समाचार प्लस
Breaking

Power Crisis in Jharkhand: झारखंड में गंभीर बिजली संकट, बिजली कटौती से लोग त्रस्त

Power Crisis in Jharkhand: झारखंड में बिजली संकट (Power crisis) गहराता जा रहा है.रांची सहित झारखंड के विभिन्न जिलों में बिजली संकट से लोग परेशान हैं. बिजली की आपूर्ति बंद होने से देर शाम होते ही लोड शेडिंग से लोग परेशान (load shedding in ranchi) हैं. पिछले महीने से ही राज्यभर में खासकर पीक आवर में लगातार 500 मेगावाट की लोड शेडिंग की जा रही है. परिणामस्वरूप, पहले जहां दो-तीन घंटे बिजली कटती थी, वह बढ़कर छह घंटे तक हो गयी है. स्थिति यह है कि सुबह 5:00 बजे से 10:00 बजे के बीच तीन-चार घंटे और शाम 5:00 बजे से रात 10:00 बजे के बीच तीन-चार घंटे बिजली कट रही है.बिजली विभाग के अधिकारियों के मुताबिक वर्तमान में एनटीपीसी की एक यूनिट बंद और हाइड्रो पावर से बिजली सप्लाई नहीं होने के कारण राज्य में करीब 400 मेगावाट बिजली की आपूर्ति नहीं हो पा रही है.

इन जिलों में भी हो रही लोड शेडिंग 

जमशेदपुर, देवघर  और दुमका में भी छह घंटे तक की लोड शेडिंग की जा रही है. खूंटी, पश्चिमी सिंहभूम, गुमला,  सिमडेगा, लातेहार, गढ़वा, पलामू, जामताड़ा, गोड्डा, साहिबगंज, पाकुड़ में आठ से 10बजे तक शेडिंग हो रही है.

राजस्थान के सोलर पावर से होती है बिजली सप्लाई

बिजली विभाग के अधिकारियों का यह भी कहना है कि चूंकि राजस्थान की गर्मी से दिन के समय में सोलर पावर से बिजली सप्लाई की जाती है, लेकिन सूर्यास्त होते ही सोलर सिस्टम काम नहीं करता जिस वजह से करीब 200 मेगावाट बिजली की आपूर्ति बाधित हो जाती है. इसलिए कई बार कुछ इलाकों में लोडशेडिंग कर दूसरे जगह पर बिजली आपूर्ति पूरी की जाती है. अधिकारियों ने बताया कि 1400 से 1500 मेगावाट बिजली प्रतिदिन राजधानी में खर्च होता है तो वहीं शाम के समय की बात करें तो बिजली का लोड और भी अधिक बढ़ जाता है. दूसरी ओर बिजली का उत्पादन शाम के समय कम हो जाता है. इसलिए इन दिनों लोड शेडिंग की समस्या देखने को मिल रही (load shedding in ranchi) है.

बिजली खरीद पर लगी है रोक

वहीँ इलेक्ट्रिसिटी रूल्स-2022 के तहत केन्द्रीय ऊर्जा मंत्रालय ने JBVNL को पीक ऑवर में अतरिक्त बिजली खरीदने पर रोक लगा दी है. वहीँ 205 करोड़ रूपये के बकाया होने के कारण डीवीसी को भी 10 प्रतिशत बिजली कटौती का निर्देश दिया गया है.

ये भी पढ़ें : Jharkhand: बड़ी खबर! 31 दिसम्बर 2019 से पहले बने सभी मकान होंगे नियमित, CM हेमंत ने दी सैद्धांतिक मंजूरी

 

 

 

Related posts

NEET PG 2021 Counselling: रेजिडेंट डॉक्टरों से मिले स्वास्थ्य मंत्री मांडविया,किया आग्रह -जनहित में अपना विरोध खत्म करें

Manoj Singh

Jharkhand: Sexual Harassment मामले में IAS अधिकारी गिरफ्तार, भेजे गए जेल

Manoj Singh

Jharkhand: सभी जरूरतमंद यूनिवर्सल पेंशन योजना से जुड़ेंगे, हर माह की 5 तारीख को मिलेगी पेंशन

Manoj Singh