समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

हिमाचल प्रदेश से चार जत्थों में अबतक 61 श्रमिकों की वापसी, मिल रहा बकाया वेतन

हिमाचल प्रदेश से चार जत्थों में अबतक 61 श्रमिकों की वापसी, मिल रहा बकाया वेतन

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड – बिहार

मुख्यमन्त्री के निर्देश के बाद राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष ने श्रमिकों को वापस लाने की चलाई मुहिम

रांची : हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिला से झारखण्ड के श्रमिकों के लौटने का सिलसिला जारी है। अब तक चार जत्थों में कुल 61 श्रमिकों की वापसी हो चुकी है। सभी श्रमिक खूंटी, तोरपा, बंदगांव आदि क्षेत्र के  निवासी हैं। ये श्रमिक हिमाचल प्रदेश स्थित राठी हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड में काम करने गए थे। मालूम हो कि बीते दिनों हिमाचल प्रदेश में झारखण्ड के श्रमिकों के साथ मारपीट की घटना हुई थी। उस घटना के बाद श्रमिकों ने वापस लौटने की गुहार लगाई थी। मामले की जानकारी जब मुख्यमन्त्री को मिली तो उन्होंने मजदूरों की सकुशल वापस लाने के निर्देश दिया था।

मुख्यमंत्री रख रहे हैं नजर

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद श्रम विभाग के अन्तर्गत राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष ने कंपनी से बात कर मजदूरों की वापसी सुनिश्चित कराई। राज्य सरकार के हस्तक्षेप के बाद हिमाचल प्रदेश स्थित कंपनी प्रबंधन ने भी मजदूरों को वापस भेजने पर सहमति जताई। श्रमिकों को उनका बकाया वेतन भी उनके बैंक खाते में भेज दिया जा रहा है।

श्रमिकों की वापसी में आ रही अड़चनों को दूर किया जा रहा

वापस लौटने के बाद श्रमिक एतवा मुंडा ने बताया कि और भी समूह वापस आने की तैयारी कर रहे हैं। राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष की काउंसलर रजनी तापे ने बताया कि राठी हाईड्रोप्रोजेक्ट पावर प्राईवेट लिमिटेड के प्रमुख धर्मेंद्र राठी से लगातार संपर्क रखा गया है।  श्रमिकों की वापसी में आ रही अड़चनों को दूर किया जा रहा है। अभी जितने मजदूर हिमाचल प्रदेश में रह गए हैं, उन्हें भी समूहों में वापस भेजने की तैयारी की जा रही है।  जितने भी श्रमिक वापस आ रहे हैं, कंपनी के प्रमुख उसकी सूचना खुद प्रवासी नियंत्रण कक्ष को लगातार भेज रहे हैं। वापस पहुंचने वाले सभी श्रमिकों ने झारखंड के मुख्यमन्त्री श्री हेमंत सोरेन, श्रम मन्त्री  सत्यानंद भोक्ता और राज्य प्रवासी श्रमिक नियंत्रण कक्ष को धन्यवाद दिया है।

ये भी पढ़ें : PM Cares : कोरोना से अनाथ 86 बच्चों को नहीं मिला मां-पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र, कैसे लेंगे लाभ?

Related posts

Chandra Grahan November 2021: करीब 600 साल बाद लगने जा रहा चंद्र ग्रहण, जानें साल के आखिरी चंद्र ग्रहण से जुड़ी बातें

Manoj Singh

दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना वैक्सीनेशन अभियान जल्द छुएगा 100 करोड़ का आंकड़ा

Pramod Kumar

Junior Women’s Hockey World Cup : हॉकी महिला जूनियर विश्व कप टीम में झारखंड की तीन बेटियां, दिखाएंगी जलवा

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.