समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

आतंक पर भारत-चीन साथ? लगता है ड्रैगन को गुड-बैड आतंकवाद की समझ आ गयी!

लगता है ड्रैगन को गुड-बैड आतंकवाद की समझ आ गयी!

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

लगता है, वैश्विक आतंकवाद पर चीन ने अपना नजरिया बदल लिया है। अब वह आतंकवाद के खिलाफ और उससे होने वाले नुकसान की बातें करने लगा है। उसे यह भी समझ आ गया है कि भारत बार-बार दुनिया को आतंकवाद के खिलाफ क्यों गोलबंद होने के लिए कहता रहता है। चीन को गुड और बैड आतंकवाद की भी समझ आ गयी है। वह ‘प्रवचन’ भी दे रहा है कि आतंकवाद पर विश्व को दोहरा मापदंड छोड़ना होगा।

ग्लोबल काउंटर टेरेरिज्म फोरम की 11वीं बैठक में चीन ने आतंकवाद पर जो कुछ कहा, इससे यही अनुमान लगाया जा सकता है। मगर चीन इस बैठक में पाकिस्तान और तालिबान के नाम लेने से बचता रहा। फिर भी चीन ने आतंकवाद पर दुनिया को दोहरा मानदंड छोड़ने की सलाह दे डाली।धीरे-धीरे ही सही, आतंकवाद पर दुनिया का सुर बदलना एक सकारात्मक संकेत है। भले ही चीन ने पहली बार आतंकवाद पर अपना मुंह खोला है। पहली बार उसे गुड आतंकवाद – बैड आतंकवाद में अंतर समझ आया है। लेकिन चीन जब तक अपने आर्थिक हितों को प्राथमिकता देता रहेगा, उसके ऐसे बयानों की कोई सार्थकता नहीं है। याद करना होगा, जब अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनने वाली थी तब चीन के अधिकारियों ने तालिबान के शीर्ष कमांडरों से न सिर्फ मुलाकात की थी, बल्कि उन्हें हर तरह की मदद का भी आश्वासन दिया था। अब उसके द्वारा दिये जा रहे बयान को क्या समझा जाये कि चीन को भी तालिबान और आतंक के गठजोड़ के नकारात्मक प्रभाव समझ आ रहे हैं?

ग्लोबल काउंटर टेरेरिज्म फोरम को चीनी विदेश मंत्री वांग यी सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने बेलौस अंदाज में कहा, ‘आतंकवाद का सिर्फ एक ही रूप है और वह है आतंक का प्रचार-प्रसार। आतंकवाद को किसी लिहाज से भी गुड-बैड में नहीं बांटा जा सकता।‘ वांग यी ने आतंकवाद की तुलना बाघ से करते हुए कहा, ‘आतंकवाद एक बाघ की तरह है जो पालने वाले को भी खा जाता है।‘

पाकिस्तान और तालिबान के नाम लेने से बचता रहा चीन

वांग यी ने आतंकवाद पर तो बहुत कुछ कहा, लेकिन अपने बयान में अपने सदाबहार दोस्त पाकिस्तान और तालिबान का नाम नहीं लिया। वांग ने दोनों ‘यारों’ के नाम नहीं लिये तो क्या हुआ, इशारा तो इन्हीं की तरफ था। क्योंकि अगर वांग ने पूरी दुनिया के लिए आतंकवाद की जिस चुनौती का जिक्र किया, , यह सबको पता है, यह चुनौती किनके कारण है। चीन को भी पता है।

फिर भी चीन के विदेश मंत्री ने विश्व को आतंकवाद के खिलाफ चेतावनी देने का काम तो किया। उन्होंने चेताया कि आधुनिक तकनीकों से लैस होते आतंकवादियों को ध्यान में रखते हुए भी दुनिया को आतंक के खिलाफ जंग की तैयारी करनी होगी।

यह भी पढ़ें: Coal Crisis : झारखंड में गहराया बिजली संकट, क्या पर्व पर पसरेगा ‘अंधेरा’!

Related posts

असम में उग्रवादियों का तांडव, ‘नरपिशाचों’ ने 5 ट्रक ड्राइवरों को जिंदा जलाया

Pramod Kumar

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह सस्पेंड, कोर्ट से राहत के बाद महाराष्ट्र सरकार ने दिया झटका

Pramod Kumar

Rolls-Royce Spectre: आ रही है रोल्स-रॉयस की पहली इलेक्ट्रिक लग्जरी कार, कंपनी ने दिखाई पहली झलक,जानें खासियत

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.