समाचार प्लस
Breaking पटना फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

Swachh Survekshan: दस लाख से ज्यादा आबादी वाले शहरों की श्रेणी में पटना को 44 वां स्थान, गंगा टाउन की श्रेणी में तीसरे पायदान पर

Swachh Survekshan: दस लाख से ज्यादा आबादी वाले शहरों की श्रेणी में पटना को 44 वां स्थान

पटना से मणिभूषण की रिपोर्ट 

Swachh Survekshan: स्वच्छता से जुड़े विश्व के सबसे बड़े सर्वे “स्वच्छ सर्वेक्षण” के छठे संस्करण स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में पटना ने सभी घटकों में बेहतर प्रदर्शन करते हुए सभी श्रेणियों में उच्च स्थान प्राप्त किया है। 10 लाख से ज्यादा आबादी वाले शहरों की लिस्ट में जहां पटना को कुल 2739.92 अंक के साथ 44वीं रैंक मिली है, वहीं गंगा टाउन श्रेणी में बड़ी छलांग लगाते हुए 97 शहरों की लिस्ट में पटना तीसरे स्थान पर काबिज हो चुका है।

विदित है कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 में पटना को 10 लाख आबादी वाले शहरों की लिस्ट में 1552.11 अंकों के साथ 47वां स्थान मिला था, वहीं गंगा टाउन की श्रेणी में 37.12 अंकों के साथ पटना 32वें रैंक पर था।

सिटीजन व्यॉस घटक में 4320 शहरों में पटना 174वें पायदान पर

स्वच्छ सर्वेक्षण के तीन घटकों में पटना को सबसे ज्यादा अंक सिटीजन व्यॉस में मिला है। स्वच्छता कार्यों में जनता की सहभागिता एवं फीडबैक के आधार पर हुई गणना में पटना को कुल 1341 अंक प्राप्त हुए हैं। कुल 4320 शहरों को सिटीजन व्यॉस पिलर में मिले अंकों की फेहरिस्त में पटना 174वें पायदान पर है।

सर्वेक्षण के दौरान बिहार राज्य से कुल 4,77,849 लोगों ने अपने-अपने निकायों की स्वच्छता पर हुई पोलिंग में भाग लिया जिसमें पटनावासी अव्वल रहे। पटना के कुल 2,01,662 लोगों ने स्वच्छता पर हुए ऑनलाइन पोलिंग में भाग लिया।

सर्विस लेवल प्रोग्रेस में पटना का प्रदर्शन सबसे बेहतर

पटना नगर निगम ने सबसे बेहतर प्रदर्शन सर्विस लेवल प्रोग्रेस घटक में किया है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में पटना को जहां कुल 1098 अंक प्राप्त हुए वहीं, स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 में इस श्रेणी में पटना को 105.16 अंक मिले थे। विदित है कि सर्विस लेवल प्रोग्रेस पिलर के अंतर्गत कचरा उठाव, ठोस अपशिष्ट एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के आधार पर मूल्यांकन किया गया। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में पटना नगर निगम द्वारा वर्तमान में सौ फीसदी वार्डों से कचरा उठाव किया जा रहा है। इस श्रेणी में पटना को अधिकतम अंक मिले, वहीं, कचरा पृथक्करण एवं प्रोसेसिंग हेतु आवश्यक आधारभूत संरचनाओं की कमी की वजह से पटना नगर निगम को कम अंक प्राप्त हुए।

उल्लेखनीय है कि शत प्रतिशत वार्डों में कचरा पृथक्करण का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए पटना नगर निगम द्वारा आम जनता को बीच सूखा-कचरा एवं गीला कचरा अलग-अलग संग्रह करने हेतु जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है। वहीं, निकाय स्तर से विभिन्न स्थानों पर कम्पोस्टिंग पिट बनाए जा रहे हैं। साथ ही डंपिंग यार्ड में ट्रॉमेल मशीन के माध्यम से ठोस अपशिष्ट को अलग अलग श्रेणी में छांटकर उनका निष्पादन किया जा रहा है एवं प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन का कार्य किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें : Bigg Boss 15 : लगेगा ग्लैमर का तड़का, क्या होगी Rashmi Desai और Devoleena Bhattacharjee की Wild Card entry?

 

 

Related posts

Mann Ki Baat : PM Modi ने कारगिल विजय को किया याद, ओलंपिक(Olympic) के भारतीय खिलाड़ियों का बढ़ाया हौसला

Pramod Kumar

ट्रैक पर आ रही है Rhea Chakraborty की लाइफ, देर रात पार्टी करने निकलीं, देखें खूबसूरत अंदाज 

Manoj Singh

T20 World Cup 2021: ‘जीतने वाली टीम’ बुरी तरह क्यों हार गयी पाकिस्तान से, जानिये पांच वजहें

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.