समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Road Safety Week: युवा रहें सतर्क, 70 प्रतिशत युवा होते हैं सड़क हादसों के शिकार

Road Safety Week 11-17 January

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

एक बार सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की थी- ‘देश में इतने लोग सीमा पर या आतंकी हमले में नहीं मरते जितने सड़कों पर गड्ढों की वजह से मर जाते हैं।’ सुप्रीम कोर्ट को यह टिप्पणी इसलिए करनी पड़ी क्योंकि हर साल लाखों लोग न सिर्फ सड़क हादसों के शिकार होते हैं, बल्कि लाख से कहीं ज्यादा मौत के मुंह में समा जाते हैं। पिछले एक दशक के ही आंकड़े ले तो पता चलेगा कि भारत में 14 लाख से ज्यादा लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जा चुके हैं।

हादसों के ज्यादा शिकार युवा

सड़क दुर्घटनाएं भारत में चिंता की बड़ी वजह हैं। बड़ी चिंता इसलिए भी है कि इन हादसों की हमारी युवा पीढ़ी ज्यादा शिकार होती है। भारत में हर साल लाख से ज्यादा लोगों कि मौत केवल सड़क हादसे के कारण होती है। भारत सरकार द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार भारत में 2019 में, सड़क दुर्घटनाओं के कारण 1.51 लाख लोगों की मौत हो गयी। ये सड़क हादसे तब हो रहे हैं जब हर साल देश की जीडीपी का लगभग तीन से पांच प्रतिशत सड़क दुर्घटनाओं के प्रिवेंशन में निवेश किया जा रहा है। बता दें, भारत में वाहनों का घनत्व दुनिया के कुल वाहनों के घनत्व का एक प्रतिशत है, और मौत के आंकड़े वैश्विक सड़क दुर्घटनाओं की तुलना में लगभग 6 प्रतिशत। इन हादसों का जो सबसे दुखद पहलू है वह यह है कि लगभग 70 प्रतिशत दुर्घटनाओं में युवा शामिल होते हैं।

हर साल का लगभग यही हाल

2018 में भी दुर्घटनाओं की संख्या कम नहीं थीं। अधिकतर दुर्घटनाएं दोपहिया वाहनों से हुईं। जिसके मुख्य कारण ओवर स्पीडिंग, सड़कों और राजमार्गों पर तेज रफ्तार और जोखिम भरे स्टंट और गैरकानूनी स्ट्रीट रेस हैं।

भारत सरकार के आंकड़ों के अनुसार 2018 में 2017 की तुलना में सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में 0.46 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 2018 में 1,51,471 लोग मारे गए, जबकि 2017 में 1,47,913 लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे गये थे। मोटे तौर पर हर घंटे में पूरे भारत में लगभग 17 दुर्घटना मौत की होती हैं।

यह भी पढ़ें: Happy Birthday: शिबू सोरेन और बाबूलाल मरांडी – झारखंड के निर्माण और राजनीति को समर्पित दो पुरोधा

Related posts

खूंखार आतंकी करेगा अफगानिस्तान की ‘रक्षा’, तालिबान ने बनाया रक्षा मंत्री

Pramod Kumar

15 लाख का इनामी माओवादी रमेश गंझू चढ़ा पुलिस के हत्थे, 30 से अधिक पुलिसकर्मियों की हत्या का है आरोपी

Manoj Singh

Bank union strike: फिर ठप होगा बैंकों का कामकाज! सरकारी के साथ निजी बैंक भी दो दिन रहेंगे बंद

Manoj Singh