समाचार प्लस
देश

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा- ‘ब्रिटिश काल के’ राजद्रोह कानून को खत्‍म क्‍यों नहीं करते ?

Supreme Court

सुप्रीम कोर्ट ने राजद्रोह संबंधी ब्रिटिश काल के कानून के दुरुपयोग पर गुरुवार को चिंता व्यक्त की और इसके प्रावधान की वैधता को चुनौती देने वाली ‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया’ की याचिका समेत याचिकाओं के समूह पर केंद्र से जवाब मांगा। प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि उसकी मुख्य चिंता ‘‘कानून का दुरुपयोग’’ है और उसने पुराने कानूनों को निरस्त कर रहे केंद्र से सवाल किया कि वह इस प्रावधान को समाप्त क्यों नहीं कर रहा।

न्यायालय ने कहा कि राजद्रोह कानून का मकसद स्वतंत्रता संग्राम को दबाना था, जिसका इस्तेमाल अंग्रेजों ने महात्मा गांधी और अन्य को चुप कराने के लिए किया था। इस बीच, अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने प्रावधान की वैधता का बचाव करते हुए कहा कि राजद्रोह कानून के दुरुपयोग को रोकने के लिए कुछ दिशा-निर्देश बनाए जा सकते हैं।

पीठ मेजर-जनरल (सेवानिवृत्त) एसजी वोम्बटकेरे की एक नई याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें भारतीय दंड संहिता की धारा 124 ए (राजद्रोह) की संवैधानिक वैधता को इस आधार पर चुनौती दी गई है कि यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार पर अनुचित प्रतिबंध है।

जानें क्या है राजद्रोह कानून

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 124 ए में राजद्रोह की परिभाषा के अनुसार अगर कोई व्यक्ति सरकार-विरोधी सामग्री लिखता या बोलता है, ऐसी सामग्री का समर्थन करता है, राष्ट्रीय चिन्हों का अपमान करने के साथ संविधान को नीचा दिखाने की कोशिश करता है तो उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 124 ए में राजद्रोह का मामला दर्ज हो सकता है। इसके अलावा अगर कोई शख्स देश विरोधी संगठन के खिलाफ अनजाने में भी संबंध रखता है या किसी भी प्रकार से सहयोग करता है तो वह भी राजद्रोह के दायरे में आता है।

Related posts

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ Satya Nadella के बेटे का निधन, Cerebral Palsy से थे पीड़ित 

Manoj Singh

Budget Session 2022: संसद का बजट सत्र कल से, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सदन में पेश करेंगी इकोनॉमिक सर्वे

Manoj Singh

बंगाल की खाड़ी में उठ रहा ‘गुलाब’, चक्रवाती तूफान को लेकर ओडिशा, आंध्र प्रदेश में हाईअलर्ट, बंगाल में भारी बारिश का अनुमान

Manoj Singh