समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

कौन होगा भारत का अगला राष्ट्रपति ? सोशल मीडिया पर तेज़ हुई चर्चा, इनको बनाने की हो रही मांग

Presidential Election 2022 know who will be the next president of India

Presidential Election 2022: चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति चुनाव के तारीख का ऐलान कर दिया है. 18 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव होंगे और 21 जुलाई को देश को नए राष्ट्रपति मिल जाएंगे. 29 जून नामांकन की आखिरी तारीख होगी.

वोट देने के लिए 1,2,3 लिखकर बतानी होगी पसंद
गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अधिसूचना जारी कर दी गई है. चुनाव में वोटिंग के लिए विशेष इंक वाला पेन मुहैया कराया जाएगा. वोट देने के लिए 1,2,3 लिखकर पसंद बतानी होगी. पहली पसंद ना बताने पर वोट रद्द हो जाएगा. कल होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए भी चुनाव आयोग कलम देगा.

विपक्ष किसे बनाएगा अपना उम्मीदवार?

निर्वाचन आयोग ने चुनाव की तारीख 18 जुलाई निर्धारित की है और यदि एक से अधिक उम्मीदवार मैदान में होंगे तो फिर मतदान कराया जाएगा. राष्ट्रपति चुनाव में किस गठबंधन का उम्मीदवार जीतेगा, इससे अधिक राजनीतिक विमर्श का विषय यह है कि सत्ताधारी गठबंधन और विपक्षी गठबंधन अपना उम्मीदवार किसे बनाते हैं.

मोहम्मद खान और अमिताभ बच्चन का नाम शामिल

इन चर्चाओं, विशेषकर सोशल मीडिया में उम्मीदवार के रूप में जिन नेताओं या हस्तियों के नाम की चर्चा सबसे अधिक है उनमें केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान से लेकर फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन तक शामिल हैं.

ट्विटर पर कुछ लोगों ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में मूल रूप से ओड़िशा की रहने वाली दो बार की विधायक व एक बार राज्यमंत्री के रूप में कार्य कर चुकीं और झारखंड की पहली महिला राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसूईया उइके तो कुछ ने रतन टाटा और कुछ ने उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के नाम भी सुझाए हैं.

रामनाथ कोविंद ने मीरा कुमार को हराया था

पिछला राष्ट्रपति चुनाव 2017 में 17 जुलाई को हुआ था और मतगणना 20 जुलाई को हुई थी. रामनाथ कोविंद ने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष और विपक्षी दलों की उम्मीदवार मीरा कुमार को हराया था. कोविंद की उम्मीदवारी की घोषणा से पहले राजनीतिक गलियारों में कई नामों की चर्चा जोरों पर थी लेकिन जब तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद उनके नाम की घोषणा की थी तो सभी आश्चर्य में पड़ गए थे.

केंद्र में सत्ता में आने के बाद विभिन्न मौकों पर नेता के चयन में भाजपा नेतृत्व ने चौंकाने वाले फैसले किए हैं. राष्ट्रपति के रूप में कोविंद के चयन को कभी भी भाजपा के हिन्दुत्व के विमर्श को आगे बढ़ाने के रूप में नहीं देखा गया बल्कि उस वक्त उसे इस रूप में देखा गया था कि भाजपा ने समाज के एक वंचित व पिछड़े वर्ग के लोगों का दिल जीतने के एक महत्वाकांक्षी अभियान के तहत उनके नाम को आगे बढ़ाया था. इसके बाद हुए चुनावों में भाजपा को लगातार मिली सफलता भी यह दर्शाती है कि वह समाज के उन वर्गों की एक बड़ी संख्या को अपनी ओर करने में सफल भी रही है.

राजनीतिक पर्यवेक्षकों का मानना कि यह देखना दिलचस्प होगा कि राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार के चयन में भाजपा अपने मुख्य वैचारिक मुद्दों को तरजीह देती है या फिर ऐसे व्यक्ति का चयन करती है जो उसके चुनावी गणित में फिट बैठता हो, या फिर वह उम्मीदवार उसके प्रमुख समर्थकों में हो या फिर वह किसी नए समूह में पार्टी की पैठ को मजबूत करने से प्रेरित हो.

किसी महिला को उम्मीदवार बना सकती है भाजपा

लंबे समय से ये अटकलें है कि भाजपा इस बार जनजातीय समुदाय से किसी व्यक्ति को या फिर किसी महिला को अपना उम्मीदवार बना सकती है. वैसे भी भाजपा का शीर्ष नेतृत्व उम्मीदवारों के चयन के मामले में परंपरा के विपरित भी फैसले लेता रहा है. हो सकता है कि वह कोविंद को ही पुन: इस पद के लिए आगे कर दें लेकिन दस्तूर यह भी रहा है कि देश के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद को छोड़कर किसी भी राष्ट्रपति का दो कार्यकाल नहीं रहा है.

भाजपा सूत्रों ने कहा कि उसके वरिष्ठ नेता विपक्ष सहित सभी दलों से संपर्क करेंगे ताकि शीर्ष संवैधानिक पद के लिए आम सहमति बन सके. मौजूदा आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक भाजपा के कुल 392 सांसद हैं. इनमें राज्यसभा के चार मनोनीत सदस्य शामिल नहीं है क्योंकि वे राष्ट्रपति चुनाव में मतदान नहीं कर सकते. दोनों सदनों के वर्तमान कुल 772 सदस्यों में, भाजपा के पास बहुमत है.

चूंकि लोकसभा में अभी तीन और राज्यसभा में 13 सीट खाली हैं, लिहाजा चुनाव की तारीख तक इन आकंड़ों में बदलाव होना लाजिमी है. सांसदों के मतों के मामले में भाजपा की स्थिति संसद में और मजबूत हो जाती है जबकि जनता दल यूनाईटेड (21 सांसद), राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी, अपना दल और पूर्वोत्तर के कई अन्य सहयोगी दलों के मत जुड़ जाएंगे.

आम आदमी पार्टी ने किया है ये बड़ा दावा

बहरहाल, आम आदमी पार्टी (आप) के नेता और दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री सोमनाथ भारती ने विश्वसनीय सूत्रों का हवाला देते हुए दावा किया कि खान इस पद के लिए सबसे मजबूत दावेदारों में शुमार हैं. उन्होंने ट्वीट किया, ‘विश्वसनीय सूत्रों से पता चला है कि केरल के वर्तमान राज्यपाल जनाब आरिफ मोहम्मद खान भारत के राष्ट्रपति पद के लिए सबसे मजबूत दावेदार हैं. यह विश्वास करने लायक भी है. असामाजिक तत्वों के कारण भारत विरोधी धारणा जो दुनिया भर में निर्मित हो रही है, नरेंद्र मोदी जी उसकी काट ढूंढ़ रहे हैं.’

भाजपा में अभी तक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर कोई औपचारिक चर्चा भी आरंभ नहीं हुई है. हालांकि, इस बारे में जब एक भाजपा नेता से बात की गई तो उन्होंने कहा कि ऐसे फैसले भाजपा के संसदीय बोर्ड में लिए जाते हैं और फिर उनकी जीत सुनिश्चित करने के लिए सभी दलों में आम राय बनाई जाती है.

उन्होंने कहा, ‘सोशल मीडिया पर भले ही कई नामों की चर्चा हो लेकिन भाजपा में इस बारे में कोई चर्चा नहीं हुई है. पिछले राष्ट्रपति चुनाव में भी आप लोगों ने देखा होगा क्या हुआ था. मोदी जी के फैसले अक्सर चौंकाने वाले होते हैं.’

आरिफ मोहम्मद खान का नाम ट्विटर पर हुआ ट्रेंड

चुनाव की घोषणा के कुछ घंटे के भीतर ही आरिफ मोहम्मद खान (Arif Mohammad Khan) का नाम भारत में ट्विटर पर 10 शीर्ष में ट्रेंड करने लगा. ट्विटर यूजर रिटायर्ड मेजर अमित बंसल ने एक ट्वीट में कहा, ‘निजी तौर पर मेरा मानना है कि राष्ट्रपति पद के लिए सबसे योग्य उम्मीदवार आरिफ मोहम्मद खान हैं. मैं उन्हीं के शहर से आता हूं और उन्हें जानता हूं, इसलिए दावे के साथ कह सकता हूं. भारत उनकी रगों में दौड़ता है. भारत उनके दिमाग में छाया रहता है और वह एक सच्चे देशभक्त हैं, जो देश को नयी ऊंचाइयों पर ले जा सकता है.’

इसे भी पढें: भारत के 16वें राष्ट्रपति का चुनाव 18 जुलाई को, चुनाव आयोग ने अधिसूचना की जारी

Presidential Election 2022 Presidential Election 2022 Presidential Election 2022

Related posts

Karishma Tanna ने बिकिनी में दिए ऐसे पोज, हॉटनेस से पिघला इंटरनेट

Manoj Singh

UP Election: यूपी में पहले चरण का मतदान जारी, 58 में से 38 सीटें हैं खास, जानें कौन किसे दे रहा टक्कर

Pramod Kumar

CM हेमंत सोरेन ने पीएम मोदी को पत्र लिख राज्य के लिए अनुशंसित राशि रिलीज करने का किया आग्रह

Manoj Singh