समाचार प्लस
Breaking

कभी कन्हैया तो कभी औघड़दानी बन जाते तेजप्रताप, जानें क्यों रचते हैं ये ऐसा स्वांग

Controversy ‍: कभी कन्हैया तो कभी औघड़दानी बन जाते तेजप्रताप

न्यूज़ डेस्क/समाचार प्लस झारखंड -बिहार

लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी के बेटे तेजप्रताप यादव का विवादों से पुराना नाता रहा है. वो आए दिन अपने अजीबोगरीब वेशभूषा के कारण चर्चा में रहते हैं. तेजप्रताप यादव कभी कन्हैया तो कभी औघड़दानी बन जाते हैं.अपने पिता लालू यादव की ही तरह वे भी अपने आप को कृष्ण बताते हैं.अलग-अलग समय पर तेजप्रताप अलग-अलग रूप धारण करते रहे हैं. कभी कृष्ण के रूप में तो कभी शिव के रूप में नजर आये तेजप्रताप यादव हमेशा सुर्खियों में बने रहते हैं. तेजप्रताप का ये अंदाज लोगों को काफी भाता भी है.

कुछ साल पहले तो तेजप्रताप अचानक घर से गायब हो गये थे, उसके कुछ समय बाद उन्होंने वृंदावन की फोटो शेयर की थी. इसमें वे गायों की झुंड के बीच बांसुरी बजाते नजर आये थे. वहीं राजद के कार्यक्रम के दौरान भी तेजप्रताप बड़े घुंघराले बालों में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते नजर आये थे.

धार्मिक रूप अपनाने से नहीं हिचकते

इन सबके अलावा तेजप्रताप अक्सर पार्टी लाइन से अलग चलते हुये धार्मिक रूप अपनाने से नहीं हिचकते. अपने पिता लालू यादव की ही तरह वे भी अपने आप को कृष्ण बताते हैं. कृष्ण के रूप में वो अपने विपक्षियों के परायजय की अक्सर बात कहते सुने जाते हैं.

स्कूल ड्रापआउट हैं तेज प्रताप यादव

लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी के बेटे तेज प्रताप यादव के 8 भाई-बहन हैं. वे लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के बड़े बेटे हैं. इस राजनेता ने अधिक पढ़ाई नहीं की है, उन्होंने केवल 12 वीं तक ही पढ़ाई की. हालांकि वे 12 वीं की परीक्षा को पास करने में असफल रहे और इसके चलते ही उन्होंने अपनी पढ़ाई को भी बीच में ही छोड़ दिया. तेज प्रताप यादव स्कूल ड्रापआउट हैं.

वैवाहिक जीवन भी विवादों में रहा

तेज प्रताप यादव का विवाह ऐश्वर्या राय के साथ हुआ है. ऐश्वर्या के बारे में बता दें कि वे सारण ज़िला के परसा विधानसभा क्षेत्र से राजद विधायक और पूर्व मंत्री पुत्र चंद्रिका प्रसाद राय की बेटी हैं. हालांकि इनका वैवाहिक जीवन भी विवादों में ही रहा और पत्नी ने उन पर मारपीट के संगीन आरोप भी लगाए. अब ये अलग- अलग रहते हैं. तेज प्रताप यादव बिहार विधानसभा में हसनपुर के विधायक के तौर पर कार्यरत हैं.  साथ ही तेज प्रताप यादव इसके पहले महुआ विधानसभा क्षेत्र के विधायक के रूप में भी सेवा दे चुके हैं.

राजनीतिक खटास सामने आई

तेज प्रताप यादव बिहार में महागठबंधन के दौरान नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार में स्वास्थ्य मंत्री के पद पर भी काम कर चुके हैं. बिहार की राजनीति में तेज प्रताप यादव एक बड़ा नाम बनकर उभर रहे हैं. वे बिहार में काफी सक्रिय रहे हैं और अपने पिता लालू प्रसाद यादव की सरकार को और भी मजबूत बनाने का प्रयास किया .अपने भाई तेजस्वी के साथ मिलकर राजनीति को भी आगे बढ़ा रहे थे, लेकिन कुछ दिनों से इनके परिवार में राजनीतिक खटास सामने आई है.

तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव  में खुलकर संघर्ष चल रहा 

इस साल के अंत में पार्टी में राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होना है और उससे पहले लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटों तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav ) और तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) में खुलकर संघर्ष चल रहा है. दोनों ही ओर से पोस्टर वॉर का जो सिलसिला चला है, वो थमने का नाम नहीं ले रहा है. ज़मानत पर बाहर आए लालू प्रसाद यादव अभी पूरी तरह से राजनीति में एक्टिव नहीं हुए हैं. लालू यादव अभी दिल्ली में ही हैं, हालांकि वह लगातार कुछ नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं.

पिता को बंधक बनाकर रखने का भाई पर लगाया आरोप

इस बीच बिहार में उनकी पार्टी में दोनों बेटों के बीच इस तरह का संघर्ष दिखाई पड़ रहा है. अब तो उन्होंने अपने भाई तेजस्वी पर निशाना साधते हुए अपने पिता लालू यादव जो अभी दिल्ली में अपनी बेटी के यहां रहकर स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं, को बंधक बनाकर रखने का आरोप लगा दिया, जिससे लालू परिवार में एक बार फिर अंतर्कलह उभर कर सामने आ गया है.

तेज प्रताप यादव के बारे में खास बातें 

तेज प्रताप यादव ने साल 2010 के दौरान ‘लारा डिस्ट्रीब्यूटर प्राइवेट लिमिटेड’ (Lara Distributors Pvt Ltd) नाम से एक शोरूम खोला था. इस शोरूम को लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी के नाम के पहले अक्षरों को जोड़कर नाम दिया गया था.

… जब शपथ ग्रहण के वक़्त अपेक्षित’ शब्द को ‘उपेक्षित’ पढ़ दिया

साल 2016 में जब तेज प्रताप यादव शपथ ले रहे थे तब उन्होंने ‘अपेक्षित’ शब्द को ‘उपेक्षित’ पढ़ दिया था जिसके बाद इस शपथ का अर्थ ही बदल गया. जिसे तत्कालीन गवर्नर रामनाथ कोविंद के हस्तक्षेप के बाद तेज प्रताप ने सुधारा था.

राजमिस्त्री की तरह काम करते दिखाई दिए

28 जनवरी 2018 के दिन उनकी एक नई तस्वीर सामने आई थी जिसने सभी का ध्यान उनकी तरफ खींचा था. इस फोटो में वे एक राजमिस्त्री की तरह काम करते दिखाई दिए थे.

विधानसभा की कैंटीन में मिठाई तलते भी दिख चुके हैं 

यही नहीं साल 2016 में तेज प्रताप यादव की एक फोटो वायरल हुई थी जोकि उनके स्वास्थ्य मंत्री के पद पर रहते हुए ली गई थी. इसमें वे विधानसभा की कैंटीन में मिठाई तल रहे थे.

पीएम मोदी भी कन्हैया बता चुके हैं

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने एक बार तेज प्रताप यादव को कृष्ण रूपी अवतार कहते हुए उन्हें कन्हैया का सम्बोधन दिया था. जबकि साल 2017 में तेज प्रताप यादव ने ही पीएम मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया था.

भोजपुरी फिल्म ‘अपहरण उद्योग’ में रोल निभाया

तेज प्रताप भोजपुरी फिल्म का भी हिस्सा रह चुके हैं. उन्होंने एक भोजपुरी फिल्म ‘अपहरण उद्योग’ में एक रोल निभाया था. इस फिल्म में तेज प्रताप ने बिहार के चीफ मिनिस्टर का किरदार निभाया था. इसके साथ ही वे एक हिंदी फिल्म ‘रुद्र-अवतार’ में भी दिखाई दिए थे.

ये भी पढ़ें : ऑनलाइन हैकर्स सेल’ को करें नाकाम: शिकारी आयेगा, जाल बिछायेगा, दाना डालेगा, मगर फंसना नहीं

 

Related posts

छठ गीत सिर्फ गीत नहीं, इनमे छुपे होते हैं कई सन्देश

Vaidya Ritika Gautam

दावा: 11 किलो विस्फोटक बांधकर पूरे काबुल एयरपोर्ट को उड़ाना चाहता था आत्मघाती हमलावर

Pramod Kumar

Corona को लेकर धोनी की अपील- सभी मास्क पहनें और वैक्सीन जरूर लगवाएं

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.