समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Revdi Culture: चुनाव के दौरान मुफ्त में चीजें बांटने के ‘रेवड़ी कल्चर’ पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, सरकार से कहा- स्पष्ट करें रुख

image source : social media

Revdi Culture: देश में चुनाव जीतने के लिए मुफ्त की चीजें बांटने का वादा करने वाली पार्टियों पर नियंत्रण को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सख्ती दिखाई है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को इसपर अपना रुख साफ करने को कहा है.

 दायर याचिका में ये है मांग 

चुनाव जीतने के लिए मुफ्त बिजली पानी समेत अन्य लुभावने वादे करने वाले राजनीतिक दलों के खिलाफ कोर्ट में दायर जनहित याचिका में मांग की गई है कि ऐसे राजनीतिक दलों की मान्यता रद्द होनी चाहिए जो चुनाव जीतने के बाद जनता को मुफ्त सुविधा या चीजें बांटने के वायदे करते हैं. याचिका में कहा गया है कि इसके चलते राजनीतिक दल लोगों के वोट खरीदने की कोशिश करते है. ये चुनाव प्रकिया को दूषित करता है और सरकारी खजाने पर बेवजह बोझ का कारण बनता है.

EC और केंद्र दोनों ने झाड़ा पलड़ा

आज सुप्रीम कोर्ट में जैसे ही मामला शुरू हुआ चुनाव आयोग और केंद्र सरकार दोनों ही इस मसले पर पल्ला झाड़ते नजर आए. चुनाव आयोग के वकील अनिल शर्मा ने कहा कि आयोग ऐसी घोषणाओं पर रोक नहीं लगा सकता, केंद्र सरकार कानून बनाकर ही इससे निपट सकती है. वहीं केंद्र सरकार की ओर से 3 ASG के एम नटराज ने कहा कि ये मामला चुनाव आयोग के दायरे में आता है.

SC ने केंद्र से पूछे सवाल

चीफ जस्टिन एन वी रमना ने केंद्र सरकार की इस दलील पर असन्तोष जाहिर करते हुए कहा कि केंद्र सरकार इससे अपने आप को अलग नहीं कर सकती. जस्टिस रमना ने ASG से कहा तो क्या मैं इस बात को रिकॉर्ड पर लूं कि सरकार को इस मसले पर कुछ नहीं कहना है? क्या ये गंभीर मामला नहीं है? केंद्र सरकार इस पर स्पष्ट रुख रखने से क्यों हिचक रही है? अदालत ने फिर केंद्र सरकार को एक हलफनामा दाखिल कर अपना पक्ष साफ करने को कहा.

कपिल सिब्बल ने दी ये दलील

जस्टिस रमना ने कोर्ट में मौजूद वकील और पूर्व मंत्री कपिल सिब्बल से कहा कि वो भी अपनी अनुभव से इस मामले में अपनी राय दे सकते हैं. सिब्बल ने कोर्ट को बताया कि ये गंभीर मसला है, लेकिन इसका समाधान बहुत मुश्किल है. इसमें केंद्र सरकार का बहुत रोल नहीं है. ये काम वित्त आयोग बेहतर तरीके से देख सकता है. वित्त आयोग हर राज्य को खर्च के लिए धन आवंटित करता है. वो राज्य से बकाया कर्ज का हिसाब लेते हुए आवंटन कर सकता है. ये सुनिश्चित कर सकता है कि ऐसी मुफ्त सुविधाओं लुटाने के लिए फंड आवंटित नहीं किया जाएगा. इस पर चीफ जस्टिस ने केंद्र सरकार से कहा कि वो बताए कि वित्त आयोग की इसमें क्या भूमिका हो सकती है. इस मामले में अगली सुनवाई 3 अगस्त को होगी.

याचिकाकर्ता अश्विनी उपाध्याय की दलील

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता अश्विनी उपाध्याय ने कहा कि मैं चुनाव आयोग की इस दलील से सहमत नहीं हूं कि वो इस मसले पर कुछ नहीं कर सकता. आयोग इस तरह से गैरवाजिब सुविधाएं बांटने वाले राजनीतिक दलों की मान्यता रद्द कर सकता है. अश्विनी उपाध्याय ने पंजाब का उदाहरण देते हुए कहा कि पंजाब पर तीन लाख करोड़ का कर्ज है. तीन करोड़ पंजाब की आबादी है, इस लिहाज से हर पंजाब निवासी पर एक लाख का कर्ज है.

श्रीलंका का दिया उदाहरण

इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि अकेले पंजाब की बात नहीं है, ये पूरे देश में हो रहा है. अश्विनी उपाध्याय ने बताया कि श्रीलंका में भी इसी तरह से देश की अर्थव्यवस्था खराब हुई है और भारत भी उसी रास्ते पर जा रहा है. पूरे देश पर 70 लाख करोड़ रुपया कर्ज है. ऐसे में अगर सरकार मुफ्त सुविधा देती है तो ये कर्ज और बढ़ जाएगा.

पीएम मोदी ने किया था रेवड़ी कल्चर शब्द का उपयोग 

बुंदेलखंड के एक्सप्रेसवे के उद्घाटन करने के साथ ही विपक्षियों पर निशाना साधते हुए, अपने संबोधन में पीएम मोदी ने रेवड़ी कल्चर (Revdi Culture) शब्द का उपयोग किया था. जिसका प्रयोग करते हुए उन्होंने बोला था कि ये ‘रेवड़ी कल्चर’ वाले कभी आपके लिए नए एक्सप्रेसवे नहीं बनाएंगे, नए एअरपोर्ट या डिफेंस कॉरिडोर नहीं बनाएंगे. हमे जल्द ही देश की राजनीति से इस रेवड़ी कल्चर को हटाना होगा. इसके बाद पीएम के बयान पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल लगातार हमला बोलते रहे हैं. उन्होंने गरीब जनता को फ्री में पानी बिजली उपलब्ध कराने की बात को रेवड़ी कल्चर की संज्ञा देना सही नहीं माना है.

ये भी पढ़ें : ‘जंजीर बढ़ाकर साध मुझे हां हां.. दुर्योधन’, सोनिया-राहुल पर कार्रवाई से कांग्रेस में उबाल 

 

Related posts

उपेन्द्र कुशवाहा से मिले ललन सिंह, बोले-2010 वाला प्रदर्शन दोहराएंगे

Manoj Singh

झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो पर दूसरा मुकदमा दर्ज, 2 करोड़ 29 लाख के गबन का आरोप

Manoj Singh

स्वास्थ्य मंत्री Banna Gupta हुए Corona संक्रमित, खुद को किया घर में होम आइसोलेट

Sumeet Roy