समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

आज से शुरू हो गया श्रावण मास, जानें कब-कब आपको करने हैं कौन-से व्रत-त्योहार

Shravan month has started from today, know which fast-festivals you have to do

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष एकदशी को भगवान विष्णु योगनिद्रा में चले जाते हैं। भगवान विष्णु जब योगनिद्रा में रहते हैं तब सृष्टि का संचालन शिव परिवार करता है। विष्णु की योगनिद्रा यानी देवशयनी के पश्चात श्रावण मास शुरू होता है। पूरे मास दुनिया भगवान शिव की आराधना में लीन रहती है। इसके बाद भगवान गणेश का दस दिनों की पूजा अर्चना होती है। मां दुर्गा भी दस दिनों तक अपने भक्तों का ख्याल रखती हैं। मां काली का भी कृपा भक्तों पर बरतती है। तब तक भगवान विष्णु के योगनिद्रा से बाहर आने का समय हो जाता है।

श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित है। इस वर्ष श्रावण मास 14 जुलाई से आरम्भ होकर 12 अगस्त तक चलेगा। पूरे मास भगवान शिव की श्रद्धा के साथ आराधना की जाती है। सावन मास में सोमवार को भक्त व्रत रखते हैं। भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए विशेष पूजा-अनुष्ठान किये जाते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सावन महीने में देवों के देव महादेव की सच्चे मन से पूजा-अर्चना करने वाले भक्तों को दुखों से मुक्ति मिलती है और मनोकामना पूरी होती है।

इस बार श्रावण महीने में चार सोमवार
  • सोमवार, 18 जुलाई 2022 पहला सावन सोमवार व्रत
  • सोमवार, 25 जुलाई  2022 दूसरा सावन सोमवार व्रत
  • सोमवार, 01 अगस्त 2022 तीसरा सावन सोमवार व्रत
  • सोमवार, 08 अगस्त 2022 चौथा सावन सोमवार व्रत
2022 श्रावण मास के व्रत-त्योहार
  • 28 जुलाई को मौना पंचमी,
  • 4 अगस्त को एकादशी
  • 5 अगस्त को प्रदोष
  • 8 अगस्त को हरियाली अमावस्या
  • 11 अगस्त को रक्षाबंधन और  हरियाली तीज
  • 13 अगस्त को नागपंचमी
  • 18 अगस्त को पुत्रदा एकादशी
  • 20 अगस्त को शुक्र प्रदोष

यह भी पढ़ें: शिव को प्रिय है सावन, मात्र जल-अर्पण से ही प्रसन्न हो जाते हैं भगवान भोलेनाथ

Related posts

UP में दो दिग्गजों की एक भिड़ंत ऐसी भी, जंग है देश के दो बड़े कारोबारी घरानों टाटा और अडाणी के बीच

Pramod Kumar

Birthday special: Mirabai Chanu का आज है जन्मदिन, सीखनी थी तीरंदाज़ी, बन गयीं Weightlifter

Sumeet Roy

Corona Guidelines: Corona वायरस को लेकर केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन, क्या हैं होम आइसोलेशन के नए नियम, किन्हें पड़ेगी भर्ती होने की जरूरत, जानें

Manoj Singh