समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

T20 World Cup 2021: ‘जीतने वाली टीम’ बुरी तरह क्यों हार गयी पाकिस्तान से, जानिये पांच वजहें

India vs Pakistan

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

आखिर मेंटर धौनी की सीख में क्या कमी रह गयी कि टीम इंडिया पाकिस्तान के हाथों बुरी तरह पिट गयी। पाकिस्तान ने महामुकाबले को महाआसान मुकाबला बना हुए जीता। T20 World Cup 2021 के महामुकाबले में पाकिस्तान ने टीम इंडिया को 10 विकेट से पीट दिया। धौनी द्वारा प्रशिक्षित कोहली की विराट सेना फटाफट क्रिकेट में फिसड्डी साबित हुई। रोहित शर्मा, केएल राहुल की विश्व की नम्बर एक ओपनिंग जोड़ी, विश्व भर में तारीफ बटोरने वाला भारतीय गेंदबाज अटैक, सब धरे के धरे रह गये। बल्लेबाजों ने खैर कुछ रन बना भी लिया, लेकिन गेंदबाजों के पास तो अपनी सफाई देने के लिए शब्द नहीं बचे होंगे। बाबर सेना ने विराट सेना को इस तरह से हरा दिया कि अब वर्षों से पाकिस्तान के लिए प्रयोग किया जाने वाला जुमला ‘विश्व कप मुकाबलों में भारत पाकिस्तान से नहीं हारा’ बेमानी हो गया है।  बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान की सलामी जोड़ी ने हंसते-खेलते हुए 152 रनों के लक्ष्य को हासिल कर इस जुमले को दोबारा इस्तेमाल करने के लायक नहीं छोड़ा। टीम इंडिया को ‘धोने’ के साथ 29 साल से चले आ रहे इस ‘कलंक’ को पाकिस्तान ने धो दिया है।

भले ही भारत ने पाकिस्तान को बुरी तरह से हरा दिया है। लेकिन टीम इंडिया ऐसी भी नहीं है कि बार-बार उसे इस तरह से हराया जा सके। वैसे भी हार पाकिस्तान से हाथों हुई है तो भारत की हार का पोस्टमार्टम करना भी जरूरी है। तो पांच कारणों से भारत की हार को समझने का प्रयास करते हैं-

बेहतर टीम चुनने में चूक हुई

चूंकि हार बड़ी है तो सबसे पहले सवाल टीम सलेक्शन पर ही उठेगा ही। महत्वपूर्ण मैच में तीन खिलाड़ियों का सलेक्शन नहीं  होने पर सवाल उठे हैं। वॉर्मअप मैचों में बल्लेबाजों की नाक में दम करने वाले रविचंद्रन अश्विन के अनुभव को कप्तान कोहली ने दरकिनार किया। फिर, गेंद से लाजवाब फॉर्म में चल रहे शार्दुल ठाकुर को भी अहम मुकाबले में टीम से बाहर रखा गया। शार्दुल बल्ले से भी कमाल करते हैं। इसके बाद, हालिया फॉर्म को देखते हुए इस मैच में ईशान किशन शायद हार्दिक पांड्या से बेहतर फिनिशर हो सकते थे। वह अच्छे फॉर्म में भी हैं। जब यह तय था कि हार्दिक पांड्या से गेंदबाजी नहीं करानी है तब हार्दिक पांड्या को टीम में रखने का रिस्क लेना एक गलत निर्णय था।

पाकिस्तान ओपनर्स खूब चले, भारतीय ओपनर्स बिलकुल नहीं

भारत और पाकिस्तान की पारी में सबसे बड़ा अंतर ओपनर्स की भूमिका रही। पाकिस्तान के ओपनर्स की तरह अगर भारतीय ओपनर्स चल जाते तो मैच का रंग और रूप दोनों बदल जाता। टीम इंडिया की सलामी जोड़ी रोहित शर्मा और केएल राहुल से बेहतर शुरुआत देने की उम्मीद थी। एक बेहतर शुरुआत हो जाती तो फिर बाद के बल्लेबाजों का काम आसान हो जाता, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। दोनों के ऊपर टीम को जबरदस्त शुरुआत देने का दारोमदार था। लेकिन, ना हिटमैन हिट रहे और ना राहुल चले। पहले के दिनों में शाहिद अफरीदी टीम इंडिया को परेशान किया करते थे, कल के मैच में उनके होने वाले दामाद शाहीन अफरीदी ने टीम इंडिया को बैकफुट पर डाल दिया। भारतीय ओपनर्स के विकेट जल्दी निकाल कर शाहीन अफरीदी ने शुरुआत में ही टीम इंडिया को गहरे संकट में डाल दिया।

सूर्यकुमार, हार्दिक के बल्ले से भी नहीं निकले रन

मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव ने जल्दी मैदान पर उतरना पड़ा था। लेकिन सेट होने से पहले हसन अली की गेंद पर गलती कर बैठे। वहीं, विराट के आउट होने के बाद आखिरी ओवरों में टीम को हार्दिक पांड्या से दमदार शॉट्स की जरूरत थी, लेकिन हार्दिक गेंद को मिडिल करने के लिए संघर्ष करते दिखाई दिये। तलवार (बल्ला) भांजने वाले  रवींद्र जडेजा भी खामोशी से आये-गये। इन तीनों के फ्लॉप शो के चलते कप्तान विराट कोहली की मेहनत पर भी पानी फिर गया। माना जा रहा है, यहां पर हार्दिक की जगह अगर ईशान किशन होते तो उनसे भी कुछ रनों की उम्मीद की जा सकती थी। यही नहीं, ओपनर्स के जल्दी आउट होने के वक्त भी ईशान को ऊपर बल्लेबाजी में भेजा जा सकता था, खैर, जब टीम इंडिया में उनका सलेक्शन ही नहीं हुआ तब इसकी और चर्चा करना बेमानी है।

बाबर ने जीता महत्वपूर्ण टॉस

इस मैच में टॉस ने अहम रोल निभाया। आमतौर पर टॉस जीतने में फिसड्डी साबित होते रहे कप्तान विराट कोहली की किस्मत ने रविवार को भी उनका साथ नहीं दिया। टॉस पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम के पक्ष में गिरा और उन्होंने बिना कोई देरी करते हुए पहले गेंदबाजी करने का फैसला कर लिया। टॉस जीतने के साथ ही बाबर ने आधी बाजी मार ली थी, क्योंकि दुबई में रनों का पीछा करने वाली टीम का हमेशा ही बोलबाला रहा था।

शुरुआती ओवरों में विकेट नहीं निकाल पाना बड़ी वजह

वैसे तो टीम इंडिया पाकिस्तान की  पूरी पारी में कोई विकेट नहीं निकाल सकी। लेकिन शुरुआती ओवरों में कोई विकेट नहीं निकाल पाना भारत की हार का बड़ा कारण बन गया। अगर पावरप्ले के अंदर एक-दो विकेट निकल जाते तो बाद के पाकिस्तानी बल्लेबाजों पर अंकुश लगाया जा सकता था, लेकिन विकेट पर जो दो बल्लेबाज थे, उसमें से एक विराट कोहली की बराबर की क्षमता का बल्लेबाज था और दूसरे ने इस साल टी20 मैचों में सर्वाधिक रन बनाये थे। इन दो बल्लेबाजों का आखिर तक टिके रहना टीम इंडिया के हक में नहीं गया। बल्लेबाजों ही नहीं, गेंदबाजी में भी टीम इंडिया ने निराश किया। भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह की तिकड़ी पावरप्ले में कोई भी विकेट  नहीं निकाल सकी और ना ही ये तीनों मिलकर रनों पर लगाम लगा सके। बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान ने शुरुआत से ही आक्रामक तेवर दिखाए और क्रीज पर सेट होने के बाद हर भारतीय गेंदबाज की जमकर धुनाई की।

यह भी पढ़ें: Mann Ki Baat : PM Modi ने किया बिरसा मुंडा को याद, कहा- बिरसा मुंडा से हमें कई चीजें सीखने को मिलती है

Related posts

IPL 2022: एमएस धोनी, रोहित शर्मा और विराट कोहली के ऊपर फ्रेंचाइजियों की बरसी कृपा कितनी जायज

Pramod Kumar

आत्मनिर्भर नारीशक्ति से संवाद: महिलाएं अब पैसे डिब्बे में नहीं, बैंक में रखती हैं – पीएम

Pramod Kumar

आज Grand Wedding: 7 घोड़ों के रथ पर सवार हो Vicky पहुंचेंगे दुल्हनिया Katrina का हाथ थामने

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.