समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राजनीति

Raghubar Das का सरकार पर बड़ा हमला, कहा-सरकार के संरक्षण में हो रहा अवैध खनन का कारोबार

raghubar dass bigattack on government

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार 

Raghubar Das:पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास (Raghubar Das)  ने गुरुवार को अवैध खनन को लेकर राज्य सरकार पर हमला बोला।पत्रकारों से बात करते हुए रघुवर दास ने कहा कि 28 जनवरी को उन्होंने ग्रैंड माइनिंग कंपनी पर कुछ सवाल उठाये थे। इस संदर्भ में परिवार की भक्ति में लीन झामुमो नेता ने लोगों को गुमराह कर सच पर परदा डालने का प्रयास किया है। वास्तविकता यह है कि ग्रैंड माइनिंग कंपनी पर सरकार का आज भी आठ करोड़ रुपये बकाया है। बकाया वसूलना तो दूर कंपनी आज भी अवैध माइनिंग का काम कर रही है और पत्थर बांग्लादेश जा रहा है।

“बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभान अल्लाह”

उन्होंने कहा कि ग्रैंड माइनिंग कंपनी के डायरेक्टर कौन हैं, यह संथाल का बच्चा-बच्चा जानता है। इस मामले में एक ही कहावत सटीक बैठती है – बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभान अल्लाह।

“मामला अमानत में खयानत का है”

उन्होंने कहा कि आज के संवाददाता सम्मेलन का मुद्दा बहुत गंभीर है। यह मामला अमानत में खयानत का है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए मुख्यमंत्री रहते अपने नाम पर पत्थर खदान लीज की स्वीकृति लेने का काम किया है। उन्होंने रांची जिले के अनगड़ा मौजा, थाना नं-26, खाता नं- 187, प्लॉट नं- 482 में अपने नाम से पत्थर खनन पट्टा की स्वीकृति ली है। उपर्युक्त खनन पट्टा की स्वीकृति के लिए हेमंत सोरेन 2008 से ही प्रयासरत थे। उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद पत्रांक 615/M, दिनांक 16-06-2021 द्वारा पत्थर खनन पट्टा की स्वीकृति के लिए सैद्धांतिक सहमति के आशय का पत्र (एलओआइ) विभाग ने जारी कर दिया। जिला खनन कार्यालय द्वारा पत्रांक- 106, दिनांक 10-07-2021 को खनन योजना की स्वीकृति दी गई और उसके बाद हेमंत सोरेन ने दिनांक 09-09-2021 को SEIAA को आवेदन भेजा। स्टेट लेबल इंवायरमेंट इंपेक्ट असेसमेंट ऑथोरिटी (SEIAA) द्वारा दिनांक 14-18 सितम्बर 2021 को सम्पन्न 90वीं बैठक में पर्यावरण स्वीकृति की अनुशंसा की गई।

“मुख्यमंत्री का यह कार्य आपराधिक कृत्य है” 

रघुवर दास ने आगे कहा कि मुख्यमंत्री का यह कार्य गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी मंत्रियों के लिए आचार संहिता का उल्लंघन है। साथ ही भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 13(1)(डी) के तहत आपराधिक कृत्य है। केंद्र सरकार का यह कोड ऑफ कंडक्ट केंद्र सरकार के मंत्रियों व राज्य सरकार के मंत्रियों पर लागू होता है।

”जिस सीएम के अन्दर खान विभाग है, वही एलओआइ जारी करता है”

श्री दास ने कहा कि हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री के पद को पिछले दो साल से ज्यादा समय से संभाल रहे हैं और सरकारी सेवक के रूप में आते हैं। यह आश्चर्य है कि एक मुख्यमंत्री जिसके अंदर खान विभाग है, वही विभाग उन्हें पत्थर खनन पट्टा की स्वीकृति के लिए सैद्धांतिक सहमति का पत्र (एलओआइ) जारी करता है। जिला कार्यालय उनकी खनन योजना को स्वीकृत करता है। उनके अंदर का एक विभाग पर्यावरण स्वीकृति की अनुशंसा भी देता है।

“सरकारी सेवक हैं सीएम, यह पद का दुरूपयोग है” 

पूर्व मुख्यमंत्री ने इसे भ्रष्ट आचरण का अकाट्य प्रमाण बताते हुए कहा कि यह अपने फायदे के लिए मुख्यमंत्री के पद का दुरुपयोग है, जो कि धारा 7 (ए) भ्रष्टाचार निरोधक कानून अंतर्गत दंडनीय अपराध है। उन्होंने इसे धारा 169 आइपीसी का स्पष्ट उल्लंघन बताया। सरकार ने जिस जमीन की माइनिंग लीज दी है, वह सरकारी संपत्ति है और मुख्यमंत्री एक सरकारी सेवक हैं, इस नाते उनके द्वारा लीज लेना गैर कानूनी है।

“हेमंत सोरेन को सरकार के द्वारा लीज देना सरकार का कार्य करना है”

श्री दास ने आगे कहा कि हेमंत सोरेन ने लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 9 और संविधान के अनुच्छेद 191(ए) का भी उल्लंघन किया है। चूंकि पत्थर की माइनिंग बिना लीज के कोई आम आदमी नहीं कर सकता है, अतः हेमंत सोरेन को सरकार के द्वारा लीज देना सरकार का कार्य करना है। अतः धारा 9 (ए) के तहत हेमंत सोरेन को डिसक्वालीफाई करना चाहिए।

“भारत सरकार के कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघन” 

रघुवर दास ने सीएम हेमंत सोरेन को भारत सरकार के द्वारा जारी कोड ऑफ कंडक्ट के उल्लंघन का भी दोषी बताया। उन्होंने कहा कि कोड ऑफ कंडक्ट के अनुसार कोई भी मंत्री, मुख्यमंत्री किसी तरह का व्यापार नहीं कर सकता है। फिर भी हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री के पद पर रहते हुए और सरकार चलाते हुए अपने नाम से व्यापार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन द्वारा जनता के विश्वास एवं प्रजातांत्रिक व्यवस्था का घोर उल्लंघन किया जा रहा है। जनता की भलाई करने की जगह हेमंत सोरेन खुद की भलाई में लगे हैं। ऐसा करने में उन्हें कोई संकोच भी नहीं है।

“नैतिकता शेष है, तो अपने पद से इस्तीफा दें” 

उन्होंने आगे कहा कि यब सब जानते-मानते हैं कि लोकराज लोकलाज से चलता है। लेकिन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन लोकलाज छोड़कर अपनी तिजोरी भरने में लगे हैं। लेकिन अब उनका कच्चा चिट्ठा सामने आ गया है। इसलिए यदि उनके पास थोड़ी भी नैतिकता शेष है, तो उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।

“कातिल ही मुहाफिज है, कातिल ही सिपाही है”

श्री दास ने अंत में शायरना अंदाज में सीएम हेमंत सोरेन पर पर तंज कसते हुए कहा कि “शीशे की अदालत में पत्थर की गवाही है,
कातिल ही मुहाफिज है, कातिल ही सिपाही है।”

ये भी पढ़ें : Jio ने यूजर्स की करा दी चांदी! पाएं Jio का सबसे सस्ता 1GB डेटा प्लान, फ्री कॉल सहित मिलेंगे इतने फायदे कि झूम उठेंगे आप

 ये भी पढ़ें : RBI MPC Meet: अभी नहीं बढ़ेगा EMI का बोझ, 2 साल से रेपो रेट स्थिर

Related posts

रेमडेसिविर कालाबाजारी मामले में हाईकोर्ट ने सुनवाई के दौरान जताई नाराजगी

Manoj Singh

इन राज्‍यों में जनसंख्‍या नियंत्रण के लिए बनी है Two Child Policy, जानें कहां और किस रूप में है लागू

Manoj Singh

99 प्रतिशत लोगों को लग रहा है कि ये गधा है, मगर इसकी सच्चाई कुछ और है, आपको क्या लगता है…10 मिनट में बताएं

Manoj Singh