समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Sharad Purnima 2021 : आज चंद्रमा से बरसेगा खीर में अमृत,जानें चांद की रोशनी में रखी हुई खीर कैसे दूर कर देती है शरीर के ये रोग

Sharad Purnima 2021 : आज चंद्रमा से बरसेगा खीर में अमृत,जानें चांद की रोशनी में रखी हुई खीर कैसे दूर कर देती है शरीर के ये रोग

न्यूज़ डेस्क / समाचार प्लस झारखंड-बिहार
Sharad Purnima 2021 : शरदपूर्णिमा के अगले दिन से हिन्दू पंचाग का आठवां महीना कार्तिक प्रारंभ हो जाता है। वहीं शरदपूर्णिमा जिसे शरदोत्सव भी कहते हैं के साथ ही मौसम में बदलाव के साथ ठंड महसूस होने लगती है।

शरद पूर्णिमा का यह दिन व्रत त्योहारों के साथ ही जनजीवन में कई परिवर्तन भी लाता है। दरअसल शरद ऋतु के साथ ही लोगों के खान-पान के साथ ही पहनावे में भी बदलाव आना शुरु होने लगता है। हर साल की तरह इस बार भी शरद पूर्णिमा के अगले दिन से ही कार्तिक माह लग जाएगा।

कोजागरी पूर्णिमा  के नाम से भी जाना जाता है

शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) को कोजागरी पूर्णिमा (Kojagiri Purnima) के नाम से भी जाना जाता है। अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को ही शरद पूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन खीर बनाकर चांद की रोशनी (Sharad Purnima Kheer) में रखी जाती है। हिंदु मान्यता के अनुसार, शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की रोशनी सबसे अधिक होती है। इस दिन खीर बनाकर चांदनी रात में क्यों रखी जाती है, इसके कई कारण हैं।

वैज्ञानिक महत्व 

ऐसा माना जाता है कि शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा (Sharad Purnima Moon) की किरणों से धरती पर अमृत बरसता है। यही कारण है कि शरद पूर्णिमा के दिन खीर को चांद की रोशनी में रखा जाता है। हालांकि इसके वैज्ञानिक महत्व भी हैं। शरद पूर्णिमा के बाद ही सर्दी का हल्का मौसम शुरू हो जाता है जिसे हेमंत ऋतु कहा जाता है। शरद पूर्णिमा के दिन माता लक्ष्मी (Mata Lakshmi) की विशेष कृपा मानी गई है। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन वो विचरण करती हैं इसलिए उनकी पूजा शरद पूर्णिमा पर जरूर करनी चाहिए।

खीर बनाने के बाद उसे किसी चांदी के बर्तन में रखना चाहिए

शरद पूर्णिमा पर खीर बनाने के बाद उसे किसी चांदी के बर्तन में रखना चाहिए। उसके बाद उसे चंद्रमा की रोशनी में रख देना चाहिए। चंद्रमा की तेज रोशनी में चावल में मौजूद स्टार्च दूध के अच्छे बैक्टिरिया को बनाने में मदद करता है। जिससे खुले आसमान में रखी खीर खाने में फायदेमंद होती (Sharad Purnima importance) है। इतनी ही नहीं हिंदू मान्यता के अनुसार, शरद पूर्णिमा की खीर अस्थमा के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होती है। इसके अलावा चर्म रोग से परेशान लोगों को इस दिन की खीर अवश्य खानी चाहिए।

आइए जानते हैं शरद पूनम के दिन चांद की रोशनी में रखी गई खीर खाने से सेहत को किस प्रकार से लाभ मिलता है –

जिन लोगों की आंखों की रोशनी कमजोर हो गई हो उन्हें चंद्रमा की रोशनी में रखी खीर जरूर खानी चाहिए। इसके अलावा तेज चंद्रमा की रोशनी वाली खीर दिल के मरीजों के लिए भी बहुत फायदेमंद साबित होती है।

1.दमा रोगियों के लिए वरदान – दमा रोग से पीड़ित मरीजों को शरद पूनम की खीर का सेवन जरूर करना चाहिए। इस खीर को चांद की रोशनी में रखकर सुबह 4 बजे इसका सेवन करने की सलाह दी जाती है। सालभर में शरद पूनम का दिन दमा रोगियों के लिए अमृत के समान माना जाता है।

2.आंखों की रोशनी बढ़ाए –  शरद पूनम के दिन खीर का सेवन तो किया जाता है। साथ ही चांद की रोशनी में 100 बार सुई में धागा पिरोने की परंपरा भी है। कहा जाता है ऐसा करने से आंखों की रोशनी तेज होती है। इस दिन खीर का सेवन करने से आंखों से संबंधित परेशानी दूर होती है। चंद्रमा को एकटक देखने पर आंखों की रोशनी बढ़ती है।

3.स्किन समस्या करें दूर – शरद पूनम की रात को चंद्रमा घुली हुई खीर खाने से चर्म रोग में आराम मिलता है। स्किन समस्या से जूझ रहे हैं तो इस दूध का सेवन करें। स्किन केयर के साथ त्वचा का ग्लो भी बढ़ जाता है।

4. दिल का रखे ख्‍याल – हृदय रोगियों के लिए भी यह खीर का सेवन करना फायदेमंद होता है। इस दिन खासकर चांदी के बर्तन में खीर या दूध रखना चाहिए। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है और विषाणु भी दूर होते हैं। साथ ही उक्त रक्तचाप में भी आराम मिलता है।

5. मलेरिया – इन दिनों मौसम ठंडा-गरम होने पर मच्‍छरों का प्रकोप भी बढ़ जाता है, जिससे मलेरिया का खतरा होता है। हालांकि बैक्टीरिया उपयुक्त वातावरण में पनपते हैं। लेकिन बैक्टीरिया जब पित्त के संपर्क में आते हैं तो वह धीरे-धीरे पूरे शरीर में फैलने लगता है। पित्त को नियंत्रित करना जरूरी होता है जिससे मलेरिया की चपेट में आने से बच सकते हैं। इसलिए इस मौसम में खीर को खाने की परंपरा है।

ये भी पढ़ें : घाटी छोड़ घर भाग रहे प्रवासी मजदूर, कश्मीर से घर जा रहे लोगों ने बयां किया वो दर्दनाक मंजर

 

Related posts

National Hydrogen Mission:  अब पानी से चलेंगी कारें, देश के बचेंगे खरबों रुपये

Pramod Kumar

World Tribal Day: आदिवासियों को समर्पित एक दिन… ताकि बचा रहे उनका सम्मान

Nidhi Sinha

CM फूलो झानो आशीर्वाद अभियान के लाभुकों से करेंगे सीधा संवाद, दीदी हेल्पलाइन कॉल सेंटर का होगा शुभारंभ

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.