समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Faced with shortage: तमिलनाडु में ब्राह्मण दुल्हनों की हुई कमी, UP और Bihar में लगा रहे हैं चक्कर

तमिलनाडु में ब्राह्मण दुल्हनों की हुई कमी, UP और Bihar में लगा रहे हैं चक्कर

न्यूज़ डेस्क / समाचार प्लस झारखंड- बिहार
तमिलनाडु में ब्राह्मण लड़कों की शादी नहीं हो पा रही है। लड़कों को दुल्हन नहीं मिल पा रही है, इस दिक्कत से निपटने के लिए अब यूपी और बिहार की तरफ रुख कर रहे हैं. तमिलनाडु में 40,000 से अधिक युवा तमिल ब्राह्मण (Tamil Brahmin) पुरुषों को राज्य के भीतर दुल्हन ढूंढना मुश्किल हो रहा है. ऐसे में तमिलनाडु ब्राह्मण संघ ने करीब 2 हजार किलोमीटर दूर यूपी और बिहार (UP-Bihar) राज्य का रुख किया है. ब्राह्मण संघ ने एक ही समुदाय से संबंधित उपयुक्त दूल्हों की तलाश के लिए इन दो राज्यों में एक विशेष अभियान शुरू किया है. बता दें चेन्नई से लखनऊ की दूरी करीब 2 हजार किलोमीटर है.

विशेष अभियान शुरू

राज्य में तमिल ब्राह्मण (Brahmins) दुल्हनों की कमी के चलते राज्य के ब्राह्मण संघ ने यूपी और बिहार राज्यों में उपयुक्त जोड़े की तलाश शुरू की है. थमिजनाडु ब्राह्मण एसोसिएशन (Thambraas) का कहना है कि उन्होंने अपने संगम की ओर से एक विशेष अभियान शुरू किया है. एसोसिएशन का कहना है कि पहल को आगे बढ़ाने के लिए दिल्ली, लखनऊ और पटना में समन्वयक नियुक्त किए जाएंगे. इसमें उन लोगों को शामिल किया जाएगा जो पढ़, लिख सकते हैं और हिंदी बोल सकते हैं. उन्होंने कहा कि वह लखनऊ और पटना के लोगों के संपर्क में हैं और ये पहल करना व्यावहारिक है.

10 लड़कों के पीछे सिर्फ 6 लड़कियां

एसोसिएशन का कहना है कि अगर विवाह योग्य आयु वर्ग में 10 ब्राह्मण लड़के हैं, तो तमिलनाडु में विवाह योग्य आयु वर्ग में केवल छह लड़कियां उपलब्ध हैं. इस बारे में पूछे जाने पर नारायणन ने कहा कि जो व्यक्ति हिंदी में पढ़, लिख और बोल सकता है, उसे यहां संघ के मुख्यालय में समन्वय की भूमिका निभाने के लिए नियुक्त किया.

उत्तर भारतीय और तमिल ब्राह्मणों के बीच अरेंज मैरिज के उदाहरण

उत्तर भारतीय और तमिल ब्राह्मणों के बीच अरेंज मैरिज के उदाहरण हैं. माधव ब्राह्मण एक वैष्णव संप्रदाय और श्री माधवाचार्य के अनुयायी भी हैं. तमिलनाडु में ‘अय्यर’ के रूप में भी जाने जाने वाले स्मार्त सभी देवताओं की पूजा स्वीकार करते हैं और श्री आदि शंकर के अनुयायी हैं. अयंगर समुदाय में थेंकलाई और वडाकलाई संप्रदायों के बीच विवाह भी असंभव था. आज यह हो रहा है.

ये भी पढ़ें :T20 Ind NZ: क्या होम ग्राउंड पर दिखेगा ईशान का जलवा, क्या जीत के बाद टीम इंडिया करेगी कोई बदलाव

Related posts

चांडिल-मुरी रेलखंड पर बड़ा हादसा टला, डीजल ले जा रही मालगाड़ी के एक टैंकर में लगी आग

Manoj Singh

योग शिक्षिका राफिया नाज भाजपा में शामिल, दीपक प्रकाश ने कहा- योग भारत की सांस्कृतिक धरोहर

Pramod Kumar

बगोदर और पाकुड़ से पशु तस्कर गिरफ्तार, मवेशी बरामद, खुली धंधे की पोल

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.