समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Supreme Court का निर्देश : सांसदों-विधायकों के खिलाफ मामला हाईकोर्ट की मंजूरी के बगैर वापस नहीं होगा

Supreme Court का निर्देश

Supreme Court ने मंगलवार को राजनीतिक पार्टियों के उम्मीदवारों के अपराधीकरण से जुड़े एक मामले में बड़ा फैसला सुनाया है। इसके तहत अब सभी राजनीतिक पार्टियों को उम्मीदवारों के एलान के 48 घंटे के भीतर मुकदमों की जानकारी जारी करनी होगी। सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया है कि सांसदों और विधायकों के खिलाफ कोई आपराधिक मामला संबंधित हाईकोर्ट की मंजूरी के बगैर वापस नहीं लिया जा सकता है। शीर्ष अदालत के इस फैसले का उद्देश्य राजनीति में अपराधीकरण को कम करना है। जस्टिस आरएफ नरीमन और बीआर गवई की पीठ ने इस संबंध में अपने 13 फरवरी, 2020 के फैसले में निर्देश को संशोधित किया है। बता दें कि पीठ बिहार विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास को प्रकाशित करने में विफलता का आरोप लगाते हुए दायर अवमानना याचिकाओं में अपना फैसला सुना रही थी।

यह भी पढ़ें : मौलाना ने कहा खून और आंख से बनी ताबीज पहनो, शख्स ने चढ़ा दी दोस्त की बेटी की बलि


गौरतलब है कि फरवरी 2020 के फैसले के पैरा 4.4 में, सुप्रीम कोर्ट ने सभी राजनीतिक पार्टियों को आदेश दिया था कि उम्मीदवारों के चयन के 48 घंटों के भीतर या नामांकन दाखिल करने की पहली तारीख से कम से कम दो सप्ताह पहले उनका विवरण प्रकाशित करना होगा। लेकिन आज के फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया है कि राजनीतिक पार्टियों को उम्मीदवारों के एलान के 48 घंटे के भीतर मुकदमों की जानकारी देनी होगी।

यह भी पढ़ें : 6th JPSC : सफल छात्रों को राहत, हाइकोर्ट ने अगली सुनवाई तक यथास्थिति बनाये रखने का दिया निर्देश

Related posts

Tokyo Olympics : तलवार की धार से Bhavani Devi ने लिख डाला नया इतिहास, प्रेरणादायक है संघर्ष की कहानी

Sumeet Roy

शारदीय नवरात्र: अमोघ फलदायी है मां स्कंदमाता और कात्यायिनी की आराधना

Pramod Kumar

बिहार: ‘हर घर नल का जल’ स्कीम पर सवाल, डिप्टी CM तारकिशोर प्रसाद की बहू और रिश्तेदारों को मिले 36 ठेके

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.