समाचार प्लस
Uncategories झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

पूर्व IG PS नटराजन का स्टिंग कर चर्चा में आयी थी सुषमा बड़ाइक, अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठा था मामला

image source : social media

मंगलवार सुबह रांची के अरगोड़ा थाना क्षेत्र स्थित सहजानंद चौक के पास बाइक सवार अज्ञात अपराधियों ने सुषमा बड़ाइक को गोली मार दी। गोली तब मारी गई, जब वो बॉडीगार्ड के साथ कहीं जा रही थी। अपराधियों ने सुषमा बड़ाइक (Sushma Badaik) को तीन गोली मारी है। इसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गयी। पुलिस ने घायल अवस्था में उसे मेडिका अस्पताल में भर्ती कराया।गौरतलब है कि सुषमा बड़ाईक झारखंड और खास तौर पर राजधानी रांची में एक जाना-पहचाना नाम है। उस वक़्त के आईपीएस अधिकारी पी नटराजन (IPS P Natrajan) पर यौन शोषण (Sexual Exploitation) का आरोप लगाकर चर्चा में आईं सुषमा (Sushma Badaik) से संबंधित एक केस की सुनवाई आज यानी सोमवार को हाईकोर्ट में थी। लेकिन इससे पहले ही उसे गोली मार दी गई। वह कोर्ट में अपना पक्ष खुद ही रखने वाली थी।बताया गया है कि सुषमा से संबंधित केस झारखंड हाई कोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की कोर्ट में सुनवाई के लिए सूचीबद्ध है।

यौन शोषण के बाद आई थी चर्चा में 

उल्लेखनीय है कि बहुचर्चित आइपीएस पीएस नटराजन (Ex IPS P Natrajan) पर यौन शोषण केस कर सुषमा बड़ाइक चर्चा में आयी थी। हालांकि बाद में झारखंड कैडर में 1975 बैच के आईपीएस अधिकारी एवं सुषमा बड़ाईक मामले के आरोपी पीएस नटराजन बर्खास्त कर दिए गए थे।

image source : social media
image source : social media

क्या था मामला 

सुषमा का यौन शोषण तब किया गया था जब वह एक अन्य आईपीएस अधिकारी परवेज हयात पर यौन शोषण करने का आरोप लेकर न्याय के लिए पीएस नटराजन के पास पहुंची थी। उस वक्त नटराजन आईजी थे। नटराजन ने सुषमा को न्याय दिलाने की जगह उसका यौन शोषण किया। टीवी चैनलों के स्टिंग में इसका खुलासा हुआ। हयात के खिलाफ भी जांच हुई। हयात से पूर्व सुषमा के साथ 7 जून 2002 को गैंगरेप करने का मामला पलामू में दर्ज हुआ था। इसी मामले में न्याय को ले वह हयात के पास पहुंची थी।

परवेज मुशर्रफ ने उठाया था नटराजन का मामला

आईपीएस नटराजन के कारण भारत की एक अंतरराष्ट्रीय मंच पर खूब आलोचना हुई थी। पाकिस्तान में मुख्तारन माई पर हुए जुल्म को लेकर कई देशों ने अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान के खिलाफ आवाज उठाई थी।  वहां महिलाओं पर घोर अत्याचार होने की बात जोरों से की जा रही थी, मानवाधिकार की भी बात उठी। तब पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ थे, जो उस मंच पर पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। उन्होंने  उठकर कहा था कि आप लोग पाकिस्तान की बात तो उठा रहे हैं, लेकिन पड़ोसी मुल्क भारत में तो औरतों बिल्कुल महफूज नहीं। उन्होंने इस मामले को उठाते हुए कहा था कि भारत में तो कानून के रखवाले ही औरतों पर जुल्म कर रहे हैं। टीवी चैनलों पर उन दिनों नटराजन का कुकृत्य चर्चा का केंद्र था। इसके तत्काल बाद नटराजन बर्खास्त कर दिए गए थे।

ये भी पढ़ें :Jharkhand: पुलिस को सुषमा बड़ाइक पर गोलीबारी का शक हम पार्टी के पूर्व प्रवक्ता दानिश रिजवान पर

 

Related posts

बहानेबाजी छोड़ केंद्र के तर्ज पर पेट्रोल और डीजल से VAT घटाए हेमंत सरकार- Deepak Prakash

Sumeet Roy

Jharkhand: राज्यपाल ने श्री जगदीशप्रसाद झाबरमल टिबड़ेवाला विश्वविद्यालय, झुंझुनू के विशेष दीक्षांत समारोह में बांटी डी. लिट उपाधियां

Pramod Kumar

Parliament: ग्रामीण विकास के लिए केंद्र ने झारखंड को दी 12 हजार करोड़ की राशि

Pramod Kumar