समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

CM Hemant Soren के निर्देश पर काम के बहाने बंधक बनाए गए मजदूरों की हुई रिहाई, श्रमिकों ने जताया आभार

Hemant Soren

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड -बिहार

★आंध्रप्रदेश में बंधक बनाकर रखे गए चाईबासा के 16 श्रमिक मुक्त होने के बाद लौट रहे झारखंड
★श्रमिकों को 15 दिनों की मजदूरी का भुगतान भी कराया गया
★मुख्यमंत्री Hemant Soren के प्रति श्रमिकों ने जताया आभार

रांचीः मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन (Hemant Soren) के निर्देश के बाद देश के विभिन्न प्रदेशों में काम करने गए झारखंडवासियों की हित रक्षा के लिए राज्य प्रशासन मुस्तैद है। इसी क्रम में राज्य सरकार के प्रयासों से आंध्रप्रदेश के आइस आइलैंड में बंधक बनाकर रखे गये चाईबासा (Chaibasa) के 16 श्रमिकों को मुक्त कराया गया है। सभी श्रमिकों को वापस झारखण्ड लाया जा रहा है।

काम के बहाने ले जाकर बंधक बना लिया गया था

सूचनानुसार आंध्रप्रदेश (Andhra Pradesh) के श्रमिकों को आइस आइलैंड में काम के बहाने ले जाकर बंधक बना लिया गया था। मुख्यमंत्री (Hemant Soren) ने मामले की जानकारी मिलते ही श्रम अधीक्षक चाईबासा और श्रम विभाग, झारखण्ड के राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष को अविलंब श्रमिकों की घर वापसी करने का निर्देश दिया। उनके निर्देशानुसार प्रवासी नियंत्रण कक्ष ने आंध्रप्रदेश के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाया। इसके बाद आंध्रप्रदेश पुलिस और वहां के श्रम विभाग की टीम ने छापेमारी कर श्रमिकों को मुक्त कराया।

22 घंटे तक करना पड़ता था काम

श्रमिकों को एक ठेकेदार अच्छा काम दिलाने के नाम पर आंध्रप्रदेश लेकर गया था। वहां पहुंचने पर सभी श्रमिकों को इधर-उधर घुमाया गया। फिर आइस आईलैंड में मछली पालन के काम में लगा दिया गया। वहां उनसे 22 घंटे काम लिया जाता था। श्रमिकों के अनुसार उनसे रात में भी काम कराया जाता था। काम पर नहीं जाने पर उनके साथ दुर्व्यवहार और मारपीट की जाती थी। कार्यस्थल पर पीने का साफ पानी भी नहीं मिलता था। सभी को गंदा पानी पीकर रहना पड़ता था। खाना भी ठीक से नहीं मिलता था। तंग आकर श्रमिकों ने इस हालत में काम नहीं करने और वापस झारखण्ड लौटने की बात ठेकेदार से कही। इसपर श्रमिकों से दुर्व्यवहार करते हुए उन्हें बंधक बना लिया गया। मजदूरी का पैसा भी नहीं मिला। खाना भी बंद कर दिया गया था।

मुक्त कराए गए मजदूर

बैजनाथ मुर्मू , मजदूर

श्रमिकों को 15 दिनों की मजदूरी मिली

राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष की पहल पर श्रमिकों को 15 दिनों का कुल पारिश्रमिक 48,000 रुपये का भुगतान करा दिया गया है। सभी श्रमिक विजयवाड़ा स्टेशन से 2 दिसंबर की सुबह ट्रेन से झारखण्ड के लिए रवाना हो चुके हैं। श्रमिकों ने एक वीडियो के माध्यम से मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन (Hemant Soren) और राज्य सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया है।

ये भी पढ़ें : तूफान Jawad के कारण 3 और 4 दिसंबर के लिए Delhi-Bhuvneshwar Rajdhani Express अप-डाउन के साथ ही ये 95 ट्रेनें रद्द, देखें पूरी लिस्ट

 

Related posts

Jharkhand हुआ Unlock: रविवार को अब नहीं होगी बंदी, दीपावली और छठ को लेकर भी मिली छूट

Sumeet Roy

कोरोना का मचा कोहराम, 90,928 नये मामलों ने बजायी खतरे की घंटी, 325 की मौत से सहमा देश

Pramod Kumar

JPSC PT Result 2021: जेपीएससी पीटी में 4293 अभ्यर्थी हुए सफल, यहां देखें रिजल्‍ट

Manoj Singh