समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

Shahnawaz Hussain को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, रेप केस में FIR के आदेश पर लगाई रोक

image source : social media

सुप्रीम कोर्ट (supreme court)ने आज सोमवार को शाहनवाज़ हुसैन(Shahnawaz Hussain) पर लगे दुष्कर्म के आरोप के शिकायत पर एफआईआर दर्ज करने को लेकर फिलहाल एक बड़ी राहत दी है। अदालत ने हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी है, जिसमें उसने आदेश दिया था कि शाहनवाज हुसैन(Shahnawaz Hussain) के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए। उच्च न्यायालय ने दिल्ली पुलिस को इस मामले में तीन महीने में जांच रिपोर्ट सौंपने को भी कहा था। हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ शाहनवाज हुसैन ने उच्चतम न्यायालय का रुख किया था और कहा था कि इससे उनकी छवि खराब होगी।

सितंबर के तीसरे सप्ताह तक के लिए तली सुनवाई 
जस्टिस यूयू ललित की बेंच ने इस मामले में दिल्ली सरकार समेत सभी पक्षों को नोटिस भी जारी किए हैं और इस मसले पर उनका जवाब मांगा है। फिलहाल अदालत ने इस मामले की सुनवाई सितंबर के तीसरे सप्ताह तक के लिए टाल दी है। इससे पहले 17 अगस्त को दिल्ली उच्च न्यायालय ने शाहनवाज हुसैन की ट्रायल कोर्ट के फैसले चुनौती देने वाली अर्जी को खारिज कर दिया था। अदालत ने यह कहते हुए उनकी अर्जी खारिज कर दी थी कि इसका कोई आधार नहीं बनता। इसके साथ ही कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से कहा था कि वह इस एफआईआर दर्ज करे और तीन महीने के अंदर जांच की रिपोर्ट सौंपे।

2018 में दिल्ली की महिला ने रेप का लगाया था आरोप 

बता दें कि 2018 में दिल्ली की एक महिला ने निचली अदालत में अर्जी दाखिल की थी और शाहनवाज हुसैन के खिलाफ रेप का आरोप लगाया हुए एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी। महिला की अर्जी पर 7 जुलाई, 2018 को मजिस्ट्रेट कोर्ट ने महिला के खिलाफ एफआईआर का आदेश दिया था, जिसे शाहनवाज हुसैन ने सेशन कोर्ट में चुनौती दी थी, जहां अर्जी खारिज हो गई थी। इसके बाद वह उच्च न्यायालय पहुंचे थे, लेकिन वहां भी राहत नहीं मिल पाई थी। फिलहाल सुप्रीम कोर्ट की ओर से शाहनवाज हुसैन को अंतरिम राहत मिल गई है। अब सितंबर के तीसरे सप्ताह में होने वाली सुनवाई पर सभी की निगाहें हैं।

ये भी पढ़ें : नीतीश को छवि की नहीं पद की चिंता, जदयू बैठक कर करेगा चिंतन ‘कैसे सुधरे बिगड़ी छवि’

Related posts

रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, 2 साल के बाद अब फिर से ट्रेन में मिलेगा कंबल-चादर, रेलवे मंत्रालय ने दी जानकारी

Sumeet Roy

हेमंत सरकार के प्रयास से अब खंडहर नहीं, सुसज्जित छात्रावासों में रहेंगे झारखण्ड के वंचित वर्ग के बच्चे और युवा

Pramod Kumar

झारखंड के 3 मेडिकल कॉलेजों पलामू, हजारीबाग और दुमका को मिली एडमिशन की अनुमति : बन्ना गुप्ता

Pramod Kumar