समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

मल्लिकार्जुन खड़गे से मिले झारखंड पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष, पेट्रोल पर VAT कम करने की मांग की

झारखंड पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन (Jharkhand Petroleum Dealers Association) के अध्यक्ष सह वरीय कांग्रेस नेता अशोक कुमार सिंह (Ashok Kumar Singh) ने दिल्ली में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष (Congress National President) मल्लिकार्जुन खड्गे (mallikarjun khadge) से मिलकर झारखंड प्रदेश में डीजल, पेट्रोल पर वैट(VAT) कम करने की मांग की है. उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष को याद दिलाया है कि 2019 के विधान सभा चुनाव में कांग्रेस के घोषणा पत्र में यह मुख्य मुद्दा था. लेकिन झारखंड में सरकार बनने के बाद लगातार अनुरोध के बाद भी इस पर ध्यान नहीं दिया गया. नतीजा है कि राज्य का राजस्व घट रहा है और जनता महंगे, पेट्रोल डीजल खरीद रही है. प्रदेश में महंगाई पर भी इसका सीधा असर पड़ा है. ढुलाई महंगी होने से जिंसों के दाम अधिक हो गए है. पत्र में उन्होंने यह भी कहा है कि 22% वैट की दर तत्कालीन रघुवर सरकार ने 24 फरवरी 2015 को लागू किया था. लेकिन झारखंड पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अनुरोध पर 2018 में प्रति लीटर 2.5 रुपए का रिबेट देने का ऐलान किया.

रघुवर सरकार ने दिया था रिबेट लेकिन हेमंत सरकार ने लिया वापस

इससे आमजन को काफी राहत मिली थी. लेकिन वर्तमान झारखंड की हेमंत सरकार (Hemant GOVT.) ने कार्यभार संभालते ही रिबेट को वापस ले लिया. यह आदेश कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र के खिलाफ था. बावजूद कोई ध्यान नहीं दिया गया. एसोसिएशन ने इस संबंध में मुख्यमंत्री, झारखंड के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, झारखंड के तत्कालीन इंचार्ज आरपीएन सिंह, अभी के इंचार्ज अविनाश पांडे सहित अन्य नेताओं को भी चुनाव के समय के वादे को याद कराया. लेकिन कार्रवाई नहीं हुई.

‘राजस्थान, छत्तीसगढ़ सरकार ने वैट में कमी की है’

पत्र में यह भी कहा गया है कि राजस्थान, छत्तीसगढ़ सरकार ने वैट में कमी की है, लेकिन झारखंड सरकार वैट में कोई कमी नहीं की. पत्र में झारखंड एवं अगल-बगल के प्रदेशों में वैट की दर का भी जिक्र किया गया है. लिखा गया है कि झारखंड में बिक्री मूल्य पर 22% या 12.50 रुपए प्रति लीटर (जो अधिक हो) के अतिरिक्त ₹1 प्रति लीटर सेस से निर्धारित है, जबकि बिहार में 16.37% या 12.33 रुपया प्रति लीटर (जो अधिक हो) दर लागू है. उत्तर प्रदेश में यह दर 17.8% या ₹10 . 41 प्रति लीटर (जो अधिक हो) लागू है. इसी प्रकार पश्चिम बंगाल में 17% या 7.70 रुपये (जो अधिक हो ) लागू है.

‘बगल के राज्यों में वैट की दर झारखण्ड से कम’

उन्होंने कहा है कि बगल के प्रदेशों में वैट की दर कम होने से झारखंड के राजस्व में लगातार कमी हो रही है. पश्चिम बंगाल में तो दर सबसे अधिक कम है, झारखंड से सटे होने के कारण यहां के लोग बंगाल से पेट्रोल, डीजल खरीद रहे है. लेकिन सरकार का इस ओर कोई ध्यान नहीं है. उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष से इस पर अविलंब ध्यान देने की मांग की है. आपको बता दें कि झारखंड में अगर वैट की दर कम हो जाए, तो जो लोग बगल के प्रदेशों से पेट्रोलियम उत्पाद की खरीद करते हैं, वह झारखंड में ही करेंगे और झारखंड की बिक्री बढ़ने से राजस्व में स्वभाविक तौर पर बढ़ोतरी होगी. यह बात झारखंड सरकार को बार-बार बताया गया, आंकड़ा देकर समझाया गया, लेकिन सरकार अपने निर्णय पर अडिग है. ऐसे में कांग्रेस पार्टी को भी नुकसान हो रहा है और प्रदेश के राजस्व का भी. एसोसिएशन का दावा है कि वैट कम कर देने से बिक्री इतनी अधिक बढ़ जाएगी कि वर्तमान के राजस्व से अधिक आमदनी राज्य सरकार को होने लगेगी,इससे जनता को भी राहत मिलेगी और कांग्रेस पार्टी को भी फायदा होगा. कांग्रेस पार्टी के प्रति झाखंड की जनता का भरोसा भी बढ़ेगा.

ये भी पढ़ें : Bokaro: नहीं मिली एंबुलेंस, तो 10 साल के मासूम ने बीमार दादी को ठेले में लाद पहुंचा अस्पताल

 

Related posts

Jharkhand: ‘खतियानी जोहार यात्रा’ के दूसरे चरण में निकलेंगे सीएम हेमंत सोरेन, 17 जनवरी से होगी शुरुआत

Pramod Kumar

Adani Group के पीछे SEBI, RBI, मोदी सरकार और संसद में सरकार के पीछे पड़ा विपक्ष चर्चा पर अड़ा

Pramod Kumar

Uniform Civil Code: समान नागरिक संहिता पर खुला मोर्चा, क्या यह सचमुच देश की जरूरत है?

Manoj Singh