समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

हर सरकार में खासमखास पावर ब्रोकर बना रहा Prem Prakash, सियासी सर्किल में ऐसे बनाई पैठ

image source : social media

Prem Prakash Jharkhand : झारखंड में खनन घोटाले(mining scam in jharkhand) को लेकर ED की रेड चल रही है। सीएम हेमंत सोरेन(CM hemant soren) के करीबी प्रेम प्रकाश (Prem Prakash) के रांची स्थित आवास समेत करीब 11 ठिकानों पर छापेमारी की  कार्रवाई  चल रही है। प्रेम प्रकाश के घर तिजोरी से 2 एके-47 राइफल बरामद की गई हैं। 30 कारतूस भी मिली हैं। इसकी तस्वीरें सामने आई हैं। प्रेम प्रकाश के पुराने दफ्तर पर भी छानबीन जारी है। यह ऑफिस पिछले कुछ दिनों से बंद है। प्रेम प्रकाश की झारखंड की राजनीति में मजबूत पैठ मानी जाती थी। इससे पहले भी ED ने प्रेम को पूछताछ के लिए बुलाया था। हालांकि, कुछ घंटे सवालात के बाद ED ने उसे छोड़ दिया था।

ईडी पहले भी कर चुकी है छापेमारी

गौरतलब है कि इसके पहले 25 मई को भी ईडी ने प्रेम प्रकाश और एक अन्य व्यवसायी के पांच ठिकानों पर छापामारी कर कई दस्तावेज और कीमती सामान बरामद किया था। इसके बाद प्रेम प्रकाश से कई राउंड की पूछताछ भी हुई थी। इसके पहले झारखंड की सीनियर आईएएस पूजा सिंघल और उनके सहयोगियों के दो दर्जन ठिकानों पर छापामारी के बाद ईडी ने झारखंड में 100 करोड़ से अधिक के माइनिंग घोटाले का पता लगाया था। सूत्रों के मुताबिक ईडी के ताजा छापों की कड़ियां इस मामले से भी जुड़ रही हैं।

किस मामले में हो रही है कार्रवाई
ED की रेड अवैध खनन व रंगदारी के मामले में चल रही है। दरअसल, निलंबित आईएएस पूजा सिंघल के खिलाफ मनी लांड्रिंग मामले में जांच कर रही ईडी की टीम ने नेताओं और नौकरशाहों के करीबी रहे प्रेम प्रकाश के ठिकानों पर छापेमारी की। टीम को कई कागजात और मोबाइल फोन मिले हैं।

लालू प्रसाद के आवास में मोबाइल चोरी का लग चुका है आरोप 

एक बार बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के आवास में मोबाइल चोरी का आरोप प्रेम प्रकाश पर लगा था। तब लालू के गार्ड ने उनकी धुनाई कर दी थी। प्रेम प्रकाश बिहार के सासाराम जिले का रहने वाला है।सूत्रों के  मुताबिक प्रेम प्रकाश ने कई ब्यूरोक्रेट्स से इतने घनिष्ठ सम्बन्ध थे कि अक्सर वह  इनके साथ महंगी शराब की जाम के साथ महफिल सजाया करता था। उनका संबंध झारखंड के पूर्व मुख्य सचिव स्तर के एक अधिकारी से था। इसी के सहारे पहले वह कई आईएएस अफसरों के संपर्क में आया और फिर सीधे मुख्यमंत्री तक अपनी पहुंच बना ली।

मनी लांड्रिंग का बड़ा खिलाड़ी माना जाता है

प्रेम प्रकाश मनी लांड्रिंग का बड़ा खिलाड़ी माना जाता है। उस पर आरोप है कि उसने झारखंड के कई बड़े राजनेताओं व नौकरशाहों का कालाधन सफेद करने का काम किया है।

पार्टियों में लड़कियां लाने का भी है आरोप  

बरियातू थाने के पीछे एक अपार्टमेंट के पेंट हाउस में वह हमेशा बड़ी-बड़ी पार्टियां आयोजित किया करता था। इसमें झारखंड के कई बड़े नेता-विधायक और अफसर शामिल होते थे। आरोप ये भी है कि इन पार्टियों में लड़कियां भी लाई जाती थीं। इन पार्टियों के जरिए प्रेम प्रकाश ने पूरे झारखंड में अपनी अलग पहचान बना ली। उनके एक इशारे पर सरकार और प्रशासनिक फैसले प्रभावित हो जाते थे।

image source : social media
image source : social media

अंडा सप्लाई करने वाले से पावर ब्रोकर बना प्रेम प्रकाश 

एक समय वह झारखंड में मिड डे मील योजना में अंडा आपूर्ति करने का ठेका भी ले चुका है।अंडे के व्यापार से प्रेम प्रकाश शराब के कारोबार तक पहुंचा। आज भी उसके ऊपर सात करोड़ के शराब की रेवेन्यू बकाया है। लेकिन उसे वसूलने वाला विभाग मौन साधे हुए है। कभी मिड डे मील में अंडा सप्लाई का काम करने वाला प्रेम प्रकाश 8 साल में झारखंड में सत्ता का दलाल बन गया। IAS-IPS अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग से लेकर कई ठेकों को मैनेज करने में प्रेम प्रकाश का बड़ा रोल रहा है। 8 साल पहले 2015-16 में मिड डे मील के लिए प्रेम प्रकाश अंडा आपूर्ति का काम  करता था।

image source : social media
image source : social media

धोनी के घर के नजदीक बनवाया  बंगला
प्रेम प्रकाश ने रांची स्थित भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के घर के पास ही आलीशान बंगला बनवाया है। बताया जाता है कि ये बंगला  महेंद्र सिंह धोनी के नए बंगले की तरह है।

ये भी पढ़ें: प्रेम प्रकाश के घर से ED की रेड के दौरान 2 AK 47 राइफल बरामद, झारखंड-बिहार समेत कई ठिकानों पर छापेमारी जारी

 

 

Related posts

Radhe Shyam ने दूसरे ही दिन पार किया 100 करोड़ का जादुई आंकड़ा, Box Office पर छाए प्रभास

Manoj Singh

Holi 2022: होली के जश्न में डूबा पूरा देश, राष्ट्रपति, PM मोदी, झारखंड CM हेमंत सोरेन समेत शीर्ष नेताओं ने दी शुभकामनाएं

Sumeet Roy

Tribal Festival: जनजातीय महोत्सव पर मांदर की थाप पर गूंज उठा झारखंड केंद्रीय विश्वविद्यालय

Pramod Kumar