समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड

आदिवासी महिलाओं ने हाथ में ट्रैक्टर की स्टीयरिंग, संताल में बदलेगी खेतों की तस्वीर

santali women tractor

एक समय था जब महिलाओं को कई काम करने से रोका जाता था। समय बदल गया है तो महिलाओं ने भी खुद को बदला है। आज महिलाएं सबकुछ कर सकती हैं। उनमें हौसलों की कमी नहीं है। यह साबित करके दिखा रही हैं संताल की आदिवासी महिलाएं। खेत जोतना हो या हल चलाना हो, ऐसे मेहनत वाले खेती के कामों से महिलाओं को दूर ही रखा जाता है। संताल आइये, यहां देखिये आदिवासी महिलाएं शान से खेत जोत रही हैं। हालांकि उनका पारम्परिक औजार हल नहीं, बल्कि ट्रैक्टर है। ये महिलाएं ट्रेक्टर से खेत का सीना फाड़ कर, खेतों से ‘सोना’ उगाने को बेताब हैं।

26 स्वयं सहायता समूहों को अनुदान पर मिलेंगे मिनी ट्रैक्टर

राज्य की हेमंत सोरेन सरकार की पहल पर इन आदिवासी महिलाओं को मिनी ट्रैक्टर उपलब्ध कराया जा रहा है।। राज्य सरकार दुमका जिले में 26 स्वयंत सहायता समूहों को मिनी ट्रैक्टर उपलब्ध करायेगी। प्रारम्भिक चरण 5 समूहों की महिलाओं को मिनी ट्रैक्टर की चाबियां सौंपी गयी। एक कार्यक्रम में पूर्व कृषि मंत्री नलिन सोरेन व जिप अध्यक्ष जॉयस बेसरा ने संयुक्त रूप से इन महिलाओं को मिनी ट्रैक्टर की चाबियां दीं। जिन महिलाओं को मिनी ट्रैक्टर दिये गये उन्हें 14 दिनों का विशेष प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है।

भूमि संरक्षण कार्यालय परिसर में कृषि यांत्रिकीकरण प्रोत्साहन योजना के तहत इन पांचों महिलाओं को 80 फीसदी अनुदान पर ट्रैक्टर दिये गये। 5 लाख के ये ट्रैक्टर इन महिलाओं को केवल एक लाख रुपये में प्राप्त हो गये। भूमि संरक्षण पदाधिकारी सुबोध प्रसाद सिंह ने बताया कि 80 फीसदी अनुदान पर चंपा बाग, कियाडाडी जीवन झरना, लांतिति आजीविका, सूरजमुखी आजीविका व दुलार झरना सिंह स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ट्रैक्टर दिये गये है।

santali women
आत्मनिर्भर बनेंगी झारखंड की महिलाएं : नलिन सोरेन

इस अवसर परर पूर्व मंत्री नलिन सोरेन ने कहा कि राज्य सरकार झारखंड की महिलाओं के उत्थान के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में ये ट्रैक्टर दिये गये हैं। राज्य सरकार का उद्देश्य है कि आदिवासी महिलाएं खेती कर खुद को आत्मनिर्भर बनाएं।

अब महिलाएं पुरुषों से कम नहीं  : जोयस बेसरा

इस मौके पर जिला परिषद अध्यक्ष जोयस बेसरा ने कहा अब महिला किसी मायने में पुरुष से कम नहीं हैं। ट्रैक्टर मिलने से ये आसानी से खेती के काम कर पायेंगी।

 

Related posts

Vidhayak hijra ho gail: ‘पद पक्षी आ क्षेत्र पिंजड़ा हो गईल…. नीतीश के राज में विधायक लोग हिजड़ा हो गईल…’ जानें आखिर इस विधायक ने क्यों कह दी ये बात

Manoj Singh

Olympic में गयी झारखंड की महिला हॉकी खिलाड़ियों को सरकार देगी 50-50 लाख

Sumeet Roy

Amazon और Flipkart Sale में सबसे सस्ते स्मार्टफोन, कीमत ₹5299 से शुरू

Manoj Singh