समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Supreme Court ने कॉलेजियम की बैठक का ब्यौरा मांगने वाली याचिका खारिज की, कहा- यह RTI के दायरे में नहीं

image source : social media

आरटीआई से सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की बैठक की जानकारी नहीं मिल सकेगी। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आरटीआई (RTI) के तहत एक कॉलेजियम (collegium)  बैठक के विवरण का खुलासा करने की मांग वाली याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी। याचिका में सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत 12 दिसंबर, 2018 को हुई सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की बैठक का विवरण मांगा गया था।

कॉलेजियम बैठक की चर्चा को जनता के सामने लाया नहीं जा सकता 

याचिका खारिज करते हुए शीर्ष अदालत (Supreme Court) ने कहा कि कॉलेजियम बैठक की चर्चा को जनता के सामने लाया नहीं किया जा सकता है, सिर्फ कॉलेजियम के अंतिम निर्णय को वेबसाइट पर अपलोड करने की आवश्यकता है। अदालत ने कहा कि केवल अंतिम प्रस्ताव को ही निर्णय माना जा सकता है और जिस पर भी चर्चा की जाती है, वह खासकर आरटीआई अधिनियम के तहत सार्वजनिक डोमेन में नहीं होना चाहिए।

अस्थायी निर्णय सार्वजनिक करना ठीक नहीं

याचिका की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि कॉलेजियम बहु-सदस्यीय निकाय है, जिसका अस्थायी निर्णय सार्वजनिक डोमेन में नहीं लाया जा सकता है। बता दें कि वर्ष 2018 में हुई बैठक का विवरण मांगने के लिए कोर्ट में याचिका डाली गई थी।

दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश को दी गई थी चुनौती

आरटीआई कार्यकर्ता अंजलि भारद्वाज ने दिल्ली हाईकोर्ट के एक आदेश को चुनौती देते हुए यह याचिका दायर की थी। भारद्वाज ने दिसंबर 2018 में हुई कॉलेजियम बैठक में उच्च न्यायालय के दो मुख्य न्यायाधीशों को पदोन्नति की सिफारिश करने के निर्णय को सार्वजनिक किए जाने की मांग की थी। भारद्वाज के अनुरोध को खारिज करते हुए, न्यायमूर्ति एमआर शाह की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि अनुवर्ती संकल्प 10 जनवरी, 2019 को पारित किया गया था, इससे पता चलता है कि 12 दिसंबर, 2018 की बैठक के दौरान कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया था।

ये भी पढ़ें: फॉर्ब्स इंडिया ने सेल्फ मेड वुमन की सूची में झारखंड की युवा कवयित्री Jacinta Kerketta को किया शामिल

Related posts

Ribika Murder:  निशिकांत दुबे ने लोकसभा में कहा- बर्खास्त हो हेमंत सरकार, देखिये क्या कहा सांसद ने

Pramod Kumar

यौन शोषण मामला : पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी गिरफ्तार

Manoj Singh

स्वतंत्रता के 75 साल : क्यों बिगड़ रहे हैं पड़ोसी देशों के साथ भारत के रिश्ते?

Manoj Singh