समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

पलटू अमेरिका का देखिये दोहरा चरित्र! F-16 देकर दुलार के बाद पाकिस्तान को बता रहा दुनिया के लिए खतरा

See the double character of Paltu America! Threat to Pakistan by giving F-16

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

अमेरिका ने एक बार फिर अपना दोहरा चरित्र दिखाया है। वैसे, पहले भी अमेरिका पाकिस्तान को आतंकी देश मानता रहा है, लेकिन उसकी मदद करने से वह पीछे भी कभी नहीं रहा। अभी हाल में अमेरिका ने पाकिस्तान को F-16 के पार्ट्स की सप्लाई की थी ताकि वह उन्हें फिर से विकसित कर सके। लेकिन अब अमेरिका कह रहा है कि पाकिस्तान एक खतरनाक देश है। अब भला, ये दोनों बातें क्या आपस में मेल नहीं खातीं हैं? लेकिन यह अमेरिका है, अपनी चौधराहट दिखाने को वह अपनी शान समझता है।

अमेरिका राष्ट्रपति जो बाइडेन ने शुक्रवार को डेमोक्रेटिक कांग्रेशनल कैंपेन कमेटी रिसेप्शन में पाकिस्तान को दुनिया का सबसे खतरनाक मुल्क बताया। दरअसल अमेरिका पाकिस्तान के परमाणु हथियारों को लेकर सशंकित है। बाइडेन ने कहा कि पाकिस्तान के परमाणु हथियारों का नियंत्रण किसी जवाबदेह के पास नहीं है। यानी इससे दूसरे देशों के लिए खतरा बना हुआ है। आपको यह याद दिला दें अभी हाल में जिन एफ-16 विमानों को उन्नत करने के लिए अमेरिका ने पाकिस्तान की मदद की है, वे लड़ाकू विमान परमाणु बम गिराने में भी सक्षम हैं। अब आप ही तय कीजिए कि क्या यह अमेरिका की नादानी है या हम उसे धूर्त्त कहें।

अमेरिका के बयानों में तालमेल नहीं

अमेरिका ने जब पाकिस्तान में पड़े पुराने F-16 विमानों को उन्नत करने के लिए  उसकी मदद की तब उसने जो कहा और अमेरिका राष्ट्रपति जो बात कह रहे हैं, दोनों ही बातें दो दिशाओं में जाती हैं। अमेरिका ने पाकिस्तान को जब एफ-16 लड़ाकू विमानों को उन्नत बनाने के लिए तकनीकी मदद देते हुए कहा कि पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ जंग के लिए इन लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल करना चाहता है, लेकिन पुराने पड़ चुके इन  विमानों को उन्नत बनाने के लिए नयी तकनीक की जरूरत है। इसलिए वह उसकी मदद कर रहा है। अमेरिका ने जब F-16 को लेकर पाकिस्तान की मदद रह रहा था तब भारत ने उस पर आपत्ति जतायी थी, लेकिन अमेरिका ने उसे दरकिनार कर दिया था। अब अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन पाकिस्तान को सबसे खतरनाक देश बता रहे हैं।

हर अमेरिकी राष्ट्रपति ने की पाकिस्तान की मदद

पाकिस्तान की बेजां मदद करने के लिए अकेले जो बाइडेन ही दोषी नहीं हैं। तकरीबन हर अमेरिकी राष्ट्रपति ने पाकिस्तान की मदद की है। भले ही अमेरिका पिछले कुछ साल से भारत के करीब आया है, लेकिन पाकिस्तान की तरफ से उसका झुकाव अभी भी खत्म नहीं हुआ है। अमेरिका के हर राष्ट्रपति ने भारत के पुराने दुश्मन पाकिस्तान को मदद पहुंचाई है। डोनाल्ड ट्रंप थोड़े अलग जरूर हैं। उनके दौर में पाकिस्तान को अमेरिका से काफी कम मदद मिली थी। पाकिस्तान से अमेरिका का मोह भंग नहीं हुआ है यह तो पता चल ही गया। अमेरिका का भारत के नजदीक आने का कारण दरअसल चीन है। चीन की विस्तारवादी नीति को नाकाम करने के ले अमेरिका को एशिया महाद्वीप में भारत का सहारा चाहिए। क्योंकि इस मुद्दे पर भारत से ज्यादा अमेरिका का कोई और देश मददगार नहीं हो सकता है। फिर भी इसके बाद भी वह पाकिस्तान के मामले में भारत के हितों के खिलाफ कदम उठाने से नहीं हिचकिचाता है।

यह भी पढ़ें: JK: 18 किलो आईईडी से पुलवामा दोहराने की थी साजिश, सेना ने किया नाकाम

Related posts

आज से भारत में भी डिजिटल करेंसी, जानें इस्तेमाल कितना आसान, कितनी है सुरक्षित

Pramod Kumar

Waseem Rizvi conversion: वसीम रिजवी बने जीतेंद्र नारायण सिंह त्यागी, कहा -सिर्फ हिंदुत्व के लिए काम करुंगा

Manoj Singh

निलंबित आईएएस Pooja Singhal को जमानत के लिए तीन नवंबर तक करना होगा इंतजार, सुनवाई टली

Manoj Singh