समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

SCO: महाबलियों के मंच पर पीएम मोदी ने दुनिया को दिखाया भारत का दम

SCO: PM Modi showed the world the power of India on the platform of Mahabalis

चीन का समर्थन, भारत बना एससीओ का अगला अध्यक्ष

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्बेकिस्तान की राजधानी समरकंद में एससीओ शिखर सम्मेलन के मंच से दुनिया में भारत के बढ़ते कद का अहसास कराया है। दुनिया के महाबली देशों के मंच से पीएम मोदी ने बताया कि भारत किस प्रकार हर क्षेत्र में मजबूती से अपने पांव जमा रहा है। कोरोना महामारी के काल में जब पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था हिल गयी तब उसने देश को भी सम्भाला और अपनी अर्थव्यवस्था को भी। पीएम मोदी ने बताया कि दुनिया ऊर्जा और खाद्य संकट से जूझ रही, लेकिन इससे निबटा जा सकता है। दुनिया के करीब 40 फीसदी आबादी का प्रतिनिधित्व करने वाले देश यहां एकत्र हैं।  आपसी सहयोग से किसी भी समस्या का समाधान हम कर सकते हैं। पीएम मोदी ने बताया कि भारत आज स्वास्थ्य, शिक्षा, टेक्नोलॉजी की दुनिया में बेहद तेजी से आगे बढ़ रहा है। पिछले 2 साल कोरोना महामारी की भेंट चढ़ जाने के कारण एससीओ समिट नहीं हो पाई थी।

पीएम मोदी ने बताया आज एससीओ क्यों है महत्वपूर्ण

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि आज एससीओ दुनिया के लिए महत्पूपूर्ण मंच बन गया है। इसका महत्व इसी से समझा जा सकता है कि इससे जुड़ने वाले सदस्य देशों की संख्या बढ़ती जा रही है। एससीओ की जब शुरुआत हुई थी तब इसके पांच सदस्य थे और आज इसके सदस्य बढ़कर 8 हो गये हैं। चीन, भारत, कजाखस्तान, किर्गिज्स्तान, रूस, पाकिस्तान, तजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान इसके स्थायी सदस्य है। चार अन्य देश अफगानिस्तान, बेलारुस, ईरान और मंगोलिया इससे जुड़ना चाह रहे हैं। एससीओ समिट में 6 डॉयलाग पार्टनर भी आर्मेनिया, अजरबैजान, कंबोडिया, नेपाल, श्रीलंका और तुर्की भी शामिल हैं। बता दें कि ‘शंघाई 5’ के नाम 1996 में इस मंच की शुरुआत हुई थी। 2001 में इसे शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेश (SCO) नाम दिया गया।

पीएम मोदी ने बताया – भारत का बज रहा डंका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत एक विनिर्माण हब में बदल गया है। इस वर्ष भारत की अर्थव्यवस्था में 7.5 प्रतिशत वृद्धि की आशा है जो विश्व की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे अधिक होगी। प्रधाननमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नवाचार का समर्थन करने के कारण आज भारत में 70,000 से अधिक स्टार्ट-अप हैं जिनमें 100 से अधिक यूनिकॉर्न हैं।

पीएम मोदी कई नेताओं से करेंगे मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एससीओ शिखर सम्मेलन रूस, उज्बेकिस्तान और ईरान के नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठकें करने वाले हैं। शिखर सम्मेलन से पूरे विश्व की निगाहें रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्जियोयेव से पीएम की मुलाकात पर है। समिट के दौरान चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ से पीएम मोदी की मुलाकात की कोई योजना नहीं है। कोविड महामारी और यूक्रेन संघर्ष के बाद प्रधानमंत्री मोदी और पुतिन की पहली बैठक है। इस सम्मेलन में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग समेत 15 वैश्विक नेता हिस्सा लेने पहुंचे हैं।

अगले साल भारत में होगा शिखर सम्मेलन

उज्बेकिस्तान एससीओ शिखर सम्मेलन 2022 की अध्यक्षता कर रहा है जिसके बाद भारत ने समरकंद शिखर सम्मेलन के अंत में एससीओ की रोटेशनल वार्षिक अध्यक्षता ग्रहण की। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतीन ने भारत के अगले वर्ष शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की अध्यक्षता ग्रहण करने का स्वागत किया है। शी जिनपिंग ने कहा कि चीन अगले वर्ष भारत द्वारा एससीओ की अध्यक्षता ग्रहण करने का समर्थन करता है।

यह भी पढ़ें: Bihar: लालू प्रसाद का पासपोर्ट रिलीज, किडनी इलाज के लिए सिंगापुर जायेंगे राजद सुप्रीमो

Related posts

विरोध का ‘अग्निपथ’: आग लगाकर समस्या का समाधान ढूंढते युवा, सरकारी नहीं फूंक रहे अपनी सम्पत्ति

Pramod Kumar

Rahul Gandhi Detained: ‘जंजीर बढ़ाकर साध मुझे हां हां.. दुर्योधन’, सोनिया-राहुल पर कार्रवाई से कांग्रेस में उबाल 

Manoj Singh

हर खाताधारक के ल‍िए बड़ी खबर, बदल गए Bank में पैसा जमा करने और न‍िकालने के न‍ियम

Manoj Singh