामद किए गए। इनमें कवासी राजू उर्फ संतू बटालियन सदस्य (8 लाख) का इनामी है।

आत्मसमर्पण भी कर रहे नक्सली

सरकारों की आत्मसमर्पण नीति का भी नक्सलियों पर असर हो रहा है। समय-समय पर मुख्यधारा में शामिल होने के लिए नक्सली आत्मसर्पण भी करते रहते हैं। कुछ हफ्तों पहले छत्तीसगढ़ में 43 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया था। दांतेवाड़ा में एक पुलिस अभियान में 3 महिला नक्सली मारी गयी थीं, इस अभियान के बाद भी 14 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया था। अभी हाल में ही झारखंड के भी तीन नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया था।

यह भी पढ़ें: फिर टला पंचायत चुनाव: बोले पंचायती राज्य मंत्री आलमगीर आलम- बढ़ सकती है पंचायत चुनाव की तिथि

Related posts

पटना पुलिस के खिलाफ क्रिमिनल रिट मामले में HC में सुनवाई, कोर्ट ने जाहिर की कड़ी नाराजगी

Manoj Singh

राष्ट्रीय खेल दिवसः अंकुर सिन्हा रांची प्रेस क्लब टीटी प्रतियोगिता 2021 के विजेता बने

Pramod Kumar

अबू धाबी में भी विराजेंगे राम! बन रहा अयोध्या जैसा ‘राम मंदिर’, 1000 साल की गारंटी

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.