समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

IAS Pooja Singhal case: सियासी गलियारे तक पहुंची ED जांच की आंच, JMM के पूर्व कोषाध्यक्ष Ravi Kejriwal से पूछताछ

Ravi Kejriwal

IAS Pooja Singhal case: आईएएस पूजा सिंघल प्रकरण में ईडी की जांच का दायरा अब सियासी गलियारे तक बढ़ता दिख रहा है. जहां एक तरफ ईडी पूजा सिंघल को पांच दिनों के रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है, तो वहीं दूसरी ओर ईडी रविवार को जेएमएम से निष्कासित पूर्व कोषाध्यक्ष रवि केजरीवाल (Ravi Kejriwal) से पूछताछ कर रही है. हालांकि ईडी की तरफ से इसकी आधिकारिक तौर पर कोई पुष्टि नहीं की गई है.

इन मामलों पर हो रही पूछताछ 

सूत्रों के मुताबिक मनरेगा घोटाले से शुरू हुई ईडी की जांच में पल्स अस्पताल व पल्स डायग्नोसिस सेंटर में निवेश और भुइंहरी जमीन की खरीद, गलत तरीके से लोन लेने के मामले को लेकर ईडी पूछताछ कर रही है.वहीँ अब इस मामले में खनन कारोबार की भी जानकारी सामने आ गयी है. जिसे लेकर पूछताछ जारी है. 3 जिला खनन अधिकारियों को ईडी ने पूछताछ के लिए तलब किया है.

शेल कंपनियों को लेकर भी हो रही पूछताछ 

रांची स्थित ईडी के जोनल ऑफिस में रविवार को जेएमएम के पूर्व कोषाध्यक्ष रवि केजरीवाल पहुंचे जहां उनसे पूछताछ की जा रही है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पूजा सिंघल और अभिषेक झा से जुड़ी शेल कंपनियों को लेकर उनसे पूछताछ चल रही है. सीए सुमन कुमार और पूजा सिंघल की रिमांड अवधि सोमवार को खत्म होने वाली है.

ईडी ने व्हाट्सऐप मैसेज किया 

रविवार को रवि केजरीवाल के ईडी ऑफिस पहुंचने के बाद उनसे पूछताछ शुरू हुई. बता दें कि रवि केजरीवाल को ईडी ऑफिस आने के लिए व्हाट्सऐप मैसेज ईडी के द्वारा किया गया जिसके बाद आज रवि केजरीवाल रांची के ईडी ऑफिस पहुंचे.

कौन हैं रवि केजरीवाल?

रवि केजरीवाल का झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन (Shibu Soren) और हेमंत सोरेन से वर्षों का रिश्ता रहा है। उन्‍होंने पार्टी मे लंबे समय तक कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी निभाई है। रवि केजरीवाल (ravi kejriwal) हेमंत सोरेन की पहली 14 महीने की सरकार में सीएम के साथ साये की तरह रहते थे। वह लम्बे समय तक सरकार में रवि केजरीवाल की तूती बोला करती थी, लेकिन 2019 में जब झामुमो ने हेमंत सोरेन के नेतृत्व में सरकार बनाई तो केजरीवाल हासिए पर चले गए। यहां तक की उनको पार्टी से बाहर का रास्ता भी दिखा दिया गया। रवि केजरीवाल पर घाटशिला के विधायक रामदास सोरेन को हेमंत सरकार से बगावत कर पार्टी तोड़ने के लिए उकसाने का भी आरोप लग चुका है.
ये भी पढ़ें : लातेहार: पंचायत चुनाव के बीच माओवादियों का तांडव, कंस्ट्रक्शन कार्य में जुटी वाहनों को किया आग के हवाले

 

Related posts

World Earth Day 2022: जानें क्या है ‘विश्व पृथ्वी दिवस’ का इतिहास और इस साल की थीम

Sumeet Roy

Pakistan: मुश्किल में इमरान? संकट देख देश से खिसक लिये 3 सबसे करीबी? पूर्व चीफ जस्टिस भी लापता?

Pramod Kumar

Road Safety : रोड एक्सिडेंट में अब नहीं जाएगी लोगों की जान, सरकार करने जा रही ये बड़ा इंतजाम

Manoj Singh