समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

तंत्र-साधना के लिए खास है सूर्यग्रहण, दीपावली की रात लग रहा ग्रहण काल

Solar eclipse is special for tantra-sadhana, eclipse period is felt on the night of Deepawali

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड

इस बार की दीपावली खास है, क्योंकि दीपावली की रात को सूर्यग्रहण लग रहा है। इस सूर्यग्रहण का प्रभाव भारत में भी दिखेगा, किन्तु मोक्ष काल भारत में नहीं होगा। दीपावली के दूसरे दिन यानी 25 अक्टूबर को दोपहर 2 बजकर 29 मिनट से ही सूर्यग्रहण शुरू हो जाएगा। लेकिन इसका सूतक काल 12 घंटे पहले यानी 24-25 अक्टूबर की मध्यरात्रि 2.29 मिनट से ही शुरू हो जायेगा। सूर्यग्रहण शाम 4 बजकर 30 मिनट तक जारी रहेगा। 4 घंटे 3 मिनट चलने वाले सूर्यग्रहण का मोक्ष काल भारत में नहीं होगा, इसलिए भारत में सूर्यास्त ही सूर्यग्रहण का मोक्ष माना जा रहा है।

इस बार की दीपावली पर लगने वाला सूर्यग्रहण तंत्र साधकों के लिए खास है। अमावस्या काल में जनकल्याण के साथ अन्य कई तरह की सिद्धियां साधक और तांत्रिक करते हैं। सामान्य गृहस्थ भी अपनी छोटी-बड़ी समस्या के लिए कई टोटके भी इस दिन करते हैं। इस दिन कई प्रकार की सिद्धियां की जाती हैं। वैसे भी सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण को लेकर भारतीय समाज बहुत सजग रहा है। ग्रहण काल को लेकर समाज में दो तरह की धारणाएं हैं। एक यह कि इसका मानव-जीवन पर कुछ विपरीत प्रभाव पड़ता है और दूसरा इसे आध्यात्मिक साधना के लिहाज से फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि ग्रहण काल में मंत्र बहुत जल्द सिद्ध हो जाते हैं और अभीष्ट फल प्रदान करते हैं। इसलिए सूर्य ग्रहण हो या चंद्र ग्रहण इन अवसरों पर साधक सिद्धियां हासिल करने के लिए तंत्र साधना करते हैं। तंत्र-साधना का वैदिक काल से ही वर्णन प्राप्त होता है। पुराणों में भी इसकी विस्तृत चर्चा मिलती है।

दीपावली पर सूर्यग्रहण का असर!

ज्योतिषी बता रहे हैं कि सूर्य ग्रहण का प्रभाव दीपावली पूजा पर नहीं पड़ेगा । दीपावली के दिन लक्ष्मी-गणेश की पूजा भी कर सकेंगे और गोवर्धन पूजा के दिन भी धार्मिक कार्यों पर कोई मनाही नहीं रहेगी। दीपावली की रात को ग्रहण का सूतक लग जाने से तंत्र साधना और सिद्धि के लिए यह रात बेहद खास रहेगी। इस रात जागरण करके देवी लक्ष्मी के मंत्रों का जप करना बेहद ही लाभकारी होगा।

खंडग्रास सूर्यग्रहण का समय
  • ग्रहण प्रारंभ- 2.29 दोपहर
  • ग्रहण मध्य – 4.30 दोपहर
  • ग्रहण समाप्त- 6.32 शाम
  • ग्रहण अवधि – 4 घंटे 3 मिनट

यह भी पढ़ें: देश में पहली बार दौड़ी एल्युमिनियम रैक की मालगाड़ी, रेलवे ने गिनाये कई फायदे

Related posts

बोकारो में अस्पताल के कार्यक्रम में अश्लील गानों पर लगे बार बालाओं के ठुमके, उड़ी कोरोना guideline की धज्जियां

Sumeet Roy

झारखंड के 3 मेडिकल कॉलेजों पलामू, हजारीबाग और दुमका को मिली एडमिशन की अनुमति : बन्ना गुप्ता

Pramod Kumar

आपदा प्रबंधन का येलो अलर्ट: 13 जनवरी तक झारखंड में खूब गरजेंगे मेघ, मध्यम बारिश के साथ होगा वज्रपात

Pramod Kumar