समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

CBI का रिपोर्ट कार्ड तैयार करेगा सुप्रीम कोर्ट, पूछा- कितने मुकदमों में सजा दिलवाई, बताइए

CBI का रिपोर्ट कार्ड तैयार करेगा सुप्रीम कोर्ट, पूछा- कितने मुकदमों में सजा दिलवाई, बताइए

CBI की कार्यशैली से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने एजेंसी से सक्सेस रेट बताने को कहा है। सीबीआई द्वारा मुकदमा चलाए जा रहे मामलों में अत्यधिक देरी का हवाला देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अदालती मामलों में एजेंसी की सफलता दर पर डेटा मांगा है। माना जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट सीबीआई के प्रदर्शन का मूल्यांकन कर सकता है। दरअसल, एक मामले में सीबीआई द्वारा 542 दिनों की देरी के बाद अपील दायर किए जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी व्यक्त की और उसने केंद्रीय एजेंसी के कामकाज और उसके परफॉर्मेन्स का विश्लेषण करने का फैसला किया।

सीबीआई की कुछ जवाबदेही होनी चाहिए

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई निदेशक को निर्देश दिया है कि वह उन मामलों की संख्या को कोर्ट के सामने रखें, जिनमें एजेंसी ट्रायल कोर्ट और हाईकोर्टों में अभियुक्तों को दोषी ठहराने में सफल रही। कोर्ट ने यह भी पूछा है कि सीबीआई निदेशक कानूनी कार्यवाही के के संबंध में विभाग को मजबूत करने के लिए क्या कदम उठा रहे हैं? जस्टिस संजय किशन कौल और एमएम सुंदरेश की बेंच ने कहा कि सीबीआई की कुछ जवाबदेही होनी चाहिए।

अदालतों में कितने मामले लंबित हैं और कितने समय से हैं, बताएं 

दो जजों जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एम सुंदरेश की पीठ ने कहा कि एजेंसी के लिए केवल मामला दर्ज करना और जांच करना ही काफी नहीं है, बल्कि यह सुनिश्चित करना भी है कि अभियोजन सफलतापूर्वक किया जाए। पीठ ने सीबीआई से अभी निपटाए जा रहे केसों और सफलतापूर्वक पूरे किए गए मामलों का पूरा विवरण मांगा है। सीबीआई को यह भी ब्योरा देने के लिए कहा गया है कि अदालतों में कितने मामले लंबित हैं और कितने समय से हैं।

प्रदर्शन का विश्लेषण करने का फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में अपील दायर करने में अत्यधिक देरी के लिए सीबीआई की खिंचाई की है। सुप्रीम कोर्ट ने अब एक कदम आगे बढ़ाते हुए अन्य मामलों में भी एजेंसी के प्रदर्शन का विश्लेषण करने का फैसला किया है। सुप्रीम कोर्ट की इस पीठ ने कहा कि हम सीबीआई की सफलता दर की जांच करेंगे। दरअसल, पीठ 2018 में सीबीआई द्वारा दायर एक साल से अधिक समय पर एक अपील से जुड़े एक मामले की सुनवाई कर रही थी, जिसमें जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय ने अपना फैसला सुनाया था।

ये भी पढ़ें : SC कॉलेजियम ने हाई कोर्ट में जजों की नियुक्ति के लिए 68 नामों की सिफारिश की, 10 महिला भी शामिल

Related posts

अनंत चतुर्दशी पर करें भगवान विष्णु की आराधना, पूरी होंगी सारी मनोकामनाएं

Pramod Kumar

JSCA Stadium: टीम इंडिया के लिए शुभ रहा है रांची का मैदान, T20 में नहीं हारा है भारत

Pramod Kumar

Godda : CM हेमन्त सोरेन मंदिर के प्राण- प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल हुए, कहा – मंदिर मस्जिद -गुरुद्वारा -चर्च किसी एक मजहब और तबके का नहीं

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.