समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राजनीति

सड़क पर उतरा विपक्ष, राहुल गांधी ने सरकार पर लगाए गंभीर आरोप, ‘पहली बार राज्यसभा में सांसदों की हुई पिटाई’

सड़क पर उतरा विपक्ष, राहुल गांधी ने सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

राहुल गांधी की अगुवाई में आज विपक्षी दलों के सांसदों ने सड़कों पर प्रदर्शन किया। पेगासस जाजूसी कांड, किसान समेत कई मसलों पर मोदी सरकार को घेरने और दबाव बनाने के लिए राहुल गांधी ने करीब 15 विपक्षी दलों के नेताओं के साथ संसद भवन से विजय चौक की ओर मार्च किया। इसके तुरंत बाद राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोला और आरोप लगाया कि पहली बार राज्यसभा में सांसदों की पिटाई की गई और विपक्षी सांसदों के साथ धक्का-मुक्की की गई। संसद से विजय चौक तक इस मार्च में बैनर और तख्ती लिए राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकाजुर्न खड़गे, राष्ट्रीय जनता दल के मनोज कुमार झा, शिवसेना के संजय राउत और अन्य नेता मार्च में शामिल हुए।

संसद सत्र के दौरान लोकतंत्र की हत्या की गई

मार्च के बाद राहुल गांधी ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि संसद सत्र के दौरान लोकतंत्र की हत्या की गई। विपक्ष पेगासस जासूसी कांड, किसानों की समस्यायें और कई अन्य मुद्दों पर चर्चा कराना चाहता था, मगर सरकार ने उसे नहीं होने दिया। उन्होंने कहा कि संसद का सत्र समाप्त हो गया है। देश की 60 फीसदी आवाज को कुचला गया, अपमानित किया गया, राज्यसभा में सांसदों को पीटा गया। आज हमें मीडिया बात करने के लिए यहां आना पड़ा क्योंकि विपक्ष को संसद में बोलने की अनुमति नहीं दी गई। यह लोकतंत्र की हत्या है।

सांसदों के साथ धक्का-मुक्की और मारपीट की गई- राहुल

मीडिया के सवालों के जवाब में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि पहली बार राज्यसभा में पहली बार सांसदों की पिटाई की गई। उन्होंने कहा कि बाहर से लोगों को बुलाया गया और सांसदों के साथ धक्का-मुक्की और मारपीट की गई। उन्होंने चेयरमैन पर पक्षपात करने का आरोप लगाया और कहा कि चेयरमैन की जिम्मेदारी हाउस को चलाने की है तो फिर चेयरमैन और स्पीकर ने सदन को क्यों नहीं चलाया, विपक्ष की बात सदन में क्यों नहीं रख सकते। मीडिया से बातचीत के दौरान वह मीडियाकर्मी पर भड़के दिखे।

ऐसा लगा जैसे ‘मार्शल कानून’ लगा हो- संजय राउत

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि संसद सत्र के दौरान विपक्षी दल के नेता जनता की हित की बात कहना चाहते थे। यह संसद सत्र नहीं था, बल्कि इस दौरान सरकार ने लोकतंत्र की हत्या की है। उन्होंने कहा कि मार्शल की पोशाक में कल कुछ निजी लोगों ने राज्यसभा में महिला सांसदों पर हमले किये। उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा लगा जैसे ‘मार्शल कानून’ लगा हो। डीएमके के तिरुचि शिवा ने कहा कि उन्होंने दो दशक के अपने संसदीय जीवन में मानसून सत्र की ऐसी घटनाओं को नहीं देखा था। विपक्ष जनरल बीमा विधेयक पर विस्तार से चर्चा चाहता था और उसे प्रवर समिति में विस्तृत समीक्षा के लिए भेजा जाना चाहिये था, लेकिन इसे अव्यवस्था के बीच ही पारित करा दिया गया।

ये भी पढ़ें :

Related posts

Khunti: केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने 1.62 करोड़ से बनने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का भूमि-पूजन किया

Pramod Kumar

Dhanbad: स्कूलों को क्यों किया जा रहा परेशान, पूछा प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने

Pramod Kumar

CM नीतीश बोले- कोई भ्रम में ना रहे, पार्टी में सबकुछ ठीक है

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.