समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

कहानी पाकिस्तान की उस लड़की की…जिसे दुनिया Malala Yousafzai कहती है

Malala Yousafzai

न्यूज़ डेस्क /समाचार प्लस झारखंड -बिहार

नोबल शांति पुरस्कार से सम्मानित और कार्यकर्ता मलाला यूसुफजई (Malala Yousafzai) ने मंगलवार को शादी कर ली है. 24 वर्षीय मलाला अभी सोशल मीडिया में अपनी निकाह को लेकर चर्चा का विषय बनी हुई हैं, आइए जानते हैं मलाला की जीवन से जुडी ख़ास बातें.

कौन हैं मलाला यूसुफजई?

मलाला का जन्म 1997 में पाकिस्तान के खैबर पख्‍तूनख्‍वा प्रांत की स्वात घाटी में हुआ. मलाला के पिता का नाम जियाउद्दीन यूसुफजई है. साल 2007 से मई 2009 तक स्वात घाटी पर तालिबानियों ने खूब आतंक मचा रखा था. तालिबान आतंकियों के डर से लड़कियों ने स्कूल जाना बंद कर दिया था. मलाला तब आठवीं की छात्रा थीं और उनका संघर्ष यहीं से शुरू होता है.

तालिबान ने 2008 में स्वात घाटी को अपने नियंत्रण में लेने के बाद वहां डीवीडी, डांस और ब्यूटी पार्लर पर बैन लगा दिया. साल के अंत तक वहां करीब 400 स्कूल बंद करा दिए गए. इसके बाद मलाला के पिता उसे पेशावर ले गए जहां उन्होंने नेशनल प्रेस के सामने वो मशहूर भाषण दिया जिसका शीर्षक था- हाउ डेयर द तालिबान टेक अवे माय बेसिक राइट टू एजुकेशन? तब वो केवल 11 साल की थीं.

छद्म नाम ‘गुल मकई’ से बीबीसी के लिए एक डायरी लिखी

साल 2009 में उसने अपने छद्म नाम ‘गुल मकई’ से बीबीसी के लिए एक डायरी लिखी. इसमें उन्होंने स्वात में तालिबान के दुष्कर्म का वर्णन किया था. बीबीसी के लिए डायरी लिखते हुए मलाला पहली बार दुनिया की नजर में तब आईं, जब दिसंबर 2009 में जियाउद्दीन ने अपनी बेटी की पहचान सार्वजनिक की.

Malala Yousafzai
Malala Yousafzai

मलाला पर तालिबानी हमला

2012 को तालिबानी आतंकी उस बस पर सवार हो गए, जिसमें मलाला अपने साथियों के साथ स्कूल जाती थीं. उनमें से एक ने बस में पूछा, ‘मलाला कौन है?’ सभी खामोश रहे लेकिन उनकी निगाह मलाला की ओर घूम गईं. इससे आतंकियों को पता चल गया कि मलाला कौन है. उन्होंने मलाला पर एक गोली चलाई जो उसके सिर में जा लगी. मलाला पर यह हमला 9 अक्टूबर 2012 को खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के स्वात घाटी में किया था. गंभीर रूप से घायल मलाला को इलाज के लिए ब्रिटेन ले जाया गया. यहां उन्हें क्वीन एलिजाबेथ अस्पताल में भर्ती कराया गया. देश-विदेश में मलाला के स्वस्थ होने की प्रार्थना की गई और आखिरकार मलाला वहां से स्वस्थ होकर लौटीं.

Malala Yousafzai
Malala Yousafzai

हमेशा क्लास में फर्स्ट करती थीं मलाला

मलाला पर तालिबानी हमले के बाद उनके स्कूल के टीचर का कहना है कि ‘मलाला जब ढाई साल की थी तभी से अपने पिता के स्कूल में अपने से 10 साल बड़े बच्चों के साथ बैठा करती थी.वो बोलती कुछ नहीं थी बस टुकुर-टुकुर सबको निहारा करती. स्वात घाटी में अपने स्कूली जीवन के दौरान मलाला हमेशा अपनी कक्षा में फर्स्ट करती रहीं. वह एक विलक्षण प्रतिभा की धनी साधारण सी दिखने वाली लड़की थीं जिसे कभी इस बात का अनुमान नहीं था कि वो इतनी खास बन जाएंगी.

कई पुरस्कारों से सम्मानित की गईं मलाला

जब वह स्वस्थ हुईं तो अंतरराष्‍ट्रीय बाल शांति पुरस्कार, पाकिस्तान का राष्ट्रीय युवा शांति पुरस्कार (2011) के अलावा कई बड़े सम्मान मलाला के नाम दर्ज होने लगे. 2012 में सबसे अधिक प्रचलित शख्सियतों में पाकिस्तान की इस बहादुर बाला मलाला युसूफजई के नाम रहा. लड़कियों की शिक्षा के अधिकार की लड़ाई लड़ने वाली साहसी मलाला यूसुफजई की बहादुरी के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा मलाला के 16वें जन्मदिन पर 12 जुलाई को मलाला दिवस घोषित किया गया.

ये भी पढ़ें :T20 Series: न्यूजीलैंड के खिलाफ बहुत कुछ न्यू, न्यू कप्तान, न्यू कोच, कुछ खिलाड़ी भी न्यू

 

Related posts

T20 World Cup 2021: ‘किंग’ का गर्मजोशी से इस्तकबाल, एक नये रोल में टीम इंडिया से वापस जुड़ गये धौनी

Pramod Kumar

Suhana’s Heartfelt Post : क्या न्यूयॉर्क छोड़ रहीं हैं Suhana Khan? पोस्ट में लगाई दिल टूटने वाली इमोजी

Manoj Singh

Reliance Jio का सर्वर हुआ ठप, यूजर्स नहीं कर पा रहे किसी सर्विस का इस्तेमाल

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.