समाचार प्लस
Breaking फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार समस्तीपुर

Samastipur Sadar Hospital: समस्तीपुर सदर अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के कारण तड़प-तड़कर मरीज ने तोड़ा दम, दर्जनों ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन पड़ी हैं खराब

Samastipur: बिहार (Bihar) के सरकारी अस्पतालों में बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था उपलब्ध कराने का दावा किया जा रहा है। लेकिन समस्तीपुर सदर अस्पताल (Samastipur Sadar Hospital) की व्यवस्था दिनों-दिन बदतर होती जा रही है। समस्तीपुर सदर अस्पताल (Samastipur Sadar Hospital) हमेशा सवालों के घेरे में रहता है। हालांकि मिशन-60 के तहत यहां के भवन तो चकाचक कर दिए गए हैं, लेकिन यहां ना तो समय से डॉक्टर रहते हैं ना ही पर्याप्त दवा और ना ही कोई खास व्यवस्था ही है। जिले के सबसे बड़े अस्पताल में समय से ओपीडी में डाॅक्टर नहीं आते हैं। वहीं इमरजेंसी के लगभग मरीजों को रेफर कर सदर अस्पताल प्रबंधन अपना पल्ला झाड़ लेता है। जिस कारण यहां की कुव्यवस्था के चलते मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ रही है।

अधिकांश मशीनें हैं खराब 

समस्तीपुर (Samastipur) सदर अस्पताल में यूं तो दर्जनों ऑक्सी कंसंट्रेटर मशीन (Oxygen Machine) हैं, लेकिन उनमें से ज्यादा मशीन खराब हैं। नतीजा मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। सदर अस्पताल परिसर में बना ऑक्सीजन प्लांट शोभा बढाने की वस्तु बनकर रह गई है।

ऑक्सीजन के अभाव में मरीज ने दम तोड़ दिया- परिजन 

दरअसल दलसिंहसराय अनुमंडल अस्पताल से देवभूषण ईश्वर नाम के मरीज को ब्लड और ऑक्सीजन की कमी को लेकर चिकित्सक ने सदर अस्पताल रेफर किया था। जहां सदर अस्पताल के डॉक्टर के द्वारा मरीज को खून चढ़ाया जा रहा था। इस दौरान सांस में तकलीफ के कारण मरीज को ऑक्सीजन दिया गया। लेकिन कुछ ही समय में एक के बाद ऑक्सी कंसंट्रेटर मशीन भी खराब हो गई। बाद में मरीज के परिजनों की शिकायत पर अस्पताल प्रबंधन के द्वारा सेंट्रल सप्लाई के जरिए मरीज को दूसरे बेड पर शिफ्ट कर ऑक्सीजन उपलब्ध कराया गया।परिजनों का आरोप है कि कुछ घंटों के बाद सप्लाई बंद कर दिया गया। जब मरीज की बेचैनी बढ़ने लगी तब वहां मौजूद कर्मियों के द्वारा उसी खराब पड़े ऑक्सी कंसंट्रेटर को लगा दिया गया। जिस कारण ऑक्सीजन के अभाव में मरीज ने दम तोड़ दिया।

ब्लड के रिएक्शन के कारण मरीज की मौत- डॉक्टर 

वहीं अस्पताल के चिकित्सक का कहना है कि मरीज को ब्लड की कमी थी। ब्लड बैंक से ब्लड लेकर उसे चढ़ाया जा रहा था, लेकिन ब्लड के रिएक्शन के कारण मरीज की मौत हो गई। वहीं अस्पताल के दूसरे बेड पर एक महिला मरीज को भी सुबह में सांस की तकलीफ हुई थी जिसके बाद परिजनों के द्वारा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन परिजनों का आरोप है कि उन्हें भी ऑक्सीजन मुहैया नहीं कराया जा रहा, जिस कारण मरीज की परेशानी बढ़ती जा रही है।

ये भी पढ़ें :नीतीश कुमार की सही सलाह, मुफ्त बिजली बेमतलब, देश में बने ‘वन नेशन, वन टैरिफ’

Related posts

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री की केंद्र से डिमांड, इन्हें मिले पद्म विभूषण का सम्मान

Sumeet Roy

झारखंड की बेटी Asha Kiran Barla ने दुनिया में बढ़ाया भारत का मान, Asian Athletics Championship में रचा इतिहास

Manoj Singh

जज उत्तम आनंद मौत मामला: जांच पर हाईकोर्ट ने जतायी नाराजगी, CBI के जोनल निदेशक को 23 सितंबर को कोर्ट में हाजिर होने का निर्देश

Manoj Singh